सोनीपत में दिखा भारत बंद का असर, राजमार्ग रहे बंद, लोग हुए परेशान

Kisan
पुनः संशोधित सोमवार, 27 सितम्बर 2021 (19:45 IST)
सोनीपत। संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किए गए का हरियाणा के जिला में खासा असर देखने को मिला। जिला से गुजरने वाले नेशनल, स्टेट हाईवों के अलावा केजीपी-केएमपी एक्सप्रेस वे को किसानों ने करीब 10 घंटे तक बंद रखा जबकि सोनीपत में रेलवे ट्रैक पर भी किसान करीब 8 घंटे डटे रहे।

जिले में 22 जगह किसानों ने बीच सड़क धरना दिया। शाम 4 बजे किसानों ने सभी रोड व ट्रैक खाली कर दिए मगर दिन वाहन चालकों को खासी परेशानी झेलनी पड़ी। वहीं, शहर के बाजार तो खुले रहे मगर ग्राहक नदारद रहे। सरकारी कार्यालयों में कार्यरत कर्मियों ने विभिन्न यूनियनों की अगुवाई में बंद में भाग लिया, जिसके कारण नगर निगम, बिजली निगम, जनस्वास्थ्य विभाग, सिंचाई विभाग, बैंक व अन्य विभागों में कर्मचारियों की हाजिरी कम दिखी। हालांकि लघु सचिवालय में ज्यादातर कर्मचारी मौजूद रहे और कामकाज सुचारु चलता रहा।
बंद का असर स्कूल कॉलेजों पर भी दिखा और बच्चों से लेकर स्टाफ तक की हाजिरी 30-40 प्रतिशत तक रही। बंद में किसानों के अलावा विभिन्न कर्मचारी यूनियनों व ट्रेड यूनियनों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।

केजीपी-केएमपी के जीरो प्वाइंट पर ऊपर और नीचे, एचएच-44 पर अंतरराष्ट्रीय फल-फूल एवं बागवानी मंडी, हलदाना बॉर्डर, राई के पास, सोनीपत में जाहरी चौक के गोल चक्कर, गोहाना रोड पर हनुमान मंदिर, गोहाना रोड पर बड़वासनी, पुगथला रोड, खरखौदा में झरोठी रोड, रोहतक रोड पर सिसाना के पास, कंवाली टोल प्लाजा पर किसान ने बीच सड़क डेरा डालकर जाम लगाया। इसके अलावा गोहाना इलाके में भी अनेक स्थानों पर जाम लगाया।
kisan
रोडवेज पर बंद का खूब असर दिखा। सोनीपत से पानीपत, रोहतक, गोहाना, बड़ौत, दिल्ली, जयपुर, आगरा, शिमला तथा सांपला आदि की ओर से जाने वाली बसें बंद रहीं। हालांकि रोडवेज द्वारा सुबह के समय 36 बसों का परिचालन किया गया जिनमें से 7 जाम में फंस गई। इसके बाद बाकी बसें रोक ली गईं। ट्रेनों के रोके जाने के बाद यात्री बस अड्डे की तरफ जाने लगे मगर बसों का परिचालन न होने से यात्रियों को प्राइवेट वाहनों पर सहारा लेना पड़ा।
संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर सोमवार को किसानों द्वारा भारत बंद के दौरान रेल मार्ग को अवरूद्व कर दिया। इससे सोनीपत रेलवे स्टेशन पर कोच्चि-चंडीगढ़ एक्सप्रेस व एक मालगाड़ी घंटों खड़ी रही। रेलमार्ग अवरुद्ध होने के कारण इसके अलावा 8 ट्रेनें रद्द करनी पड़ीं और 12 ट्रेन अपने निर्धारित समय से 7 घंटे से ज्यादा समय से देरी से चलीं, जिसकी वजह से सैकड़ों दिनभर सोनीपत रेलवे स्टेशन पर ही फंसे रहे।



और भी पढ़ें :