0

Today’s fast recipe: नवरात्रि खान-पान : राजगिरा आटे का फलाहारी हेल्द‍ी डोसा

सोमवार,अप्रैल 19, 2021
0
1
सबसे पहले कच्चे केले को उबाल लें। ठंडे होने पर छिलके उतार कर हाथ से मैश कर लें। अब एक थाली में सिंघाड़ा अथवा राजगिरा आटा लेकर छान लें।
1
2
साबूदाने को चार घंटे पहले भिगो लें। मूंगफली को भी अलग से भिगोकर दरदरा पीस लें। उबले आलू को साबूदाने व मूंगफली के साथ अच्छी तरह मिला लें व सारे मसाले को भी मिला लें।
2
3
आलू का चटपटा फलाहारी नमकीन बनाने के लिए सबसे पहले आलुओं को छीलकर मोटा-मोटा कद्दूकस कर (किस) लें।
3
4
नवरात्रि में पेड़े केभोग से माता रानी प्रसन्न होंगी। कैसे बनाएं घर पर- सबसे पहले दूध में मेवे की कतरन मिलाकर मिक्सी में महीन पेस्ट तैयार करें।
4
4
5
गणगौर पर्व पर गणगौरी गुने बनाने के लिए सबसे पहले रवा-मैदा छान लें। आधा कप घी का मोयन लें और मीठा पीला रंग मिलाकर पूरी की तरह आटा गूंथ लें।
5
6
सर्वप्रथम भीगे हुए साबूदाने को मिक्सर में थोड़े-से पिस लें और आलू को छीलकर हाथ से मसल लें। फिर आलू में पिसे हुए साबूदाने मिलाकर नमक, बारीक कटी हरी मिर्च
6
7
सबसे पहले साबूदाने को 2-3 बार धोकर पानी में थोड़ी देर रखें, फिर पानी निथारकर 1-2 घंटे के लिए भिगो कर रख दें।
7
8
सबसे पहले मखाने को घी में भून लें। अब सूखे नारियल के गोले के पतले-पतले लंबे टुकड़े काटकर गरी तैयार करके इन्हें भी हल्का-सा भून लें।
8
8
9
इस दिन खासकर आम की चटनी यानी पच्चड़ी बनाई जाती है। यहां भगवान को अर्पित किए जाने वाले अनेक पकवानों में 'उगादी पच्चड़ी' मुख्य आकर्षण रहता है जिसे घर-घर में बनाया जाता है।
9
10
गुड़ी पड़वा के पावन पर्व पर हम आपके लिए लेकर आए हैं कुछ खास तरह की पारंपरिक रेसिपीज, इन डिशेस से करें स्वागत गुड़ी पड़वा का और बने रहे सेहतमंद और खुश-
10
11
अक्सर कहते हैं नमक जब होता है तो किसी को उसका भान नहीं रहता है लेकिन जब सब्जी में वह नहीं रहता है तो सभी को उसकी याद आने लगती है
11
12
फल व सब्जियां छीलने के बाद उनके छिलकों को हम बिना कुछ सोचे-समझे डस्टबिन में फेंक देते हैं, क्योंकि हमे लगता है कि ये वेस्ट हैं, लेकिन क्या आप जानते है कि इन छिलकों का इस्तेमाल आप चांदी के बर्तन और चमड़े का सामान चमकाने के लिए भी कर सकते हैं......
12
13
माता के पूजन के बाद इन पकवानों को भोग लगाकर परिवारसहित इन शीतल भोजन को ग्रहण करने से माता प्रसन्न हो‍कर संतान की रक्षा करने के साथ-साथ सभी मनोकामनाएं भी पूर्ण करती हैं।
13
14
होली मस्ती और उल्लास का पर्व है, जो हर किसी के मन को लुभाता है। आइए इस बार मीठी-मीठी रंग-बिरंगी गुझिया से होली का स्वागत करें और कोरोना काल में पर्व को दोगुने उत्साह से मनाएं।
14
15
गुलाब पत्ती, काली मिर्च व इलायची दाने अलग-अलग भिगो दें। जब बादाम-पिस्ता भीग जाए
15
16
सबसे पहले दो कप पानी लेकर शक्कर गला लें। फिर सभी मेवा सामग्री को मिक्स करके 3-4 घंटे के लिए भिगो कर रखें। त‍त्पश्चात पानी निथारकर मिक्सी में बारीक पीस लें।
16
17
सबसे पहले मैदे में घी का मोयन डालकर पानी की मदद से सख्त आटा गूंथ लें। एक कड़ाही में खोया भून लें। ठंडा छोने पर इसमें कोको पावडर, पिसी शक्कर, बादाम
17
18
400 मिली. दूध, 15 बादाम (पानी में भीगे हुए), 2 चम्मच खसखस, 2 चम्मच सौंफ, 8 इलायची, 12 चम्मच चीनी, 2 चम्मच काली मिर्च, 2 चम्मच जीरा
18
19
होली, दीपावली हो या रक्षाबंधन इन खास पर्वों पर घरों में नमकीन शकर पारे, मीठी खुरमी तथा मीठे शकर पारे बनाने की परंपरा रही है। आइए होली के इस रंगबिरंगी पर्व पर मीठी चाशनी
19