Uttarakhand news : तपोवन में जीती जिंदगी, ITBP के जवानों का रेस्क्यू ऑपरेशन, सुरंग के मलबे में फंसे 12 मजदूरों को सुरक्षित निकाला (Video)

Last Updated: रविवार, 7 फ़रवरी 2021 (19:15 IST)
हमें फॉलो करें
गोपेश्वर। उत्तराखंड के चमोली जिले में हिमखंड टूटने से नदियों में आई बाढ़ से क्षतिग्रस्त एनटीपीसी की निर्माणाधीन 480 मेगावॉट तपोवन—विष्णुगाड पनबिजली परियोजना की एक सुरंग में फंसे सभी 12 मजदूरों को भारत तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) ने सुरक्षित बाहर निकाल लिया है। एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी।
ALSO READ:

7 और 8 फरवरी को उत्तराखंड में कैसा रहेगा मौसम, IMD ने दी जानकारी
हालांकि तपोवन क्षेत्र में ही स्थित परियोजना के एक अन्य सुरंग में फंसे 30-35 मजदूरों को बाहर निकालने के लिए बचाव और राहत कार्य चलाया जा रहा है।

औली में आइटीबीपी के डिप्टी कमांडेंट एसएस बुटोला ने बताया कि परियोजना की एक सुरंग में फंसे सभी 12 मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है।
उन्होंने बताया कि हांलांकि तपोवन परियोजना की एक और सुरंग में भी 30-35 मजदूर फंसे हुए हैं जिन्हें सेना की मदद से बाहर निकालने का प्रयास किया जा रहा है। इस सुरंग में बाढ़ के साथ आया मलबा जमा हो गया है जिसे मशीनों की मदद से हटाने का प्रयास किया जा रहा है।
ALSO READ:

news : 8 महीने पहले ही भू-वैज्ञानिकों ने दी थी तबाही की चेतावनी, 2020 में जारी की थी रिसर्च की रिपोर्ट
इस बीच एनटीपीसी के महाप्रबंधक आरपी अहीरवाल ने बताया कि निर्माणाधीन परियोजना को बाढ़ से बहुत नुकसान पहुंचा है।

उन्होंने कहा कि हांलांकि वास्तविक आकलन करने में अभी समय लगेगा लेकिन बाढ़ के पानी के बैराज के उपर से बह जाने के कारण वह काफी क्षतिग्रस्त हो गया है। यह परियोजना धौलीगंगा के ऊपर बन रही है। इसके अलावा बाढ़ से बिजली उत्पादन कर रही 13.2 मेगावाट की ऋषिगंगा पनबिजली परियोजना भी पूरी तरह से तहस-नहस हो गई है। (भाषा)



और भी पढ़ें :