काइल जैमिसन का कहर, 3 विकेट चटकाकर भारतीय मध्यक्रम किया ध्वस्त

Last Updated: गुरुवार, 25 नवंबर 2021 (15:38 IST)
उच्च कोटि का तेज गेंदबाज वह होता है जो स्पिन की पिच पर भी विकेट निकाल ले। आज भारत के खिलाफ कानपुर टेस्ट की ग्रीन पार्क की पिच पर काइल जैमिसन ने खुद को साबित किया। वह अब तक 3 विकेट निकाल चुके हैं।

विदेशी धरती पर अपना तीसरा टेस्ट मैच खेल रहे काइल जैमिसन ने सुबह मयंक अग्रवाल का विकेट लेने के बाद दूसरे सत्र में टीम इंडिया को 2 बड़े झटके दिए। अर्धशतक बना चुके शुभमन गिल (52) को उन्होंने बोल्ड किया और फिर अच्छी लय में दिख रहे कप्तान अजिंक्य रहाणे (35) को भी उन्होंने प्लेड ऑन करके पवैलियन की राह दिखाई।
गौरतलब है कि जैमीसन ने की शानदार शुरुआत की थी और केवल आठ टेस्ट मैचों में उन्होंने 46 विकेट चटका लिए हैं। वह राष्ट्रीय टीम के साथ पहली बार भारतीय दौरे पर आये हैं।

जैमीसन ने विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल सहित भारत के खिलाफ तीन टेस्ट मैचों में जीत में अहम भूमिका निभायी थी। उन्होंने दो बार भारतीय कप्तान विराट कोहली का विकेट लिया था। साउदी और वैगनर की मौजूदगी में उन्हें भारत के खिलाफ पहले टेस्ट में अंतिम एकादश में जगह मिलने की संभावना तक नहीं दिख रही थी लेकिन पहले दिन वह सबसे सफल गेंदबाज साबित हो रहे हैं।

दिलचस्प बात यह रही है कि 3 स्पिनर्स को अंतिम ग्यारह में शामिल करने वाली टीम के लिए अब तक 4 विकेट उनके तेज गेंदबाजों ने ही निकाले हैं।

भारत ने चाय तक 154 तक खोए 4 विकेट

चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे के फिर से लंबी पारियां खेलने में नाकाम रहने के कारण भारत ने न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट क्रिकेट मैच के शुरुआती दिन गुरुवार को यहां चाय के विश्राम तक चार विकेट पर 154 रन बनाये।

लंबे कद के तेज गेंदबाज (38 रन देकर तीन) ने फिर से भारतीय बल्लेबाजों को परेशानी में डाला। उन्होंने पहले सत्र में प्रभावशाली बल्लेबाजी करने वाले सलामी बल्लेबाज शुभमन गिल (93 गेंदों पर 52 रन) को लंच के बाद पहले ओवर में आउट करने के बाद अच्छी लय में दिख रहे कप्तान रहाणे (63 गेंदों पर 35 रन) को पवेलियन भेजा

अनुभवी तेज गेंदबाज टिम साउदी (30 रन देकर एक) ने इस बीच चेतेश्वर पुजारा (88 गेंदों पर 26 रन) की एकाग्रता भंग की। भारत ने मयंक अग्रवाल (28 गेंदों पर 13) का विकेट पहले सत्र में गंवा दिया था।चाय के विश्राम के समय अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे श्रेयस अय्यर 17 और रविंद्र जडेजा छह रन पर खेल रहे थे।

गिल ने अपने कट और ड्राइव का शानदार नमूना पेश करके पहले सत्र में न्यूजीलैंड के मुख्य स्पिनर अयाज पटेल को बैकफुट पर रखा था लेकिन उनके दूसरे सत्र के शुरू में पवेलियन लौटने से भारतीय पारी का प्रवाह प्रभावित हुआ।

जैमीसन की फुललेंथ गेंद को रक्षात्मक रूप से खेलने के लिये गिल आगे बढ़े लेकिन गेंद उनके बल्ले और पैड के बीच से निकलकर विकेटों में समा गयी। गिल ने अपनी पारी में पांच चौके और पटेल पर छक्का लगाया।

पुजारा के पास शतक का लंबा इंतजार समाप्त करने का यह बेहतरीन मौका था। उन्होंने जैमीसन और पटेल पर चौका लगाकर अभी हाथ खोलने का प्रयास किया था कि साउदी की पांचवें स्टंप की लाइन पर की गयी गेंद उनके बल्ले को चूमती हुई विकेटकीपर टॉम ब्लंडेल के दस्तानों में समा गयी।

पुजारा ने अपना आखिरी टेस्ट शतक जनवरी 2019 में लगाया था। वह पिछले 23 टेस्ट और 39 पारियों से तिहरे अंक में नहीं पहुंचे हैं और इस बीच उनका औसत 28.78 रहा है।

यही आलम रहाणे का रहा जिनके करियर के लिये न्यूजीलैंड के खिलाफ दो टेस्ट मैच अहम साबित हो सकते हैं। एकबारगी लग रहा था कि ग्रीन पार्क की पिच उन्हें रास आ रही है और वह बड़ी पारी खेलकर दक्षिण अफ्रीका जाने वाली टीम में अपनी जगह सुरक्षित कर लेंगे लेकिन जैमीसन ने जल्द ही यह भ्रम तोड़ दिया।

रहाणे ने जैमीसन की बाहर जाती गेंद को बैकफुट पर जाकर कट करने के प्रयास में अपने विकेटों पर खेला। इससे ठीक पहली गेंद पर वह डीआरएस लेने के कारण आउट होने से बचे थे। उन्होंने अपनी पारी में छह चौके लगाये।



और भी पढ़ें :