0

आज इस नैवेद्य से प्रसन्न होंगे बजरंगबली, जानें कैसे बनाएं

मंगलवार,सितम्बर 29, 2020
God Naivedya
0
1
पुरुषोत्तम मास में पीले रंग की चीजों का नैवेद्य चढ़ाने से भगवान अतिप्रसन्न होते है और अपने भक्तों पर अपनी असीम कृपा बरसाते हुए विशेष वरदान भी देते हैं।
1
2
एक तो अभी कोरोना काल चल रहा है और इन दिनों मौसम बार-बार बदल रहा है और मौसम बदलते ही सर्दी-खांसी, छींक, बुखार आदि की शुरुआत हो ही जाती है।
2
3
अधिक मास श्रीविष्णु का प्रिय मास है। इस माह में पीले रंगों की मिठाइयों का भोग लगाने से वे प्रसन्न होकर आशीष देते हैं। आइए पढ़ें बेसन के लड्डू बनाने की आसान विधि...
3
4
एक कड़ाही में, नारियल, काजू, पिस्ता व शकर डालें तथा दूध डाल कर पकाते रहें। मावा जैसा गाढ़ा होने लगे तो आंच से उतारें व इलायची मिला लें। अब चावल
4
4
5
किसी भी चतुर्थी तिथि पर श्रीगणेश का पूजन करते समय मोदक का प्रसाद अर्पण करने से वे प्रसन्न होकर वरदान देते हैं। आइए जानें सरल विधि...
5
6
खीर बनाने से एक-दो घंटे पूर्व चावल धोकर पानी में गला दें। दूध को मोटे तले वाले बर्तन में डालकर गैस पर चढ़ा दें।
6
7
श्राद्ध महालय प्रारंभ हो चुका है। पितृ पक्ष के दिनों में अपने पितरों का तर्पण करते समय उनका पसंदीदा भोजन अवश्य बनाना चाहिए ताकि आपके पितृ प्रसन्न होकर सभी मनोकामना पूर्ण होने का आशीष आपको प्रदान करें। आइए जानें पितृ भोग की 7 सरल विधियां-
7
8
एक लीटर दूध, दो कटोरी मखाने, चार चम्मच शकर, दो चम्मच घी, बादाम-काजू की कतरन, किशमिश, पाव कटोरी बूरा (सूखा नारियल का),
8
8
9
श्राद्ध फूड- सर्वप्रथम चीनी के अलावा बाकी सारी सामग्री को दूध के साथ मिलाकर गाढ़ा घोल बना लें।
9
10
अगर आपके दादा-दादी, भाई-बहन या अन्य कोई भी पारिवारिक सदस्य हो जिन्हें पूरनपोळी खाना बहुत पसंद थी तो इस पितृ पक्ष में उनका तर्पण करते समय उनका पसंदीदा भोजन अवश्य बनाएं।
10
11
सबसे पहले एक कड़ाही में घी गरम करके मखानों को भून लें। तत्पश्चात भूनें मखानों को प्लेट में निकाल कर ठंडे होने दें, फिर उसको टुकड़े कर लें।
11
12
श्राद्ध महालय के दौरान आने वाली आश्विन कृष्ण अष्‍टमी को गजलक्ष्मी या महालक्ष्मी व्रत का बहुत महत्व है। इस दिन आप धन की देवी महालक्ष्मी को इस खीर का नैवेद्य चढ़ाकर माता से समस्त मनोकामना पूर्ण होने का आशीष प्राप्त कर सकते हैं। आइए जानें सरल विधि-
12
13
एक कप मोटा लेकर छान लें। अब 4-5 चम्मच घी डालें व लगातार चलाते रहें, जब तक बेसन हल्का भूरा ना हो जाए
13
14
गणेश विसर्जन के दिन उनके प्रिय भोग से करें उन्हें प्रसन्न, पढ़ें सरल विधि- बेसन को छान लें। उसमें चुटकी भर मीठा पीला रंग मिलाइए और पानी से घोल तैयार कर लीजिए। अब एक तपेले में पानी एवं शकर को मिलाकर एक तार की चाशनी तैयार कर लें।
14
15
धार्मिक मान्यतानुसार गणेशोत्सव के 10 दिनों में श्री गणेश को अलग-अलग पकवानों को भोग लगाया जाता है। अत: गणेश पूजा के अवसर पर भगवान श्री गणेश को मोदक का भोग अवश्य लगाना चाहिए,
15
16
सबसे पहले एक कड़ाही में मावा हल्का-सा भून लें एवं ठंडा कर लें। अब उसमें चॉकलेट व शक्कर मिलाकर अलग रख लें। तत्पश्चात कवर सामग्री मिलाकर गूंथ लें।
16
17
मगज के मोदक बनाने के लिए सबसे पहले बेसन में 1 बड़ा चम्मच घी और रवा मिला कर भूरा होने तक सेंकें।
17
18
दिगंबर जैन समाज में 21 अगस्त 2020, शुक्रवार को रोट तीज पर्व मनाया जाएगा। रोट तीज के दिन बनाया जाने वाला यह एक विशेष व्यंजन है, जो सभी घरों में रोटतीज (भाद्रपद शुक्ल तृतीया) के दिन बनाया जाता है।
18
19
कोरोना महामारी के चलते आप तीज के दिन घर पर ही कुछ खास पकवान तैयार करके त्योहार की मिठास को बढ़ा सकती हैं और अपने परिवार वालों का दिल जीत सकती हैं।
19