भाजपा के 'चुनावी चाणक्य’ क्यों कहे जाते हैं अमित शाह, जन्मदिन पर जानिए 10 खास बातें...

Last Updated: गुरुवार, 22 अक्टूबर 2020 (13:01 IST)
नई दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री और भाजपा के चुनावी कहे जाने वाले का आज 56वां जन्मदिन है। जानिए उनसे जुड़ी 10 खास बातें...

- भाजपा अध्यक्ष के रूप में पंचायत से लेकर संसद तक भाजपा का एकछत्र राज कराने वाले अमित शाह के पास अब देश के गृह मंत्रालय की कमान है। यह प्रधानमंत्री के बाद दूसरा सबसे पॉवरफुल पद माना जाता है।
-पीएम मोदी के दूसरे कार्यकाल में मोदी-शाह की जोड़ी ने कमाल कर दिया। दोनों की जुगलबंदी ने पहले ही वर्ष में कई बड़े फैसले किए। -अमित शाह के ऐसे नेता है जो अपने राजनीतिक जीवन में कभी चुनाव नहीं हारे।

-1989 में लोकसभा चुनाव हुए जिनमें अमित शाह को गांधीनगर निर्वाचन क्षेत्र से भाजपा के जननेता लालकृष्ण आडवाणी के चुनाव प्रबंधन का उत्तरदायित्व सौंपा गया। अमित शाह, आडवाणीजी के लिए 2009 के लोकसभा चुनावों तक चुनावी रणनीति तैयार करते रहे।
-1990 के दशक में नरेंद्र मोदी ने आडवाणी की सोमनाथ से अयोध्या रथ यात्रा में बड़ी भूमिका निभाई थी।
-पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने जब 1996 में गांधीनगर लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा तो अमित उनके भी चुनावी प्रभारी बने।
-अमित शाह शतरंज के अच्छे खिलाड़ी हैं और 2006 में वे गुजरात स्टेट चैस एसोसिएशन के चेयरमैन बने। उन्होंने पायलट प्रोजेक्ट के रूप में अहमदाबाद के सरकारी स्कूलों में शतरंज को शामिल करवाया।
-उन्हें 2013 में भाजपा का महासचिव बनाया। 2014 में होने वाले बेहद महत्वपूर्ण लोकसभा चुनावों के मद्देनजर उन्हें उत्तर प्रदेश का प्रभार सौंपा गया। भाजपा ने उत्तर प्रदेश में 71 सीटें हासिल की। प्रदेश में भाजपा की ये अब तक की सबसे बड़ी जीत ‌थी।
-भाजपा ने अमित शाह के समर्पण, परिश्रम और संगठनात्मक क्षमताओं को सम्मानित कर उन्हें 2014 में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद पर नियुक्त किया। शाह के चुनावी प्रबंधन की वजह से भाजपा कई राज्यों में चुनाव जीतने में सफल रहे। कई राज्यों में चुनाव मैदान में हार के बाद भी भाजपा की सरकार बनी। इसका श्रेय भी इस दिग्गज नेता को ही दिया गया।

-साल 2014 में सोलहवीं लोकसभा चुनाव के समय भाजपा को शानदार जीत दिलाने के बाद अमित शाह का यह विजयी अभियान रुका नहीं और इस बार 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को प्रचंड बहुमतों से जीत दिलाने का करिश्मा कर दिखाया।



और भी पढ़ें :