गुरुवार, 25 जुलाई 2024
  • Webdunia Deals
  1. चुनाव 2024
  2. लोकसभा चुनाव 2024
  3. लोकसभा चुनाव: स्पेशल स्टोरीज
  4. Lok Sabha election issues changing Phase by Phase away from reality
Last Updated : गुरुवार, 9 मई 2024 (20:05 IST)

हकीकत से दूर चरण दर चरण बदलते लोकसभा चुनाव के मुद्दे

Lok Sabha Election 2024
Lok Sabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव 2024 7 चरणों में पूरा होने वाला है। इसके लिए तीन चरण में आधी से ज्यादा सीटों के लिए मतदान हो भी चुका है। लेकिन, चुनाव प्रचार के दौरान उठाए जा रहे मुद्दे हर चरण में बदल रहे हैं। हालांकि इन मुद्दों का आम आदमी से कोई लेना-देना नहीं है। महंगाई, रोजगार, विकास आदि के स्थान पर मंगलसूत्र, जाति जनगणना, विरासत टैक्स, वोट जिहाद, राम मंदिर जैसे मुद्दे उठ रहे हैं। विपक्ष ने सेना की अग्निवीर भर्ती योजना, किसान कानून और पेपर लीक जैसे मामले भी उठाए। हालांकि यह किसी एक राजनीतिक दल की बात नहीं है, सभी की स्थिति एक जैसी है। 
 
चुनाव के शुरुआती दौर में कांग्रेस और मोदी की गारंटियां हावी रहीं। तमिलनाडु में पीएम नरेन्द्र मोदी कच्चातीवु द्वीप मामले में कांग्रेस को घेरने की कोशिश की, वहीं विपक्षी गठबंधन ने भाजपा को तमिल विरोधी करार दिया। मोदी ने भ्रष्टाचार को भी मुद्दा बनाया, लेकिन समय के साथ यह मुद्दे हवा हो गए। पहले चरण में जातिगत जनगणना, ओबीसी आरक्षण, परिवारवाद, रोजगार जैसे मुद्दे हवा में तैरते रहे। ALSO READ: लोकसभा चुनाव में मुकाबला विकास के लिए वोट और जिहाद के लिए वोट के बीच : अमित शाह
 
आरक्षण और जाति जनगणना : राहुल गांधी ने बार-बार जातिगत जनगणना कराने की बात कही, सत्तारूढ़ दल ने विपक्ष पर आरोप लगाया कि यदि ये गठबंधन सत्ता में आया तो आरक्षण खत्म कर देंगे। मोदी समेत एनडीए के अन्य नेताओं ने राहुल गांधी, तेजस्वी यादव, अखिलेश यादव समेत अन्य नेताओं पर परिवारवाद को लेकर निशाना साधा। वहीं, विपक्ष ने प्रधानमंत्री मोदी को 2 करोड़ रोजगार देने के वादे को याद दिलाते हुए उन पर निशाना साधा। 
 
मंगलसूत्र बना चुनावी मुद्दा : दूसरा चरण आते-आते ये सभी मुद्दे लगभग गायब हो गए। बीच-बीच में ओबीसी आरक्षण और परिवारवाद की बात भी सामने आती रही। ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष (अब पूर्व) ने विदेश का उदाहरण देते हुए विरासत टैक्स की बात कहकर कांग्रेस को मुसीबत में डाल दिया। संपत्ति सर्वेक्षण के मुद्दे पर पीएम ने कांग्रेस को घेरते हुए कहा कि वह आपका मंगलसूत्र छीनना चाहती है। कांग्रेस का इरादा सभी का पैसा, सोना-चांदी, जमीन कब्जा करने का है। उसका एक हिस्सा ये लोग अपने वोट बैंक (मुसलमानों) को दे देंगे। ALSO READ: कांग्रेस ने किया तंज, कहा- सही मायनों में BJP सरकार मंगलसूत्र छीनने के लिए जिम्मेदार
 
जवाब में प्रियंका गांधी ने कहा कि कांग्रेस ने 55 साल तक शासन किया। क्या किसी ने आपका सोना या आपका मंगलसूत्र लूटा है? जब युद्ध चल रहा था तो दादी इंदिरा गांधी ने देश को अपना सोना दिया। मेरी मां (सोनिया गांधी) का मंगलसूत्र इस देश के लिए बलिदान हो गया। प्रियंका तो यहां तक बोल गईं कि किसानों के विरोध के दौरान, 600 किसानों की जान चली गई, क्या मोदी जी ने सोचा था उन विधवाओं के 'मंगलसूत्र' के बारे में? इस बीच, कांग्रेस ने संविधान को मुद्दा बनाया। कांग्रेस ने भाजपा नेताओं को बयानों को आधार बनाते हुए कहा कि ये 400 से ज्यादा लोकसभा सीटें इसलिए चाहते हैं ताकि संविधान को बदल सकें। हालांकि मोदी ने कहा कि संविधान को कोई नहीं बदल सकता। ALSO READ: आज मैं बहुत गुस्से में हूं... क्या है PM नरेन्द्र मोदी की नाराजगी की वजह
 
लोकसभा चुनाव में पाकिस्तान की एंट्री : तीसरा चरण आते-आते इन चुनावी मुद्दों की धार कमजोर हो गई और उनके स्थान पर दूसरे जुमले आ गए। इस चरण में पाकिस्तान की एंट्री हो गई। मोदी ने एक चुनावी रैली में कहा कि यहां कांग्रेस मर रही है, वहां पाकिस्तान रो रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान के नेता शहजादे को प्रधानमंत्री बनाने के लिए दुआ कर रहे हैं। मुस्लिम आरक्षण की बात उठने पर प्रधानमंत्री ने कहा कि सिर्फ वोट बैंक के लिए विपक्षी गठबंधन के नेता ओबीसी, एससी, एसटी समाज को मिला आरक्षण छीनकर पूरा आरक्षण मुसलमानों को देना चाहते हैं। ALSO READ: सियासी लाभ के लिए PM मोदी ने फैलाई नफरत, सोनिया गांधी का वीडियो मैसेज, जनता को बताया क्यों दें कांग्रेस को वोट
 
राम मंदिर और वोट जिहाद : राम मंदिर का मुद्दा यूं तो पहले चरण से ही थोड़ा-थोड़ा उठ रहा था, लेकिन तीसरा चरण आते-आते उसका स्वरूप ही बदल गया। पीएम और गृहमंत्री अमित यदि विपक्षी गठबंधन आया तो ये राम मंदिर पर बाबरी का ताला लगा देंगे। हालांकि प्रियंका गांधी ने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं होगा। हम न्यायालय के फैसले का सम्मान करते हैं। तीसरे चरण में वोट जिहाद का मुद्दा भी खूब गरमाया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद की भतीजी मारिया आलम ने मुसलमानों से अपील की कि वोट जिहाद करो। क्योंकि वोट जिहाद करके ही हम इस इस सरकार को भगाने का काम कर सकते हैं। जवाब में कांग्रेस को घेरते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने बार-बार कहा कि भारत में वोट जिहाद चलेगा या राम राज्य चलेगा। 
 
अडाणी और अंबानी बने मुद्दा : चौथे चरण में अडाणी और अंबानी मुद्दा बन गए। नरेन्द्र मोदी ने एक रैली में कहा कि शहजादे ने अडाणी और अंबानी को गाली देना बंद कर दिया है। क्या शहजादे के घर टेंपो से माल पहुंचा है। जवाब में राहुल ने कहा कि इसकी ईडी और सीबीआई से जांच करा लीजिए। प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद की रिपोर्ट सार्वजनिक होने के बाद हिन्दू बनाम मुस्लिम मुद्दा बन गया। इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि हिन्दुओं की आबादी घटी है, जबकि मुस्लिमों की आबादी बढ़ गई है। हालांकि राहुल गांधी ने वीडियो जारी कर कहा कि 4 जून को इंडिया गठबंधन की सरकार बन रही है और 30 लाख भर्तियों के लिए 15 अगस्त से प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। 
 
मुद्दे बदलने का सिलसिला सातवें चरण तक यूं ही चलता रहेगा। हो सकता आने वाले चरणों में मतदाताओं को राजनेताओं से कुछ नए जुमले सुनने को मिलें। हालांकि वोटर के मन में क्या है यह कोई नहीं चाहता। लेकिन, 4 जून को परिणाम आने के बाद पता चलेगा कि मतदाताओं को किन मुद्दों ने सबसे ज्यादा प्रभावित किया।