गुरुवार, 2 फ़रवरी 2023
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. मध्यप्रदेश
  4. Indore administration woke up after death
Written By
Last Updated: शनिवार, 2 अक्टूबर 2021 (00:18 IST)

मौत के बाद जागा इंदौर प्रशासन, अब भरे जाएंगे 'मौत के गड्‍ढे'

इंदौर। आमतौर पर शासन और प्रशासन तभी जागता है जब कभी हादसा होता है या फिर कोई बड़ी घटना घटित होती है। बदहाल सड़कों के कारण हो रही मौतों ने आखिरकार प्रशासन को 'गहरी' नींद से जगा ही दिया।

आमतौर पर होता यह है कि बारिश के बाद सड़कों पर जगह-जगह गड्‍ढे दिखाई देने लग जाते हैं। इन्हीं गड्‍ढों में वाहन असंतुलित हो जाते हैं और दुर्घटनाएं घटित होती हैं। कई बार लोगों की जान चली जाती है या फिर वे गंभीर रूप से घायल हो जाते हैं। समय रहते जिम्मेदारों की इन पर नजर ही नहीं पड़ती।

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों गड्‍ढों के चलते दुर्घटनाग्रस्त हुई एक छात्रा की मौत हो गई। इसी तरह इंदौर में ही पढ़ने वाला लॉ स्टूडेंट दुर्घटनाग्रस्त हो गया, लेकिन खराब सड़क के कारण एंबुलेंस समय पर अस्पताल नहीं पहुंच पाई और परिजनों को असमय ही अपने कलेजे के टुकड़े को खोना पड़ा।

प्रभारी कलेक्टर और निगमायुक्त श्रीमती प्रतिभा पाल ने हालांकि पेंचवर्क के निर्देश दिए हैं और काम शुरू भी हो गया है। साथ ही यह भी निर्देश दिए हैं कि अब कहीं पर भी काम करते हुए सुरक्षा मानकों का विशेष ध्यान रखा जाए और उससे संबंधित उपकरण सभी झोन पर उपलब्ध रहें। सड़कों की खुदाई करते वक्त सुरक्षा की दृष्टि से चारों ओर उसकी बैरिकेडिंग अनिवार्य रूप से की जाए।

कौन समझेगा इस पिता का दर्द : 18 वर्षीय तनिष्क के पिता विनोद कुमार का दर्द शायद ही कोई समझ पाए। उनका कहना था कि मैं जब कन्नौद के अस्पताल पहुंचा तो डॉक्टरों ने कहा कि तनिष्क को तुरंत इंदौर के किसी बड़े अस्पताल में ले जाना होगा। खून काफी बह रहा है। समय पर यदि इलाज मिल जाएगा तो उसकी जान बच जाएगी।

जैसे-तैसे एम्बुलेंस मिली और वे जख्मी बेटे को लेकर इंदौर की ओर रवाना हो गए। लेकिन खराब सड़क उनके लिए दुर्भाग्य बन गई। घायल बेटे को वे समय पर अस्पताल नहीं पहुंचा पाए। बॉम्बे अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टरों ने कहा कि खून काफी बह चुका है। यदि थोड़ा पहले ले आते तो शायद जान बच सकती थी।

यहां चल रहा है काम : झोन 18, 5, 6, 10, 15, 17, 19 के अंतर्गत रिंग रोड चाणक्यपुरी चौराहे से राजेंद्र नगर मेनरोड, मुसाखेड़ी चौराहे से आईटी पार्क रिंगरोड तक, MR10 रोड चंद्रगुप्त मौर्य चौराहे से बापट चौराहे तक, अटल द्वार गेट से पाटनीपुरा चौराहे तक, स्टार चौराहे पर, धार रिंगरोड, केसर बाग मेनरोड, मानिक बाग कॉलोनी मेनरोड, तिरुमाला शालीमार कॉलोनी क्षेत्र, बिचोली मर्दाना, मयंक ब्लू वाटर पार्क, बंगाली चौराहा मयूर हॉस्पिटल के सामने, कृष्णबाग कॉलोनी, प्रेम नगर के साथ ही शहर के विभिन्न जोन एवं वार्ड क्षेत्रों में क्षतिग्रस्त सड़कों पर मोरम एवं चुरी डालकर समतल करने के साथ ही मेटल पैचवर्क का कार्य किया जा रहा है।
ये भी पढ़ें
मनीष गुप्ता मामले में योगी सरकार ने की CBI जांच की सिफारिश