188 दिन बाद हुए ताज के दीदार, पहला मौका चीनी पर्यटक को

हिमा अग्रवाल| Last Updated: सोमवार, 21 सितम्बर 2020 (15:24 IST)
आगरा। कोविड संक्रमण के चलते के 17 मार्च 2020 से आगरा की शान पर्यटकों के लिए बंद कर दिया गया था। 188 दिन ताजमहल का दीदार, उसके चाहने वाले नहीं कर सके थे। सोमवार को एक बार फिर से आम पर्यटकों के लिए ताजमहल के दरवाजे खोल दिए गए हैं।
ताजमहल में प्रवेश मिलते ही सैलानियों के चेहरे खिल उठे और उन्होंने इन यादगार पलों को अपने कैमरे और सेल्फी में कैद कर लिया। दुनिया के 7 अजूबों में से एक ताज का दीदार सबसे पहले आज एक चाइनीज पर्यटक लियांग चियांग चेंग ने किया।

ताजमहल में शाहजहां और मुमताज की कब्र वाले मुख्य गुंबद में एक बार में 5-5 पर्यटकों को अंदर जा सकते हैं। सैलानियों को ताजमहल के दक्षिणी गेट से गुंबद में प्रवेश दिया जा रहा है और यमुना नदी के किनारे उत्तरी गेट से पर्यटकों को बाहर निकाला जा रहा है। पूर्वी और पश्चिमी गेट पर सीआईएसएफ सैलानियों की सुरक्षा जांच स्पर्श मुक्त (बिना छुए) तरीके से कर रही है।
एक दिन में 5000 को एंट्री : ताज के दीदार के लिए प्रतिदिन एक दिन 5000 सैलानियों को एंट्री दी जा रही है। ताज की खूबसूरती को निहारने आए सैलानियों को कोविड गाइड लाइंस का विशेष खयाल रखना होगा। ताज दर्शन के लिए टिकट एएसआई की वेबसाइट पर ऑनलाइन बुक करना होंगे। क्यूआर कोड स्कैन करके भी टिकट लिया जा सकता है।
पर्यटकों को विशेष हिदायत दी गई है कि वह चेहरे को कवर करके मास्क लगाएं। प्रवेश देने से पहले सैलानियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। स्मारकों में प्रवेश, निकास के रूट अलग होंगे। जबकि स्मारक में ग्रुप फोटोग्राफी की अनुमति नहीं होगी।
वहीं, ताजमहल में लाइसेंस धारक गाइड, फोटोग्राफर ही काम कर सकेंगे। पार्किंग समेत सभी भुगतान डिजिटल पेमेंट से होंगे, सैलानी अपने साथ स्मारक में खाने का सामान नहीं ले जा सकते। इसके अतिरिक्त शू कवर, पानी की बोतल, टिश्यू पेपर आदि उन्हें कूड़ेदान में डालना होगा। विजिटिंग रजिस्टर में हर सैलानी को अपना रिकॉर्ड दर्ज करना होगा।



और भी पढ़ें :