क्या है Dogecoin? क्यों चर्चा में है यह क्रिप्टोकरेंसी...

Last Updated: मंगलवार, 5 अक्टूबर 2021 (21:49 IST)
क्रिप्टो करेंसी में लोगों का रुझान तेजी से बढ़ रहा है। यहां निवेशक भारी रिस्क के साथ निवेश करते हैं। इसमें लाभ की जितनी ज्यादा संभावना है, उतनी ही नुकसान की आशंका भी है। क्रिप्टोकरेंसी की खूबी है कि यह किसी सरकार, संस्था या व्यक्ति के हाथों में केंद्रित नहीं रहती।

क्रिप्टो करेंसी में लोगों की सबसे ज्यादा ‍दिलचस्पी बिट कॉइन में है। हाल ही में द्वारा निवेश के बाद सभी की नजर पर टिक गई है। इसे क्रिप्टो करेंसी की दुनिया में चौथी सबसे लोकप्रिय करेंसी माना जाता है।
क्या है : डॉग कॉइन एक क्रिप्टो करेंसी है। इसकी शुरुआत 2013 में प्रसिद्‍ध सॉफ्टवेअर कंपनी IBM के दो सॉफ्टवेयर इंजीनियर बिली मार्कस और जैक्सन पामर ने की थी। शुरुआत में इसे क्रिप्टोकरेंसी पर मजाक माना गया पर धीरे-धीरे इसकी लोकप्रियता बढ़ने लगी। बिटकॉइन की संख्या 21 मिलियन से ज्यादा नहीं हो सकती जबकि पहले से ही 100 बिलियन से ज्यादा Dogecoin मार्केट में हैं।
क्या है Dogecoin और एलन मस्क का संबंध : दुनिया के सबसे अमीर व्यक्तियों में शुमार एलन मस्क कई बार Dogecoin में दिलचस्पी दिखा चुके हैं। देखा जाए तो इसकी कीमतों में उछाल का श्रेय मस्क को ही जाता है। इतना ही नहीं, एलन मस्क एक बार तो अपने ट्विटर प्रोफाइल में खुद को फॉर्मर CEO ऑफ Dogecoin भी बता चुके हैं।

15 अप्रैल को मस्क ने ट्वीट कर कहा था कि Doge barking on the moon. इस पर कई लोगों ने सवाल किया कि Doge कैसे खरीद सकते हैं?

कॉइनगेको वेबसाइट पर उपलब्ध डाटा के अनुसार 1 फरवरी को Dogecoin की कीमत करीब 3.8 सेंट थी जो अब 5 मई को 66 सेंट तक पहुंच गई।
इस तरह अगर किसी ने फरवरी की शुरुआत में Dogecoin में 100 डॉलर निवेश किए होते तो अभी उस निवेश की वैल्यू 1700 डॉलर हो गई होती। 11 दिन पहले
8 मई 2021 को इसने अपना पीक $0.731578 पर देखा। इसका मार्केट कैप 53 अरब डॉलर से ज्यादा है।



और भी पढ़ें :