0

अमरनाथ यात्रा पर संशय के बादल, पंजीकरण 31 मई तक स्थगित

गुरुवार,मई 28, 2020
0
1
देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को उत्तराखंड देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड से कहा कि चारों हिमालय धामों के दर्शन के इच्छुक श्रद्धालुओं को गर्भगृह को छोड़कर बाकी मंदिर परिसर के ऑनलाइन दर्शन और ऑडियो के माध्यम से ...
1
2
ललितपुर। बुंदेलखंड की अयोध्या के तौर पर प्रसिद्ध ओरछा दुनिया का ऐसा इकलौता मंदिर है जहां मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की पूजा राजा के रूप में होती है और स्थानीय नियमित रूप से अपने राजा को सलामी देकर दिन की शुरुआत करती है।
2
3
उज्जैन। महाकालेश्वर में महाशिवरात्रि पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ दिखाई दे रही है। मंदिर में महाशिवरात्रि पर्व 21 व 22 फरवरी को मनाया जा रहा है। इस दौरान 44 घंटे मंदिर के पट खुले रहेंगे। श्रद्धालु भगवान के दर्शन कर सकेंगे। गर्भगृह में पुजारियों का ही ...
3
4
देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हरिद्वार में अगले साल होने वाले कुंभ में शाही स्नान की तिथियां घोषित कर दी हैं। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कुंभ के सफल आयोजन के लिए साधु और संतों का भी समर्थन मांगा।
4
4
5
जम्मू। त्रिकुटा पहाड़ियों पर स्थित वैष्णोदेवी मंदिर की पुरानी और प्राकृतिक गुफा श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए बुधवार से खोल दी गई।
5
6
इलाहाबाद। 'माघ मकर गति रवि जब होई, तीरथ पतिहिं आव सब कोई' के पुण्य आवाहन के साथ माघ मेले में पौष पूर्णिमा के पावन स्नान के साथ ही संयम, अहिंसा, श्रद्धा एवं कायाशोधन के लिए तीर्थराज प्रयाग में गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती की रेती पर 'कल्पवासियों का ...
6
7
जम्मू। अगर आप नववर्ष मनाने के लिए वैष्णोदेवी की यात्रा पर आ रहे हैं तो पहले रहने की व्यवस्था जरूर कर लें, वरना भटकना पड़ेगा। ऐसा इसलिए है, क्योंकि वैष्णोदेवी में नववर्ष मनाने की चाहत रखने वालों ने पहले ही जो बुकिंग करवा ली हुई है, उसके चलते 28 दिसंबर ...
7
8
डॉ. हरिसिंह गौर विश्वविद्यालय में 8 से 10 दिसंबर के बीच दुनियाभर के अद्वैत वेदांत दर्शन के प्रतिष्ठित दार्शनिक, विद्वान, शिक्षाविद और आध्यात्मिक गुरु एकत्रित होंगे। वे यहां पहली बार आयोजित इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस अद्वैत उत्सव में शामिल होंगे।
8
8
9
देहरादून। उत्तराखंड मंत्रिमंडल ने बुधवार को उच्च हिमालयी क्षेत्रों में स्थित चारधाम सहित प्रदेश के 50 से अधिक प्रसिद्ध मंदिरों के संचालन के लिए चारधाम श्राइन बोर्ड के गठन को अपनी मंजूरी दे दी। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बद्रीनाथ, केदारनाथ, ...
9
10
प्रयागराज। प्रयागराज में 2020 में होने वाले माघ मेले को विश्व में पहचान दिलाने के लिए सरकार व जिला प्रशासन ने ठोस कदम उठाना शुरू कर दिए हैं जिसके चलते प्रयागराज जिला प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। माघ मेले को लेकर बैठकों का दौर जारी हो चुका है ...
10
11
महाराष्ट्रीयन परिवारों में खास माना जाने वाला महालक्ष्मी व्रत इस वर्ष 5 सितंबर 2019, दिन गुरुवार से प्रारंभ हो गया है। इस तीन दिवसीय पर्व का विसर्जन, 7 सितंबर 2019, शनिवार को होगा।
11
12
26 अगस्त 2019, सोमवार से श्वेतांबर जैन समाज के पर्युषण पर्व शुरू हो गए है, जो कि 2 सितंबर तक मनाए जाएंगे। इस दौरान सुबह पूजा-पक्षाल, व्याख्यान होगा तथा शाम को प्रतिक्रमण और
12
13
तिरुपति (आंध्रप्रदेश)। अमेरिका में रहने वाले 2 भारतीय उद्यमियों ने तिरुमला के निकट स्थित प्रसिद्ध भगवान वेंकटेश्वर मंदिर को 14 करोड़ रुपए दान किए हैं। मंदिर के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।
13
14
पंचक आज से शुरू होकर 24 जुलाई तक चलेंगे। धार्मिक मान्यता के अनुसार पंचक में काष्ठ खरीदना और कावड़ उठाना निषेध है।
14
15
उज्‍जैन। मध्यप्रदेश के उज्जैन में भगवान महाकालेश्वर मंदिर में श्रावण मास के पहले दिन बुधवार को 1,000 से अधिक दर्शनार्थी भस्‍म आरती में शामिल हुए और दर्शन कर पूजा-अर्चना की।
15
16
जम्मू। अमरनाथ यात्रा में श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या ने हिमलिंग के अस्तित्व के लिए खतरा बढ़ा दिया है, क्योंकि इससे हिमलिंग के वक्त से पहले गायब होने की आशंका है। कई सालों से ऐसा देखने को मिल चुका है कि श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या से हिमलिंग समय से पहले ...
16
17
ऐसी आशंका व्यक्त की जा रही है कि केदारनाथ और बद्रीनाथ का क्षेत्र कई भूगर्भीय हलचल के कारण लुप्त हो जाएंगे। लगातार बदल रही वहां की प्रकृति, भूस्खलन, ग्लेशियर के पिघलने और धरती के नीचे खिसकती जा रही भारतीय प्लेट के कारण संभवत: ऐसा हो? दूसरी ओर हाल ही ...
17
18
जम्मू। अमरनाथ यात्रा की सकुशलता की खातिर की जा रही मॉक ड्रिल दहशत पैदा कर रही है। ऐसा दहशत का माहौल अबकी बार कश्मीर में ही नहीं बल्कि जम्मू के कई इलाकों में भी है, जहां सुरक्षाबल इसलिए सुरक्षा की मॉक ड्रिल कर रहे हैं ताकि कहीं कोई चूक न रह जाए।
18
19
जम्मू। अगर यह कहा जाए कि अमरनाथ यात्रा और प्रकृति के कहर का साथ जन्म-जन्म का है तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। हर साल औसतन 100 के करीब श्रद्धालु प्राकृतिक हादसों में जानें कई सालों से गंवा रहे हैं।
19