शुक्रवार, 1 मार्च 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रीय
  4. Cabinet approves expansion of Fast Track Special Court Scheme
Written By
Last Modified: नई दिल्ली , बुधवार, 29 नवंबर 2023 (18:06 IST)

मंत्रिमंडल ने दी फास्ट ट्रैक विशेष अदालत योजना के विस्तार को मंजूरी

मंत्रिमंडल ने दी फास्ट ट्रैक विशेष अदालत योजना के विस्तार को मंजूरी - Cabinet approves expansion of Fast Track Special Court Scheme
Approved extension of fast track special court scheme : केंद्रीय मंत्रिमंडल ने यौन अपराधों से जुड़े मामलों में त्वरित न्याय देने के लिए 'फास्ट ट्रैक' विशेष अदालतों को अगले 3 साल तक जारी रखने की मंजूरी दे दी है। केंद्र का हिस्सा जहां 1207.24 करोड़ रुपए होगा, वहीं राज्य 744.99 करोड़ रुपए का योगदान देंगे। केंद्र की हिस्सेदारी निर्भया कोष से दी जाएगी।
 
दिल्ली में निर्भया सामूहिक बलात्कार मामले के बाद 2018 में आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम पारित होने के बाद, केंद्र ने 31 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (पोक्सो) अधिनियम के तहत मामलों से निपटने के लिए 389 अदालतों समेत कुल 1,023 ‘फास्ट ट्रैक’ विशेष अदालतें स्थापित करने का निर्णय लिया था।
 
इसकी शुरुआत 2019 में गांधी जयंती पर एक साल के लिए की गई थी और बाद में इसे इस साल 31 मार्च तक अतिरिक्त दो साल के लिए बढ़ा दिया गया था। एक अधिकारी ने पूर्व में कहा था कि केंद्र के प्रयासों के बावजूद 1,023 अदालतों में से केवल 754 ही चालू थीं। कई राज्यों ने केंद्र को आश्वासन दिया था कि वे ऐसी अदालतें स्थापित करेंगे, लेकिन कई अंततः शुरू नहीं हुईं।
 
मंत्रिमंडल ने मंगलवार को 1952.23 करोड़ रुपए के कोष के साथ इस योजना को तीन और वर्षों तक बढ़ाने की मंजूरी दे दी। केंद्र का हिस्सा जहां 1207.24 करोड़ रुपए होगा, वहीं राज्य 744.99 करोड़ रुपए का योगदान देंगे। केंद्र की हिस्सेदारी निर्भया कोष से दी जाएगी।
 
बयान में कहा गया, 30 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने इस योजना में भाग लिया है और 414 विशिष्ट पोक्सो अदालतों सहित 761 फास्ट ट्रैक विशेष अदालतों की शुरुआत की है, जिन्होंने 1,95,000 से अधिक मामलों का निपटारा किया है।
 
अधिकारियों ने कहा कि प्रत्येक ‘फास्ट ट्रैक’ विशेष अदालत की कल्पना प्रति वर्ष 65 से 165 मामलों की सुनवाई के लिए की गई थी। अधिकारियों ने बताया कि ऐसी एक अदालत को संचालित करने का वार्षिक खर्च एक न्यायिक अधिकारी और सात सहायक कर्मचारियों के साथ 75 लाख रुपए आंका गया था। (भाषा)
Edited By : Chetan Gour
ये भी पढ़ें
उत्तराखंड सुरंग हादसे से केंद्र सरकार ने लिया सबक, उठाने जा रही है यह बड़ा कदम