बंद हुआ जेट एयरवेज, 2019 में 10 प्रतिशत बढ़े विमान

पुनः संशोधित शुक्रवार, 10 जनवरी 2020 (17:46 IST)
नई दिल्ली। पूर्ण सेवा एयरलाइन जेट एयरवेज के बंद होने के बावजूद पिछले 1 साल में देश के आकाश में विमानों की संख्या में 10 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। नागरिक उड्डयन सचिव प्रदीप सिंह खरोला ने गुरुवार रात एक कार्यक्रम में यह बात कही।
उन्होंने कहा कि देश का विमानन क्षेत्र किस रफ्तार से बढ़ रहा है इसका पता इसी बात से चलता है कि 100 से ज्यादा विमानों के बेड़े वाली जेट एयरवेज के बंद होने के बावजूद आज देश में विमानों की संख्या 1 साल पहले की तुलना में 10 प्रतिशत बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि अगले कुछ साल में देश में विमानों की संख्या 1,000 के पार पहुंच जाएगी।

खरोला ने कहा कि इतनी बड़ी संख्या में विमान देश में होने के बावजूद एमआरओ (रखरखाव, मरम्मत एवं ओवरहॉलिंग) और विमानों के पट्टे का कारोबार भारत में नहीं होता इसलिए देश को एमआरओ का वैश्विक केंद्र बनाने की जरूरत है। एक बार एमआरओ सुविधा बढ़ गई तो पट्टे पर विमान देने और उसके लिए वित्त उपलब्ध कराने का कारोबार यहां अपने-आप फलने-फूलने लगेगा।
उन्होंने कहा कि सरकार अगले 5 साल में देश में हवाई अड्डों की संख्या दुगुनी करने का लक्ष्य लेकर चल रही है। हवाई अड्डा क्षेत्र में निजीकरण बेहद सफल रहा है और इस मार्च में हैदराबाद में होने वाले 'विंग्स इंडिया 2020' में हम अपने हवाई अड्डों के बारे में भी दुनिया को बताएंगे।

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) के अध्यक्ष अरविंद सिंह ने कहा कि इस समय देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में विमानन क्षेत्र का योगदान 30 अरब डॉलर है। अगले 5 साल में देश के विमानन क्षेत्र में 1 लाख करोड़ रुपए के निवेश की उम्मीद है। अगले 5 साल में 25 हजार करोड़ रुपए का निवेश करेगा। यह निवेश हवाई अड्डों के विकास, एयर नेविगेशन सिस्टम आदि पर किया जाएगा।


और भी पढ़ें :