अब हाईड्रोजन से चलेगी भारत में बसें

बंगलुरु| भाषा| पुनः संशोधित सोमवार, 29 जुलाई 2013 (09:36 IST)
TV
बंगलुरु। तथा भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने देश में पहली बार विकसित की है। दोनों संस्थानों ने कई साल के अनुसंधान के बाद यह बस विकसित की है।

इस बस का प्रदर्शन शनिवार को तमिलनाडु के महेंद्रगिरि स्थित इसरो के केंद्र लिक्विड प्रोपल्सन सिस्टम्स सेंटर में किया गया।

हाइड्रोजन सेल क्रायोजेनिक प्रौद्योगिकी का एक उप उत्पाद है जिसे इसरो पिछले कई साल से विकसित कर रही है। उन्होंने कहा, 'यह पूरी तरह से क्रायोजेनिक प्रौद्योगिकी नहीं है। यह तरलीकृत हाइड्रोजन हैंडलिंग है जिसमें इसरों को विशेषज्ञता है।'
इसरो तथा टाटा मोटर्स ने हाइड्रोजन से चलने वाली बस के विकास के लिए 2006 में समझौता किया था।

अगले पन्ने पर पढ़ें, बस की खासियत...




और भी पढ़ें :