0

मातृ दिवस पर कविता : 'क्या है मां'

रविवार,मई 8, 2022
0
1
Happy Mothers Day : 8 मई को है मदर्स डे, इतिहास, कविताएं और रोचक लेख यहां पढ़ें एक साथ ... आज मां के सम्मान में मनाया जा रहा है मदर्स डे, आपका एक वाक्य 'आई लव यू मां' उन्हें नई ऊर्जा, नई शक्ति, नवजीवन से भर देगा... वेबदुनिया ने सजाए हैं विशेष लेख, ...
1
2
सारी दुनिया मई महीने के दूसरे रविवार को मदर्स डे सेलीब्रेट करती है, ये तो सभी जानते हैं कि ये दिन खासतौर से सभी माताओं को समर्पित है। वैसे तो माताओं के प्रति प्यार और सम्मान हर पल ही मन में होता है लेकिन इस एक दिन उसे जताकर माताओं को खास महसूस कराए ...
2
3
यह एक दिन की सेवा अच्छी तो है पर दुखद भी लगती है कि हमें मां और पिता के लिए एक दिन ऐसा मनाना पड़ रहा है। क्या हम 365 दिन यह नहीं मना सकते हैं? उस एक दिन के लिए हम हमारी स्टोरी, पोस्ट, स्टेटस पर पालकों के साथ फोटो डालकर शान समझ रहे हैं पर वह झूठी होती ...
3
4
युवाओं में हर त्योहार का ज्यादा ही उत्साह रहता है। हमारी YOUNG GENERATION अपने अपने तरीके से, अपनी कलात्मक दृष्टि ( creative vision ) से ऐसे त्योहारों को मनाती है। मदर्स डे का भी युवाओं में रुझान देखने को मिल रहा है।
4
4
5
सुनो विदेशी त्योहारों की बेअक्ली से नकल करने वालों तुम्हें और बात बात में मां की गालियां बकने वालों तुम्हें भी मदर्स डे की खूब बधाई और शुभकामनाएं। सोशल मीडिया पर मां की, मां के साथ फोटुओं की झांकी लगाने के लिए मां को ‘टूल’ की तरह इस्तेमाल करने वाले, ...
5
6
अपने उजाले से जो पूरा संसार प्रकाशमय कर दे वह भुंवर की पहली किरण है मां गर्मी के थपेड़ों से भरी राह में पेड़ की शीतल छांव है मां जिस भू पर महकते फूल हैं उस धरा की मृदा है मां
6
7
पालने में झुलाने से, पहला निवाला खिलाने तक रोना बंद कराने से, बैठना-चलना सिखाने तक मेरी मां मेरे हर पल में साथ है... मेरा टिफ़िन बनाने से, मुझे काबिल बनाने तक ! तुझसे ही तो सीखा था पहला शब्द अपना , तेरी गोदी में ही तो देखा था वो सुनहरा ...
7
8
आज बता रहे हैं तो मान भी लीजिए कि हम सच कह रहे हैं। गुनाह तो बहुत है पर अगर हर एक की माफी ही मांगने लगे तो फिर आपका कैसा दिवस? मां से भी कोई माफी मांगता है भला? ना, मां तो वह, जो अपनी होती है, बहुत अच्छी होती है और उससे माफी नहीं मांगी जाती ...
8
8
9
मां तुम जो रंगोली दहलीज पर बनाती हो उसके रंग मेरी उपलब्धियों में चमकते हैं तुम जो समिधा सुबह के हवन में डालती हो उसकी सुगंध मेरे जीवन में महकती है तुम जो मंत्र पढ़ती हो वे सब के सब मेरे मंदिर में गुंजते हैं तुम जो ढेर सारी चूडियां ...
9
10
राष्ट्रहित के लिए ऐसी कितनी ही माताएं थी जिन्होंने जगत जननी ,हम सभी की माता, भारत माता के लिए अपने वंशजों की बलिदानी दे दी। साथ ही ऐसी भी माताएं रही जिन्होंने उस समय की विषम परिस्थितियों में अपनी परवरिश और उच्च स्तर की संस्कारवान नैतिक और मौलिक ...
10
11
मेलबर्न। छह मई (द कन्वरसेशन) मदर्स डे की आहट नजदीक होने के साथ ही, कई आभारी और प्यार करने वाले परिवार सोच रहे हैं कि अपना स्नेह दिखाने के लिए माँ को क्या दिया जाए। क्या आपको उसे चॉकलेट देनी चाहिए? नहीं। फैंसी साबुन? नहीं।
11
12
मदर्स डे 2022 : हालांकि प्राचीनकाल में गार्गी, मैत्रेयी, घोषा, विश्ववारा, लोपामुद्रा, विद्योत्तमा, अहिल्या आदि ऐसी कई आध्यामिक महिलाएं थीं जो पुरुषों को शास्त्रार्थ में हरा चुकी थी। इसी तरह मध्यकाल में भी बहुत सी महिलाएं ऐसी रही हैं जिन्हें आज मां ...
12
13
रामायण में श्रीराम अपने श्रीमुख से 'मां' को स्वर्ग से भी बढ़कर मानते हैं। वे कहते हैं- 'जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गदपि गरीयसी।' अर्थात, जननी और जन्मभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर है।
13
14
Mothers Day Poem मातृ दिवस पर मार्मिक कविता- मां, मां लोरी है, गीत है, प्यारी सी थाप है, मां, मां पूजा की थाली है, मंत्रों का जाप है। मां, मां आंखों का सिसकता हुआ किनारा है, मां, मां गालों पर पप्पी है, ममता की धारा है।
14
15
1.हम एक शब्द हैं तो वह पूरी भाषा है, हम कुंठित हैं तो वह एक अभिलाषा है। बस यही मां की परिभाषा है... हम समुंदर का है तेज तो वह झरनों का निर्मल स्वर है, हम एक शूल है तो वह सहस्त्र ढाल प्रखर है।
15
16
Happy mothers day प्रस्तावना : पूरी दुनिया में मई माह के दूसरे रविवार को मातृ दिवस (second sunday of may every year) मनाया जाता है। इस वर्ष रविवार, 8 मई 2022 को मातृ दिवस मनाया जा रहा है।
16
17
जिंदगी में न जाने कितने मोड़ पर न जाने कितने और कैसे-कैसे अनुभव हुए लेकिन हर बार मामीजी के शिक्षाप्रद वचन और ममत्व छलकाती गहरी आंखों ने अपार शक्ति और अटूट आत्मविश्वास का संचार किया। मामीजी के बचपन के बारे में मुझे उनकी माताजी द्वारा पता लगा, वह भी ...
17
18
आप सभी ने अपने जीवन में मां की डांट न खाई हो ऐसा तो हो ही नहीं सकता। एक समय ऐसा आता है जब आप अपनी मां के डायलॉग से भली भांति परिचित हो जाते हैं। लगातार उन वाक्यों को सुनकर आप पहले ही समझ जाते हैं की अब हमारी मां यह बोलने वाली हैं। इन वाक्यों का ...
18
19
आप हर मातृ दिवस को धूमधाम से मनाते होंगे। केक, चॉकलेट, रेस्त्रां का भोजन, कार्ड, फोटो इत्यादि आप आपकी मां को उपहार में देते होंगे। पर यह उपहार चंद पल का ही सुख दे पाते हैं। यह आपकी मां के चेहरे पर एक प्रसन्न मुद्रा लेकर आते हैं। पर सोचिए कि क्यों न ...
19
20
उनमें मुझे हमेशा देवी के नौ रूपों के दर्शन होते रहे। ‘शैल पुत्री’ के रूप में शक्तिशाली और साहसी. परिवार के सभी संकटों, उतार चढ़ाव को मजबूती से सकारात्मकता से स्वीकार कर बिना घबराए सामना करने की अद्भुत शक्ति।
20
21
ए खुदा बंदों को महसूस हो तेरी मौजूदगी औ ख़ुदाई, इस वास्ते तूने इस ज़मी पर इन्सान की "माँ" बनाई !
21
22
माँ देहरी पर सजती कुंकुम रंगोली है, घर को आलोकित करता निष्कंप दीपक है, अंजुलि से 'आदित्य' को चढ़ता आस्था का अर्घ्य है और चमकते चंद्रमा सा एक शीतल धैर्य है। वह जीवन की पाठशाला की गुरुजी ही नहीं बल्कि चॉक, कलम, पट्‍टी और तड़ातड़ पड़ती छड़ी भी वही है।
22
23
फिर एक मदर्स डे आया है और मैं एक खत लिख रही हूँ...किसे लिख रही हूँ नहीं जानती... किसे कहूं अपने मन की व्यथा? एक तरफ मैं हूँ मां....दूसरी तरफ एक सिस्टम है और बीच में है जिंदगियों को निगलता कोरोना... और हम मना रहे हैं (अन) हैप्पी मदर्स डे”
23
24
मेरी मां मेरी सबसे बड़ी अध्यापक थीं- करुणा, प्रेम, निर्भयता की एक शिक्षक। अगर प्यार एक फूल के जितना मीठा है, तो मेरी मां प्यार का मीठा फूल है।
24
25
मां पर कौन पढ़ता है कविता, कहानी या अन्य साहित्य। पत्नी या प्रेमिका का स्वार्थपूर्ण प्रेम लोगों को पसंद हो सकता है, लेकिन मां का नि:स्वार्थ प्रेम आज की पीढ़ी को पसंद नहीं। उनके दिल में मां के प्रति संवेदनाएं नहीं हैं क्योंकि हमारी शिक्षा और हमारा ...
25
26
मां पर बचपन में एक कहानी पड़ी थी जो मुझे आज भी याद है। जब भी मुझे किसी बात को लेकर मां पर गुस्सा आता है तो मुझे यह कहानी याद आ जाती है। वह लोग जो अपनी मां पर किसी ना किसी बात को लेकर क्रोधित होते रहते हैं। मां से ज्यादा पत्नी या प्रेमिका को महत्व ...
26
27
मां के प्यार और समर्पण को कभी भी जताया नहीं जा सकता है। लेकिन फिर भी एक दिन ऐसा भी है जो पूरी तरह मां को समर्पित होता है, इस दिन को मातृत्व दिवस (मदर्स डे) कहते हैं।
27
28
मां शब्द अत्यंत प्रिय और बहुव्यापक है। जन्मदात्री मां गर्भ धारण और पोषण करती है। इसलिए वह श्रेष्ठ है, किंतु जो पालन पोषण करती है उनका महत्व सौ गुना अधिक है।
28
29
वेदों में 'मां' को 'अंबा','अम्बिका','दुर्गा','देवी','सरस्वती','शक्ति','ज्योति','पृथ्वी' आदि नामों से संबोधित किया गया है। इसके अलावा 'मां' को 'माता', 'मात', 'मातृ', 'अम्मा', 'अम्मी', 'जननी', 'जन्मदात्री', 'जीवनदायिनी', 'जनयत्री', 'धात्री', ...
29
30
Happy Mothers Day : जितना खास है यह दिन, उतनी ही रोचक है इस दिन को मनाने की शुरुआत भी। अलग-अलग देशों में इस दिन को मनाने की अलग-अलग कहानी है। जानिए कब, क्यों और कैसे हुई मदर्स डे मनाने की शुरुआत -
30
31
जानता हूं मां, काटी है तूने कई रातें आंखों में, बस मेरी खुशी की खातिर। अपने बड़े होने के एहसास को मैंने तेरी आंखों में चमकते देखा है। पर तू चिंता न कर, अब मैं बड़ा हो गया हूं। दुनिया की धरती पर अपने पैरों पर खड़ा हो गया हूं। ये जमीन तूने ही तो दी है ...
31
32
मां, तुम्हारी स्मृति, प्रसंगवश नहीं अस्तित्व है मेरा। धरा से आकाश तक
32