रविवार, 14 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रीय
  4. Why did Punjab Police pick up this YouTuber from Delhi?
Last Updated : बुधवार, 7 फ़रवरी 2024 (16:10 IST)

दिल्‍ली के इस यूट्यूबर को क्‍यों उठा ले गई पंजाब पुलिस, इस गिरफ्तारी में क्‍या है केजरीवाल कनेक्‍शन?

rachit kaushaik
6 फरवरी की रात को सोशल मीडिया में दिल्ली के एक पत्रकार को उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर से किडनैप करने की खबरें आई। बाद में पता चला कि जिन लोगों ने पत्रकार का अपहरण किया, वे पंजाब पुलिस से थे, जहां आम आदमी की सरकार है। इस गिरफ्तारी के पीछे आम आदमी का कनेक्‍शन सामने आ रहा है।

दरअसल, पंजाब पुलिस जिस पत्रकार को उठाकर ले गई, वे यूट्यूबर रचित कौशिक हैं। रचित कौशिक ‘सब लोकतंत्र’ नाम से सोशल मीडिया में चैनल चलाते हैं।
मीडिया में आई रिपोर्ट के मुताबिक रचित कौशिक दिल्ली के शाहदरा में रहते हैं। वे अपनी भांजी की शादी अटैंड करने के लिए यूपी के मुजफ्फरनगर गए थे। बताया जा रहा है कि अलीशा सुलतान नाम की ईसाई महिला की शिकायत पर पंजाब पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया है।

कैसे किया गिरफ्तार : जो जानकारी सामने आ रही है उसके मुताबिक 6 फरवरी 2024 की शाम 7 बजे के आसपास रचित कौशिक को एक सफ़ेद रंग की स्कार्पियो में आए चार सिख पुलिसकर्मी उठा ले गए। पुलिसकर्मियों ने वर्दी नहीं पहन रखी थी और ना ही उनके साथ स्थानीय पुलिस थी। ईसाई महिला ने लुधियाना में इसी साल जनवरी में मामला दर्ज कराया था।
क्‍या है मामला : दरअसल, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके बेटे के कथित भ्रष्टाचार को लेकर रचित ने एक वीडियो बनाया था। एक अन्य ट्विटर हैंडल ने यह वीडियो ट्वीट किया। इस ट्वीट देखकर एक ईसाई महिला की भावना आहत हुई और उसने पुलिस से शिकायत कर दी। शिकायत के आधार पर पंजाब पुलिस ने किडनैपिंग वाले अंदाज में रचित कौशिक को यूपी से उठा लिया। रचित कौशिक का के इस वीडियो में केजरीवाल के बेटे के भ्रष्टाचार को लेकर खुलासा कर रहे हैं। इस वीडियो में उन्होंने केजरीवाल के बेटे पुलकित पर आरोप लगाया था कि उन्होंने मुख्यमंत्री के बंगले में जिम का सामान किराए पर बाजार भाव से कहीं ज्यादा कीमत पर दिया है। वीडियो में आरोप हैं कि यहां चार ट्रेडमिल को उन्होंने किराए पर दिया और इससे 10 लाख/माह वसूले जा रहे हैं।

धार्मिक भावना आहत करने का आरोप : हालांकि इस ईसाई महिला की शिकायत में कहीं भी रचित कौशिक या ‘सब लोकतंत्र’ चैनल का जिक्र नहीं है। न ही इसमें केजरीवाल के उस वीडियो का जिक्र है, जिसे सोशल मीडिया में उनकी गिरफ्तारी का आधार बताया जा रहा है। यह एफआईआर ‘नो कन्वर्जन’ नामक ट्विटर हैंडल पर धार्मिक भावना आहत करने का आरोप लगाने वाली बताई जा रही है। बता दें कि इसी ट्विटर हैंडल से यह वीडियो साझा किया गया था। रचित कौशिक के परिवार ने आरोप लगाया है कि ऐसा उनसे बदला लेने के लिए किया गया है। रचित के परिवार ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस मामले में दखल देने की अपील की है।
Edited by Navin Rangiyal
ये भी पढ़ें
आतिशी का आरोप, तलाशी लेने के बजाए केजरीवाल के पीए के घर में बैठे रहे ईडी अधिकारी