LoC पर पाकिस्तान की साजिश का पर्दाफाश : सिर्फ 50 हजार के लिए आतंकी बन गया 19 साल का 7वीं में पढ़ने वाला अली बाबर

Author सुरेश एस डुग्गर| Last Updated: मंगलवार, 28 सितम्बर 2021 (18:39 IST)
जम्मू। उत्तरी कश्मीर के उड़ी सेक्टर में सेना के जवानों ने सीमा पार से घुसपैठ कर आए पाकिस्तानी आतंकी को पकड़ा है। पकड़े गए आतंकी की पहचान पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के ओकाड़ा जिला के अली बाबर के रूप में हुई है। उसके कब्जे से भारी मात्रा में हथियार और गोला- बारूद भी बरामद हुआ है। बाबर के प्रति खास बात यह थी कि वह मात्र 50 हजार रुपयों के लिए आतंकी बन गया था और 19 साल के इस आतंकी ने आतंकी बनने के लिए 7वीं की पढ़ाई छोड़ दी थी।
ALSO READ:
कांग्रेस में शामिल हुए कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी

जानकारी के अनुसार पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के ओकाड़ा जिला का रहने वाले पाकिस्तानी आतंकी अली बाबर की आयु 19 साल बताई जा रही है। उसका संबंध आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से रहा है। उसे लश्कर-ए-तैयबा आतंकी संगठन में शामिल होने से पहले 3 महीनों की ट्रेनिंग भी ली थी। पकड़े गए पाकिस्तानी आतंकी के कब्जे से 7 एके 47 राइफल, 80 ग्रैनेड सहित अन्य सामान बरामद हुआ है। 26 सितंबर को 1 आतंकी मारा भी गया था। घुसपैठ की इन साजिशों ने एक बार फिर एलओसी पर पाकिस्तान की का किया है।




ये बातें मेजर जनरल वीरेंद्र वत्स जीओसी, 19 डिवीजन ने कहते बताया कि उड़ी में एलओसी पर 9 दिनों तक आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन चलाया गया। आतंकी घुसपैठ की जानकारी मिलने पर यह ऑपरेशन 18 सितंबर को शुरू किया गया था। इस दौरान आतंकियों से मुठभेड़ हुई। 2 आतंकी भारतीय सीमा में थे जबकि 4 आतंकी सीमा पार थे। जवाबी कार्रवाई के बाद पाकिस्तान की तरफ के 4 आतंकी वापस चले गए।


बताया कि सीमा में घुसपैठ करने वाले 2 आतंकवादियों को घेरने के लिए सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाला। 25 सितंबर को एक मुठभेड़ हुई जिसमें 1 आतंकवादी को मार गिराया गया, जबकि दूसरा पकड़ा गया। जिसने अपना नाम अली बाबर बताया है। उसने स्वीकार किया है कि वह लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी है और मुजफ्फराबाद में उसे प्रशिक्षित किया गया था। आतंकवादी अली बाबर ने पूछताछ में खुलासा किया है कि उसके 6 आतंकवादियों का समूह मुख्य रूप से पाकिस्तानी पंजाब का था।


उसने कहा कि गरीबी के कारण उसे गुमराह किया गया। इसके बाद लश्कर-ए-तैयबा में शामिल होने के लिए लालच दिया गया। मां के इलाज के लिए 20 हजार रुपए आतंकियों की ओर से दिए गए। साथ ही 30 हजार रुपए देने का वादा भी किया गया। हथियार चलाने का प्रशिक्षण देने वालों में अधिकांश पाकिस्तानी सेना के जवान थे। आतंकी ने बताया कि उसे इस्लाम और मुसलमान के नाम पर उकसाया गया, साथ ही आतंकवादी बनने पर मजबूर किया गया।
3 आतंकियों को किया ढेर : सुरक्षाबलों ने उड़ी सेक्टर में एक पाकिस्तानी घुसपैठिये को मार गिराया है। एक पाकिस्तानी मूल के आतंकी को जिंदा भी पकड़ लिया है। उड़ी में पिछले 8 दिनों में यह लगातार तीसरी मुठभेड़ है जिसमें 4 आतंकी मारे जा चुके हैं और 4 भारतीय सैनिक जख्मी हो चुके हैं। इस बीच श्रीनगर में 2 ओवर ग्राउंड वर्करों को पकड़ने के साथ ही पुलवामा में एक आतंकी ठिकाने का भंडाफोड़ भी किया गया है।
उत्तरी कश्मीर में बारामुल्ला के उड़ी सेक्टर में पाकिस्तानी घुसपैठियों के खिलाफ सैन्य अभियान लगातार तीसरे दिन सोमवार को भी जारी रहा। इस दौरान 1 घुसपैठिया मारा गया जबकि 1 सैन्यकर्मी जख्मी हुआ है। 1 घुसपैठिये के जिंदा पकड़े जाने की भी सूचना है। पुलिस या सेना ने अभियान के बारे में आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है।

सूत्रों ने बताया कि यह अभियान गत शनिवार को उड़ी सेक्टर के रामपुर सब सेक्टर में उसी इलाके में जारी है, जहां बीते वीरवार की सुबह सेना ने घुसपैठ का प्रयास नाकाम बनाते 3 आतंकियों को मार गिराया था। सूत्रों ने बताया कि सेना के जवानों घुसपैठियों को चारों तरफ से घेरते हुए उनके उस कश्मीर की तरफ भागने के रास्ते भी बंद कर दिए हैं। शनिवार को इस अभियान में 3 जवान जख्मी हुए थे। सोमवार को 1 और जवान मुठभेड़ में जख्मी हुआ है। अब तक 4 सैन्यकर्मी इस अभियान में घायल हो चुके हैं। ये सभी सैन्य अस्पताल में उपचाराधीन हैं। 1 आतंकी भी मारा गया है और उसका शव बरामद किया है। 1 आतंकी को पकड़ा गया है। उनके अन्य साथियों के खिलाफ सैन्य अभियान जारी है।
इससे पहले भी हथलंगा जंगल क्षेत्र में 3 आतंकियों को मार गिराया गया था, जो घुसपैठ कर दाखिल हुए थे। उनके पास से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद भी बरामद हुआ था, वहीं 18 सितंबर को भी उड़ी सेक्टर में आतंकियों द्वारा घुसपैठ की एक कोशिश की गई थी जिसे सतर्क जवानों ने नाकाम बनाया था। इस बीच पुलिस और सेना ने संयुक्त रूप से पुलवामा से आतंकियों के 2 मददगारों को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा श्रीनगर के डाउनटाउन इलाके में एक रिहायशी मकान में बनाए गए आतंकी ठिकाने का भी भंडाफोड़ किया है।
जानकारी के अनुसार पुलिस और सेना की 50 राष्ट्रीय राइफल ने एक विश्वस्त सूचना के आधार पर श्रीनगर जिला के राजौरी कदल इलाके में एक घर पर बनाए गए आतंकी ठिकाने का भंडाफोड़ किया है। इसी बीच पुलिस, सेना और सीआरपीएफ ने पुलवामा से आतंकियों के 2 मददगारों को गिरफ्तार किया है। फिलहाल इनकी अभी पहचान सार्वजनिक नहीं की गई है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर रियाज सथरगुंड की मौजूदगी बारे उन्हें पता चला। इस दौरान यह भी पता चला कि डाउनटाउन राजौरी कदल इलाके के एक रिहायशी मकान में आतंकियों की पनाहगाह बनाई गई है। तलाशी के दौरान आतंकी ठिकाने का भंडफोड़ हुआ और मकान के मालिक को गिरफ्तार कर उससे कड़ी पूछताछ की जा रही है।



और भी पढ़ें :