दिनेश कार्तिक का करियर खत्म मान चुके थे कुछ विशेषज्ञ, इस कारण टी-20 टीम में वापसी को बताया सबसे खास

Last Updated: मंगलवार, 24 मई 2022 (15:26 IST)
हमें फॉलो करें
कोलकाता: विकेटकीपर बल्लेबाज का मानना है कि इस बार भारतीय टीम में चयन पिछले 18 साल के उनके उतार चढाव भरे कैरियर में उनकी ‘सबसे खास वापसी’ है।कार्तिक को नौ जून से दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शुरू हो रही टी20 श्रृंखला के लिये भारतीय टीम में चुना गया है।

36 वर्ष के इस खिलाड़ी ने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर की वेबसाइट पर कहा ,‘‘ यह सबसे खास वापसी है क्योंकि कई लोगों ने मेरा बोरिया बिस्तर बांध दिया था। मेरे लिये वापसी के मायने हैं कि मैं उसी तरह से खेलूंगा, वैसे ही अभ्यास करूंगा और उतनी ही मेहनत करूंगा।’’

आईपीएल में कार्तिक के शानदार प्रदर्शन ने चयनकर्ताओं को उन्हें चुनने के लिये मजबूर कर दिया। वह आखिरी बार भारत के लिये 2019 विश्व कप में खेले थे।उन्होंने आरसीबी के टीम प्रबंधन की तारीफ की जिन्होंने एक फिनिशर की भूमिका के लिये उनका हमेशा साथ दिया।
कार्तिक ने कहा ,‘‘ उन्होंने साफ तौर पर मेरी भूमिका बताई और मेरा साथ दिया। मैं आरसीबी का ऋणी रहूंगा जिसने मुझे चुना और मुझ पर भरोसा करके मुझे यह जिम्मेदारी दी। मैने अपनी ओर से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की कोशिश की। मैं बहुत अच्छा महसूस कर रहा हूं।’’कार्तिक का लक्ष्य इस साल के आखिर में आस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 विश्व कप की टीम में जगह बनाना है।

उन्होंने कहा ,‘‘ चयन के दावेदार कई युवा खिलाड़ी होंगे जिनका हुनर सबके सामने हैं। इनके बीच विश्व कप टीम में जगह बनाने के दावेदारों में शामिल होना बहुत अद्भुत अहसास है।’’उन्होंने कहा ,‘‘ मुझे पता है कि अभी मंजिल दूर है लेकिन रणनीति का हिस्सा होना और अपना कौशल दिखाने का मौका मिलना भी बड़ी बात है।’’

कार्तिक ने भारत के लिये 26 टेस्ट, 94 वनडे और 32 टी20 मैच खेले हैं।विश्वकप 2019 में अपना आखिरी मैच खेल चुके दिनेश कार्तिक ने वनडे डेब्यू इंग्लैंड में ही इंग्लैंड के खिलाफ साल 2004 में किया था। पहले ही मैच में उन्होंने अपनी विकेटकीपिंग से प्रभावित किया था। वह 2007 में टी-20 विश्वकप विजेता टीम और 2013 में चैंपियन्स ट्रॉफी विजेता टीम का हिस्सा रहे।

सबसे छोटी नाबाद पारी सबसे लोकप्रिय

दिनश कार्तिक ने कई पारियां खेली हैं लेकिन उनकी सबसे छोटी नाबाद पारी सबसे लोकप्रिय हुई। साल 2018 में निदाहास ट्रॉफी के फाइनल में उन्होंने भारतीय टीम को बांग्लादेश के खिलाफ अंतिम गेंद पर छक्का लगाकर जिता दिया जो आज भी फैंस याद करते हैं।
अंतिम गेंद पर भारत को 1 गेंद
कीमें 5 रनों दरकार थी। सौम्या सरकार की ऑफ साइड पर फेंकी गई गेंद को उन्होंने कवर के ऊपर से मारा और गेंद रस्सी के पार गिरी। यह काफी मुश्किल शॉट था। 8 गेंदो में खेली गई 29 रनों की पारी उनकी सबसे लोकप्रिय पारियों में गिनी जाती है।



और भी पढ़ें :