कश्मीर को दहलाने की बड़ी आतंकी साजिश को सुरक्षाबलों ने किया नाकाम

सुरेश एस डुग्गर| पुनः संशोधित सोमवार, 22 फ़रवरी 2021 (20:13 IST)
जम्मू। कश्मीर में एक नए खतरे का सामना करने को मजबूर हो रहे हैं। यह खतरा आतंकियों द्वारा लगातार इस्तेमाल की जाने वाली आईईडी से हैं। हालांकि अधिकतर आईईडी हमलों को नाकाम बना दिया गया है पर खतरा अभी पूरी तरह से टला नहीं है क्योंकि सूत्र कहते हैं कि आतंकियों ने सैंकड़ों की संख्या में आईईडी तैयार कर रही हैं।
ALSO READ:
सिर्फ बंगाल नहीं भेजे जा रहे केंद्रीय बल, चुनावी राज्यों में तैनाती सामान्य परिपाटी : चुनाव आयोग
आज भी नौगाम में रेलवे क्रॉसिंग के पास आईईडी बरामद हुई है। जिस कारण राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात को रोक दिया गया था। साथ ही भारी संख्या में सुरक्षाबलों की तैनाती की गई थी। आईईडी को निष्क्रिय करने के लिए निरोधक दस्ते की मदद ली गई।
एक अधिकारी ने बताया कि श्रीनगर के पंथा चौक-नौगाम मार्ग पर सोमवार को मिलने के बाद यातायात रोक दिया गया। यह विस्फोटक ठीक उस समय पाया गया जब ट्रेन सेवाओं को लंबे समय के बाद कश्मीर में शुरू किया जाना था।

अधिकारी ने बताया कि सीआरपीएफ की आरओपी (रोड ओपनिंग पार्टी) और पुलिस ने नौगाम रेलवे स्टेशन से मुश्किल से 100 मीटर की दूरी पर एक संदिग्ध वस्तु देखी। इसकी जांच के लिए दस्ते को बुलाया गया। उन्होंने बताया कि लोगों और यात्रियों की सुरक्षा के लिए पंथा चौक-नौगाम सड़क मार्ग पर यातायात रोक दिया गया।
कश्मीर जोन के आइजीपी विजय कुमार ने बताया कि पंथा चौक-नौगाम सड़क पर नौगाम रेलवे स्टेशन से कुछ मीटर दूरी पर आईईडी बरामद की गई। आज सुबह सेना की रोड ओपनिंग पार्टी और पुलिस को आईईडी मिली। टिन के बक्से में आइईडी लगाई गई थी।
सके तुरंत बाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात को रोक दिया गया। बम निरोधक दस्ते ने कुछ ही समय के उपरांत आईईडी को निष्क्रिय करने में सफलता हासिल की।

कश्मीर के आइजीपी विजय कुमार ने बताया कि आइईडी से सेना की कानवाई और सुरक्षाबलों को निशाना बनाने की योजना थी। इससे पहले पूरे प्रदेश में कई आईईडी बरामद की जा चुकी हैं और आतंकी दो को फोड़ने में कामयाब रह चुके हैं।



और भी पढ़ें :