बुधवार, 24 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रीय
  4. Army called in amid fresh tension in Manipur
Last Updated : बुधवार, 28 फ़रवरी 2024 (07:51 IST)

मणिपुर में बढ़ा तनाव, सेना की 4 कंपनियां तैनात

सुरक्षा बलों ने अपहृत पुलिस अधिकारी को बचाया

मणिपुर में बढ़ा तनाव, सेना की 4 कंपनियां तैनात - Army called in amid fresh tension in Manipur
Manipur violence news : मणिपुर में मंगलवार को उस समय तनाव बढ़ गया जब मेइती संगठन अरामबाई तेंगगोल के कार्यकर्ताओं द्वारा पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी का उनके घर से अपहरण करने का प्रयास किया। इस घटना के बाद इंफाल पूर्व में असम राइफल्स की 4 टुकड़ियों को तैनात किया गया।
 
अधिकारियों ने बताया कि मणिपुर पुलिस की अभियान शाखा में तैनात अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमित कुमार को पुलिस और सुरक्षा बलों की त्वरित कार्रवाई के बाद बचा लिया गया। पुलिस अधिकारी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है।
 
अधिकारियों ने कहा कि अरामबाई तेंगगोल के कार्यकर्ताओं ने मंगलवार शाम सात बजे के आसपास इंफाल पूर्व के वांगखेई में कुमार के घर पर हमला किया। उन्होंने वाहन चोरी में समूह के छह सदस्यों को गिरफ्तार किया था।
 
गिरफ्तारी के बाद मीरा पैबिस (मेइती महिला समूह) के एक समूह ने उनकी रिहाई की मांग करते हुए विरोध प्रदर्शन किया और सड़कों को अवरुद्ध कर दिया।
 
हमले में अरामबाई तेंगगोल से जुड़े सशस्त्र कार्यकर्ताओं ने घर में तोड़फोड़ की और गोलियों से कम से कम चार वाहनों को नुकसान पहुंचाया।
 
पुलिस अधिकारी के पिता एम. कुल्ला ने कहा कि हमने हथियारबंद लोगों के परिसर में घुसने के बाद उनसे बात करने की कोशिश की लेकिन अचानक उन्होंने वाहनों और संपत्तियों पर गोलीबारी शुरू कर दी। इसलिए खुद को बचाने के लिए हमें भागकर अंदर जाना पड़ा। पिता ने अपने बेटे को फोन कर घटना की जानकारी दी।
 
अधिकारी अपने दल के साथ पहुंचे लेकिन उनका अपहरण कर लिया गया। पुलिसकर्मियों की संख्या अपहरण करने वाले लोगों से कम थी। मणिपुर पुलिस ने तुरंत कार्रवाई की और एक सफल बचाव अभियान शुरू करने के लिए बलों को साथ लिया। इस प्रयास से कुछ घंटों के भीतर कुमार को सुरक्षित बचा लिया गया। बचाव प्रयासों के बाद हालात बिगड़ गए जिससे राज्य सरकार को सेना की मदद लेनी पड़ी।
 
अधिकारियों ने कहा कि असम राइफल्स की चार टुकड़ियों की मांग की गई और उन्हें उस क्षेत्र के आसपास तैनात किया गया जहां घटना हुई थी। सशस्त्र बल (विशेष शक्तियां) अधिनियम घाटी क्षेत्रों में लागू नहीं है। (भाषा)
Edited by : Nrapendra Gupta 
 
ये भी पढ़ें
Live Updates : हिमाचल में राज्यपाल से मिले भाजपा विधायक, सुक्खू सरकार से बहुमत साबित करने की मांग