शुक्रवार, 12 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. चुनाव 2023
  2. विधानसभा चुनाव 2023
  3. मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2023
  4. Exit polls of Gwalior-Chambal of Madhya Pradesh
Written By Author विकास सिंह
Last Updated : गुरुवार, 30 नवंबर 2023 (20:54 IST)

Exit Poll: केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के मुरैना जिले में भाजपा और कांग्रेस में बराबर की टक्कर

Exit Poll:  केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के मुरैना जिले में भाजपा और कांग्रेस में बराबर की टक्कर - Exit polls of Gwalior-Chambal of Madhya Pradesh
मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के एग्गिज पोल में सबसे अधिक चर्चा ग्वालियर-चंबल की हो रही है। ग्वालियर-चंबल की 34 सीटों पर इस बार कांग्रेस और भाजपा की सबसे अधिक आशा टिकी है। वेबदुनिया ने 17 नवंबर की वोटिंग के बाद जब ग्वालियर-चंबल के वोटर्स और सियासत के जानकारों से बात की तो इस बार भाजपा 2018 के मुकाबले कुछ बेहतर स्थिति में दिख रही है। ग्वालियर-चंबल में भाजपा इस बार 12-16 सीटें जीत सकती  है। वहीं कांग्रेस ने 16-20 सीटें जीत सकती है। वहीं 1 सीटें बसपा के खाते में जा सकती है। दरअसल 2018 के विधानसभा चुनाव में ग्वालियर-चंबल की 34 विधानसभा सीटों में से भाजपा मात्र 7 सीटों पर सिमट गई थी और उसको सत्ता से बाहर होना पड़ा था।

ग्वालियर चंबल में इस बार सबसे अधिक चर्चा में जिला मुरैना है। जहां भाजपा ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को चुनावी मैदान में उतारा है। मुरैना जिले की 6 विधानसभा सीटों में इस बार भाजपा 3 और कांग्रेस 3 विधानसभा सीटों पर जीत सकती है। वहीं एक सीट पर कांटे का मुकाबला है। गौरतलब है कि 2018 के विधानसभा चुनाव में मुरैना जिले की सभी छह सीटें कांग्रेस के खाते में गई थी।

मुरैना की दिमनी विधानसभा सीट से केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के चुनाव लड़ने के कारण सबसे अधिक चर्चा के केंद्र में  है। वोटिंग के बाद स्थानीय लोगों  से चुनावी जानकारों से बात करने पर इस सीट पर भाजपा की जीत का अनुमान है। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर चुनाव जीत सकते है। हलांकि कांग्रेस के रविंद्र सिंह तोमर, बसपा के बलवीर दंडोतिया के चलते यह सीट त्रिकोणीय मुकाबले में फंसी है।

इसमें मुरैना विधानसभा सीट पर भाजपा के रघुराज कंसाना और कांग्रेस के दिनेश गुर्जर के बीच कांटे का मुकाबला है हलांकि नजदीकी मुकाबले में भाजपा यह सीट जीत सकती है। इसकी बड़ी वजह पूर्व कैबिनेट मंत्री रूस्तम सिंह बेटे का बसपा के टिकट पर चुनावी मैदान में उतरना है।

वहीं मुरैना की सुमावली विधानसभा सीट पर कांग्रेस के अजब सिंह कुशवाह और भाजपा के एंदल सिंह कंसाना के साथ बसपा के कुलदीप सिकरवार के बीच त्रिकोणीय मुकाबला है। हलांकि नजदीकी मुकाबले भाजपा यह सीट जीत सकती है।

मुरैना की जौरा विधानसभा सीट पर कांग्रेस के पंकज उपाध्याय और भाजपा के सूबेदार सिंह सिकरवार के बीच सीधा मुकाबला है। जौरा विधानसभा सीट पर कांग्रेस के पंकज उपाध्याय चुनाव जीत सकते है। वहीं मुरैना जिले की  अम्बाह विधानसभा सीट पर कांग्रेस के देवेंद्र सखवार और भाजपा के कमलेश जाटव के बीच सीधा मुकाबला है। इस सीट पर कांग्रेस को सफलता मिल सकती है। वहीं मुरैना जिले की सबलगढ़ विधानसभा सीट पर भाजपा की सरला विजेद्र रावत और कांग्रेस के बैजनाथ कुशवाह के बीच सीधा मुकाबला है और यहां पर भी कांग्रेस भारी पड़ती दिख रही है।
ये भी पढ़ें
Exit Poll: सिंधिया की साख वाले ग्वालियर जिले में भाजपा पर भारी पड़ सकती है कांग्रेस