202 दिन तक अस्पताल में भर्ती रहने के बाद Corona मरीज घर लौटी

गीता महामारी की दूसरी लहर के दौरान भोपाल से लौटने पर वायरस से संक्रमित पाई गई थी। उसे 202 दिनों तक अस्पताल में भर्ती रहना पड़ा और दाहोद रेलवे अस्पताल के डॉक्टरों ने उसके ठीक होने के बाद उसे छुट्टी देने का फैसला किया।

पुनः संशोधित शनिवार, 20 नवंबर 2021 (21:36 IST)
दाहोद। के स्थित एक से 45 वर्षीय महिला को भर्ती होने के 202 दिनों बाद छुट्टी दी गई। महिला गत एक मई को कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गई थी। यह जानकारी महिला के परिवार के सदस्यों ने दी।

महिला के परिजन ने बताया कि गीता धर्मिक के पति दाहोद में रेलवे के कर्मचारी हैं। उन्होंने बताया कि गीता महामारी की दूसरी लहर के दौरान भोपाल से लौटने पर वायरस से संक्रमित पाई गई थी। उन्होंने बताया कि उसे 202 दिनों तक अस्पताल में भर्ती रहना पड़ा और दाहोद रेलवे अस्पताल के डॉक्टरों ने उसके ठीक होने के बाद उसे छुट्टी देने का फैसला किया।

महिला के पति त्रिलोक धर्मिक ने कहा कि शुक्रवार को दाहोद रेलवे अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद परिवार के सदस्यों ने उसका घर पर खुशी से स्वागत किया। वह कुल 202 दिनों तक दाहोद और वडोदरा में अस्पताल में भर्ती रही, जिस दौरान उसे वेंटिलेटर और ऑक्सीजन पर रखा गया। त्रिलोक रेलवे में इंजीनियर हैं।
त्रिलोक धर्मिक ने कहा कि इस अवधि के दौरान उन्होंने 9 बार उनके (गीता के) ठीक होने की उम्मीद खो दी थी। उन्होंने कहा कि मेरे ससुर की दिल का दौरा पड़ने से मृत्यु होने के बाद हम 23 अप्रैल को भोपाल गए थे। 25 अप्रैल को दाहोद लौटने के बाद, मेरी पत्नी में कोरोना वायरस के लक्षण दिखाई दिए थे और एक मई को वह जांच में संक्रमित पाई गई, जब उसका ऑक्सीजन स्तर नीचे चला गया और बुखार बढ़ गया, तो उसे एक मई की रात को दाहोद के रेलवे अस्पताल में भर्ती कराया गया।



और भी पढ़ें :