शुक्रवार, 12 जुलाई 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रीय
  4. What did Education Minister Dharmendra Pradhan say about the irregularities in NEET exam?
Last Updated : सोमवार, 17 जून 2024 (16:12 IST)

NEET परीक्षा में हुईं गड़बड़ियों को लेकर क्या बोले शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान?

1,563 अभ्यर्थियों को दिया पुन: परीक्षा का निर्देश

NEET परीक्षा में हुईं गड़बड़ियों को लेकर क्या बोले शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान? - What did Education Minister Dharmendra Pradhan say about the irregularities in NEET exam?
NEET exam: केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने भुवनेश्वर में कहा कि राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET), 2024 के आयोजन में अनियमितताओं में यदि राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (NTA) के अधिकारी शामिल पाए गए तो सरकार उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगी। प्रधान ने रविवार को ओडिशा के संबलपुर की अपनी यात्रा के दौरान यह बयान दिया।
 
उन्होंने कहा कि नीट के आयोजन में 2 प्रकार की गड़बड़ियां सामने आई हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रारंभिक जानकारी के अनुसार कुछ छात्रों को कृपांक (ग्रेस मार्क) दिए गए थे, क्योंकि वे निर्दिष्ट अवधि से कम समय दिए जाने से असंतुष्ट थे।
 
1,563 अभ्यर्थियों को पुन: परीक्षा का निर्देश : उन्होंने कहा कि सरकार ने कृपांक वापस ले लिए हैं और उच्चतम न्यायालय के आदेश के अनुसार 1,563 अभ्यर्थियों को पुन: परीक्षा का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि 2 स्थानों पर और भी अनियमितताएं सामने आई हैं। मैं छात्रों और अभिभावकों दोनों को विश्वास दिलाता हूं कि सरकार ने इस मुद्दे को बहुत गंभीरता से लिया है। हम इसे तार्किक परिणति तक ले जाएंगे।
 
दोषी पाए जाने पर होगी सख्त कार्रवाई : प्रधान ने कहा कि एनटीए के वरिष्ठ पदाधिकारियों समेत कोई भी अधिकारी यदि दोषी पाया जाता है तो उन्हें बख्शा नहीं जाएगा और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने एनटीए में सुधारों की भी वकालत करते कहा कि हालांकि एनटीए एक स्वायत्त इकाई है, लेकिन इसके कामकाज में बहुत से सुधारों की जरूरत है। सरकार इसे लेकर चिंतित है। मैं पुन: विश्वास दिलाना चाहता हूं कि किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी।(भाषा)
 
Edited by: Ravindra Gupta
ये भी पढ़ें
10 साल, 10 बड़े रेल हादसे, 500 मौतें, रेलवे क्‍यों बनता जा रहा मौत का सफर?