0

Mother's Day Quotes Hindi : मदर्स डे पर अनमोल वचन

रविवार,मई 10, 2020
0
1
वेद शास्त्रों में तो सोलह प्रकार की माताओं का उल्लेख है। दूध पिलाने वाली (धाय), गर्भ धारण करने वाली, भोजन देने वाली, गुरु पत्नी, ईष्ट देव की पत्नी, सौतेली मां, सौतेली मां की बेटी, सगी बड़ी बहन, स्वामी की पत्नी, सास, नानी, दादी, सगे बड़े भाई की ...
1
2
मां मैं खुश होती हूं जब बनाती हूं बची हुई रोटियों से रोटी पिज़्ज़ा! या जब काट लेती हूं पुरानी कढ़ाई वाली चुन्नी से छोटे-छोटे खूबसूरत स्कार्फ! या जब नया कुछ ना खरीद कर सज्जा बदल पुनरउपयोगी कर लेती हूं पुरानी साड़ियां और गहने!
2
3
मां बनने की आहट ज़िन्दगी में कई बदलाव लाती है बेटा..... सिर्फ शारीरिक ही नहीं..... और भी कई.....। जब अपने परिजनों को ये शुभ सूचना मिलती है तो निश्चय ही उनकी खुशी का पारावार नहीं रहता और उनकी फिक्र तुम्हारे लिये कई गुना बढ़ जाती है। बस.....!
3
4
2020 में थीम कुछ खास है,इस बार इन्हें विशेष सम्मान देने को लेकर थीम बनाया गया है। जो परिवार के साथ-साथ देश को भी कोरोना महामारी से बचाने के लिए सेवा दे रहीं है। वर्ष 2017 में मातृदिवस के लिए थीम 'हर मां जानती है' था। वर्ष 2016 में मातृदिवस के ...
4
4
5
मां प्यारी मां गोद में तेरी खेला बचपन मेरा, आज सुखी है मौज में तेरी फूल सा जीवन मेरा
5
6
मां तुम जो रंगोली दहलीज पर बनाती हो उसके रंग मेरी उपलब्धियों में चमकते हैं तुम जो समिधा सुबह के हवन में डालती हो उसकी सुगंध मेरे जीवन में महकती है तुम जो मंत्र पढ़ती हो वे सब के सब मेरे मंदिर में गुंजते हैं तुम जो ढेर सारी चूडियां ...
6
7
संसार महान व्यक्तियों के बिना रह सकता है, लेकिन मां के बिना रहना एक अभिशाप की तरह है। इसलिए संसार मां का महिमामंडन करता है, उसके गुणगान करता है। इसके लिए मदर्स डे, मातृदिवस या माताओं का दिन चाहे जिस नाम से पुकारें, दिन निर्धारित है।
7
8
मां का दिल मत दुखाना, जीवन में सबकुछ मिल जाता है लेकिन मां नहीं मिलती खुश रखा करो मां को फिर देखो जन्नत कहां नहीं मिलती
8
8
9
उनमें मुझे हमेशा देवी के नौ रूपों के दर्शन होते रहे। ‘शैल पुत्री’ के रूप में शक्तिशाली और साहसी. परिवार के सभी संकटों, उतार चढ़ाव को मजबूती से सकारात्मकता से स्वीकार कर बिना घबराए सामना करने की अद्भुत शक्ति।
9
10
मई महीने के दूसरे रविवार को मदर्स डे है....अलग-अलग देशों में इस दिन को मनाने की अलग-अलग कहानी है। जानिए कब, क्यों और कैसे हुई मदर्स डे मनाने की शुरुआत -
10
11
जीवन के अनगिनत रहस्यों, सीख और कौशल को समेटे वे अपने आप में संपूर्ण नारी थीं। उनसे जुड़ी तमाम बातें और यादें ऐसी हैं, जो सभी अपने आप में विशिष्ट हैं। लेकिन एक ऐसी घटना है जिसे मैं ताउम्र अपने स्मरणदीप में संजोकर दैदीप्य रखना चाहूंगी।
11
12
मां से भी कोई माफी मांगता है भला? ना, मां तो वह, जो अपनी होती है, बहुत अच्छी होती है और उससे माफी नहीं मांगी जाती इसीलिए तो वह सबसे स्पेशल होती है। क्योंकि वह कभी नहीं रूठती। कभी भी नहीं। दुनिया की सारी मम्मियों, दुनिया के सारे बच्चे आज आपको I ...
12
13
मां मेरे हिस्से बहुत कम आती है..! शिकायत नहीं, बस एक हकीकत है. मां हूं, पर मां की मुझे भी ज़रूरत है. देहरी लांघने से बेटी क्या बेटी नहीं रह जाती है?
13
14
मां तन्हा यहां मैं कितनी, उड़कर आने को मन करता, तेरी गोद में सिर रखकर, सुकून पाने को मन करता !
14
15
मां तू एक पवन का झोंका है। जो दुआओं का आंचल लहराती हर वक्त मेरे पास खड़ी रहती है। कैसे पता चल जाती है, तुझे हर वह बात जो मथती है मन मेरा?
15
16
बड़ी अनुपम अनुभूति होती है, जब हम अपनी मां को महत्व देते हैं। लेकिन क्या मां को याद करने के लिए सिर्फ 'एक ही दिन' पर्याप्त है?
16
17
मां है वह ममता की महान मूरत, जिसकी मुस्कान के सहारे खिल उठती है सूरत।
17
18
हां, मां को सब पता होता है, जो हम बताते हैं वो भी और जो नहीं बताते वो भी। जैसे भगवान से कुछ नहीं छुपता, वैसे ही मां से कुछ नहीं छुपता।
18
19
माता के समान कोई छाया नहीं है, माता के समान कोई सहारा नहीं है। माता के समान कोई रक्षक नहीं है और
19