Special Story : यूपी चुनाव से पहले भाजपा का बड़ा दांव, मोदी कैबिनेट में इन चेहरों को मिल सकती है जगह

अवनीश कुमार| पुनः संशोधित मंगलवार, 6 जुलाई 2021 (10:16 IST)
लखनऊ। में 2022 होने वाले विधानसभा चुनाव को अब मात्र 9 से 10 महीने का समय ही बाकी रह गया है। जिसको लेकर बीजेपी ने तैयारियां शुरू करते हुए पार्टी की कमियों की समीक्षा भी शुरू कर दी है। योगी सरकार ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर दर्ज मुकदमे वापस लेने का फैसला लिया है। तो वहीं अब केंद्र सरकार चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश के अंदर जातिगत समीकरण को ठीक करने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह देने की तैयारी कर रही है। माना जा रहा है कि जल्द ही केंद्रीय मंत्रिमंडल में उत्तर प्रदेश के कई चेहरे शामिल कर लिए जाएंगे और खास तौर से ब्राह्मणों को साधने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल में उत्तर प्रदेश से ब्राह्मण मंत्री बनाए जाने की चर्चा तेज है।

पार्टी सूत्रों की माने तो उत्तर प्रदेश के अंदर पार्टी रिपोर्ट के मुताबिक ब्राह्मण पार्टी से खासा नाराज चल रहा है अब उसे साधने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल में ब्राह्मण चेहरे को शामिल करने की चर्चा जोरों पर है और प्रदेश की पूर्व मंत्री रीता बहुगुणा जोशी, सत्यदेव पचौरी और सासंद रमापति राम त्रिपाठी में से किसी एक को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है।

युवाओं को लुभाने के लिए युवा चेहरों के नाम पर कई बार के सांसद वरुण गांधी को भी मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने की संभावनाएं दिख रही हैं। दलित चेहरे के रूप में पूर्व केंद्रीय मंत्री रामशंकर कठेरिया का नाम लिया जा रहा है।
सहयोगी दलों में अपना दल की अनुप्रिया पटेल, जनता दल (यू) के आरसीपी सिंह, और विभाजित लोजपा के पारस गुट के पशुपति पारस के नाम की भी चर्चा हो रही है। माना यह भी जा रहा है कि इन सभी नामों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी योगी आदित्यनाथ के बीच चर्चा भी हो चुकी है और जल्द ही इन नामों पर मुहर भी लग सकती है।

गौरतलब है कि देश में नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल में पहली बार मंत्रिमंडल फेरबदल की संभावनाएं दिखाई पड़ रही हैं जिसके चलते आज देर शाम एक बड़ी बैठक भी होनी है पार्टी सूत्रों की माने तो पिछले 2 से 3 दिनों के अंदर मंत्रिमंडल में बड़ा फेरबदल देखने को मिल सकता है और कई मंत्रियों की छुट्टी हो सकती है तो वहीं कई नए मंत्री केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किए जा सकते हैं और सबसे ज्यादा तवज्जो उत्तर प्रदेश को दिए जाने की चर्चा चल रही है और उसके पीछे के मुख्य मजा 2022 विधानसभा चुनाव को माना जा रहा है।



और भी पढ़ें :