Farmers Protest Live : एक्शन में सरकार, कृषि मंत्री तोमर ने गृहमंत्री अमित शाह से की बात

Last Updated: शनिवार, 5 दिसंबर 2020 (19:12 IST)
नई दिल्ली। केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ सोमवार को भी किसान दिल्ली की सीमाओं पर डटे हुए हैं। पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान और यूपी के किसानों ने अब दिल्ली का घेराव करने की तैयारी कर ली है। मामले से जुड़ी हर जानकारी...

04:41PM, 1st Dec
-सरकार और किसानों की बातचीत के बीच शाहीद बाग की बिलकीस दादी किसानों के प्रदशर्न में शामिल होने सिंघु (दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर) पहुंच गईं, जहां उन्हें पुलिस ने‍ हिरासत में ले लिया। 

01:03PM, 30th Nov
-कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने गृहमंत्री अमित शाह से चर्चा की। उल्लेखनीय है कि अमित शाह किसानों से चर्चा की बात कह चुके हैं। माना जा रहा है कि दोनों मंत्रियों के किसान आंदोलन और उससे उत्पन्न स्थितियों को लेकर ही चर्चा हुई है। 
12:13PM, 30th Nov
-सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों की जांच के लिए मेडिकल केंप लगे।
-एक डॉक्टर ने कहा कि यहां हमें कोरोना टेस्ट भी करने चाहिए। यदि यहां एक भी सुपर सप्रेडर निकल गया तो यह अन्य लोगों तक पहुंच जाएगा और हालात काफी भयावह हो जाएंगे।
12:02PM, 30th Nov
-केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद का ट्वीट, नए कृषि कानून APMC मंडियों को समाप्त नहीं करते हैं। मंडियाँ पहले की तरह ही चलती रहेंगी। नए कानून ने किसानों को अपनी फसल कहीं भी बेचने की आज़ादी दी है। जो भी किसानों को सबसे अच्छा दाम देगा वो फसल खरीद पायेगा चाहे वो मंडी में हो या मंडी के बाहर।
-हरियाणा के लिए सीमावर्ती झाड़ौदा, ढांसा, दौराला झटीकरा, बडूसरी, कापसहेड़ा, राजोकड़ी एनएच-8, बिजवासन / बजघेरा, पालम विहार और डूंडाहेड़ा बॉर्डर खुले हैं।
11:40AM, 30th Nov
-कांग्रेस ने 3 केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे किसानों का समर्थन करते हुए सोमवार को सोशल मीडिया अभियान चलाया और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, महासचिव प्रियंका गांधी और कई अन्य वरिष्ठ नेताओं ने सरकार पर निशाना साधा।
-राहुल गांधी ने लोगों से ‘स्पीकअप फॉर फारमर्स’ नामक सोशल मीडिया अभियान से लोगों से जुड़ने की अपील की।
-उन्होंने एक वीडियो साझा करते हुए ट्वीट किया, 'मोदी सरकार ने किसान पर अत्याचार किए- पहले काले क़ानून फिर चलाए डंडे, लेकिन वो भूल गए कि जब किसान आवाज़ उठाता है तो उसकी आवाज़ पूरे देश में गूंजती है। किसान भाई-बहनों के साथ हो रहे शोषण के ख़िलाफ़ आप भी ‘स्पीकअप फॉर फारमर्स’ के माध्यम से जुड़िए।'
-प्रियंका ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, 'नाम किसान कानून लेकिन सारा फायदा अरबपति मित्रों का। किसान कानून बिना किसानों से बात किए कैसे बन सकते हैं? उनमें किसानों के हितों की अनदेखी कैसे की जा सकती है? सरकार को किसानों की बात सुननी होगी। आइए मिलकर किसानों के समर्थन में आवाज उठाएं।'
10:53AM, 30th Nov
-सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने गुरुनानक जयंती पर यहीं प्रार्थना की।
-बुरारी स्थित प्रदर्शनस्थल पर भी बड़ी संख्या में प्रदर्शन कर रहे हैं किसान।
10:03AM, 30th Nov
-दिल्ली पुलिस ने सिंघु बॉर्डर और टिकरी बॉर्डर पर यातायात बंद किया।
-दिल्ली-गाजीपुर सीमा पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम। क्रेन की मदद से पुलिस ने बोल्डर लगाए। 
-टिकरी बॉर्डर पर बड़ी संख्‍या में किसान जमा, पुलिस ने भी किए सुरक्षा के कड़े इंतजाम।
08:04AM, 30th Nov
-किसान नेताओं की सरकार को चेतावनी दी, अगर उनकी सभी मांगें नहीं मानी गईं, तो दिल्ली के मुख्य राजमार्ग जाम करके आवाजाही पूरी तरह से बंद कर देंगे। 
-किसान आंदोलन की वजह से दिल्ली में सड़क मार्ग से आने जाने वालों को भारी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। आज किसानों ने दी दिल्ली के 5 इंट्री डोर बंद करने की चेतावनी। लोगों की नजरें इस बात पर लगी हुई है कि सरकार आंदोलन को खत्म करने के लिए क्या कदम उठाती है?
-बॉर्डर पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम, ड्रोन से भी रखी जा रही है नजर।
08:04AM, 30th Nov
-किसान पिछले 4 दिन से दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं और उनकी मांग जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करने की है जबकि पुलिस ने उन्हें बुराड़ी में प्रदर्शन की इजाजत दी है।
-किसान यूनियन ने सरकार की ओर से बुराड़ी में प्रदर्शन करने का प्रस्ताव नामंजूर कर दिया हैं।
-किसानों का कहना है कि बुराड़ी ओपन जेल की तरह है और वो आंदोलन की जगह नहीं है। हमारे पास पर्याप्त राशन है और 4 महीने तक हम रोड पर बैठ सकते हैं।
08:04AM, 30th Nov
-कड़ाके की ठंड में सिंघु बॉर्डर (दिल्ली-हरियाणा सीमा) पर किसानों ने गुजारी रात।
-जैसे जैसे आंदोलन आगे बढ़ रहा है किसानों की संख्या भी बढ़ रही है।
08:03AM, 30th Nov
-हरियाणा की दादरी सीट से निर्दलीय विधायक सोमबीर सांगवान ने कहा, विभिन्न खाप अपनी-अपनी पंचायतों में सोमवार को बैठक करेंगी और इसके बाद वे लोग एकत्र होकर किसानों के समर्थन में दिल्ली की ओर कूच करेंगे।



और भी पढ़ें :