आखिरी बार पंजाब और राजस्थान के बीच हुआ था सांसें थामने वाला मैच, हेड टू हेड में यह टीम है बेहतर

Last Updated: मंगलवार, 21 सितम्बर 2021 (16:17 IST)
पंजाब और राजस्थान जब में पहली बार भिड़ी थी तो यह मैच अंतिम गेंद पर खत्म हुआ था। सांसे रोक देने वाले इस मुकाबले में अपनी कप्तानी के पहले मैच में ही शतक लगाने वाले बल्लेबाज बन गए थे।लेकिन राजस्थान मैच नहीं जीत पायी थी।

यह मैच इस सीजन का पहला मैच था जिसमें 200 रनों का आंकड़ा छुआ गया था। वह भी सिर्फ एक टीम ने नहीं दोनों ही टीमों ने 200 रन बनाए थे। शायद हो सकता है कि आज भी लो स्कोरिंग मैचों के बीच एक बड़े स्कोर का मैच देखने को मिल जाए।

राजस्थान है पंजाब पर भारी

हेड टू हेड रिकॉर्ड की बात करें तो पिछला मुकबला हारने के बावजूद भी राजस्थान पंजाब से आगे है। ने 12 मैच जीते हैं जबकि पंजाब की टीम सिर्फ 10 मैच जीतने में कामयाब रही है। दोनों ही लगभग एक ही कलेवर की टीम है और दोनों का अंदाजा लगाना मुश्किल है।

क्या हुआ था पिछले मैच में

संजू सैमसन के करियर के तीसरे और इंडियन प्रीमियर लीग 2021 के पहले शतक के बावजूद राजस्थान रॉयल्स को बड़े स्कोर वाले रोमांचक मैच में सोमवार को यहां के हाथों चार रन से हार का सामना करना पड़ा था।
पंजाब किंग्स ने कप्तान लोकेश राहुल के 50 गेंद में पांच छक्कों और सात चौकों की मदद से 91 रन और दीपक हुड्डा (28 गेंद में 64 रन, छह छक्के, चार चौके) के साथ उनकी तीसरे विकेट के लिए 105 रन की तेजतर्रार साझेदारी की बदौलत छह विकेट पर 221 रन बनाए थे। राहुल ने (40) के साथ भी दूसरे विकेट के लिए 67 रन की साझेदारी की थी। राहुल और हुड्डा की पारियों की बदौलत पंजाब की टीम अंतिम आठ ओवर में 111 रन जोड़ने में सफल रही थी।
इसके जवाब में राजस्थान रॉयल्स संजू सैमसन (119 रन, 63 गेंद, 12 चौके, सात छक्के) के ताबड़तोड़ शतक के बावजूद सात विकेट पर 217 रन ही बना सकी थी। सैमसन के अलावा रॉयल्स का कोई बल्लेबाज 30 रन के आंकड़े को भी नहीं छू पाया था।पंजाब की टीम की ओर से अर्शदीप सिंह सबसे सफल गेंदबाज रहे जिन्होंने 35 रन देकर तीन विकेट चटकाए थे।

लक्ष्य का पीछा करने उतरे रॉयल्स की शुरुआत खराब रही और टीम ने खाता खोले बिना ही बेन स्टोक्स का विकेट गंवा दिया था जिन्होंने मोहम्मद शमी की गेंद को हवा में लहराकर उन्हीं को कैच थमा दिया था।सैमसन ने शमी पर चौके जबकि मनन वोहरा ने झाय रिचर्डसन पर छक्के के साथ खाता खोला था। रिचर्डसन के इस ओवर में मुरुगन अश्विन ने बाउंड्री पर वोहरा का कैच टपका दिया था।
वोहरा हालांकि जीवनदान का फायदा नहीं उठा सके थे और अर्शदीप सिंह को उन्हीं की गेंद पर कैच दे बैठे थे। इसी ओवर में सैमसन भाग्यशाली रहे जब विकेटकीपर राहुल ने उनका आसान कैच छोड़ दिया था।

जोस बटलर ने आईपीएल में पदार्पण कर रहे आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज रिली मेरेडिथ का स्वागत लगातार चार चौकों के साथ किया था जबकि सैमसन ने अर्शदीप पर दो चौके मारे जिससे टीम पावर प्ले में दो विकेट पर 59 रन बनाने में सफल रही थी।रिचर्डसन ने आठवें ओवर में गेंदबाजी में वापसी करते हुए बटलर को बोल्ड करके रॉयल्स को बड़ा झटका दिया था। बटलर ने 13 गेंद में 25 रन बनाए थे।
सैमसन ने मेरेडिथ पर छक्का जड़ा था लेकिन इस तेज गेंदबाज के इसी ओवर में मयंक अग्रवाल ने उन्हें दूसरा जीवनदान दिया था।सैमसन ने मेरेडिथ पर छक्के के साथ 11वें ओवर में टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया और फिर इसी ओवर में चौके के साथ 33 गेंद में अर्धशतक पूरा किया था।

शिवम दुबे अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में बदलने में नाकाम रहे थे और 15 गेंद में 23 रन बनाने के बाद अर्शदीप की गेंद पर हुड्डा को कैच दे बैठे थे।सैमसन ने रिचर्डसन की लगातार गेंदों पर चौके और छक्के के साथ 15वें ओवर में टीम का स्कोर 150 रन के पार पहुंचाया था।

रॉयल्स को जीत के लिए अंतिम पांच ओवर में जीत के लिए 68 रन की दरकार थी। पराग ने 16वें ओवर में अश्विन पर दो और सैमसन ने एक छक्का जड़कर गेंद और रन के बीच के अंतर को कम किया था।शमी ने हालांकि गेंदबाजी में वापसी करते हुए पराग को विकेटकीपर राहुल के हाथों कैच करा दिया था। पराग ने 10 गेंद में 25 रन बनाए थे।

रॉयल्स को अंतिम तीन ओवर में 40 रन की जरूरत थी। सैमसन ने रिचर्डसन की पहली तीन गेंद पर दो चौकों और एक छक्के के साथ 54 गेंद में शतक पूरा करते हुए रॉयल्स का पलड़ा भारी किया था। पारी के 18वें ओवर में 19 रन बने थे।मेरेडिथ ने अगले ओवर में राहुल तेवतिया (02) को पवेलियन भेजा लेकिन सैमसन ने छक्का जड़कर रॉयल्स की उम्मीदों को जीवंत रखा था।
अर्शदीप को अंतिम ओवर में रॉयल्स को 13 रन का लक्ष्य हासिल करने से रोका था। पहली तीन गेंद पर सिर्फ दो रन बने लेकिन चौथी गेंद पर सैमसन ने छक्का जड़ दिया था। पांचवीं गेंद खाली गई जबकि अंतिम गेंद पर सैमसन ने बाउंड्री पर कैच थमा दिया था।
सैमसन ने टॉस जीतकर पंजाब किंग्स को पहले बल्लेबाजी का न्योता दिया था जिसके बाद आईपीएल में पदार्पण कर रहे तेज गेंदबाज चेतन सकारिया (31 रन पर तीन विकेट) ने तीसरे ओवर में ही मयंक अग्रवाल (14) को विकेटकीपर कप्तान के हाथों कैच करा दिया था।

राहुल ने आईपीएल खिलाड़ी नीलामी में सबसे महंगे बिके तेज गेंदबाज क्रिस मौरिस (41 रन पर दो विकेट) का स्वागत चौके के साथ किया था। गेल ने भी सतर्क शुरुआत के बाद मुस्ताफिजुर रहमान और मौरिस पर चौके जड़े थे।
पंजाब की टीम ने पावर प्ले में एक विकेट पर 46 रन बनाए थे।राहुल 15 रन के स्कोर पर भाग्यशाली रहे जब श्रेयस गोपाल की गेंद पर स्टोक्स ने लांग आफ पर उनका कैच टपका दिया था और गेंद चार रन के लिए चली गई थी। गेल ने भी इस ओवर में चौका जड़ा था।

राहुल ने इसके बाद स्टोक्स की पहली गेंद पर चौका मारा था जबकि गेल ने इसी ओवर में पारी का पहला छक्का जड़ा था।गेल ने राहुल तेवतिया पर भी चौका और छक्का जड़ा था लेकिन रियान पराग की गेंद पर लांग आन पर स्टोक्स को कैच दे बैठे थे।
राहुल ने तेवतिया और फिर शिवम दुबे पर छक्के के साथ 30 गेंद में अर्धशतक पूरा किया था।हुड्डा ने इसके बाद तूफानी तेवर दिखाए थे। उन्होंने दुबे पर दो छक्के जड़ने के बाद गोपाल के ओवर में तीन छक्के मारकर 14वें ओवर में टीम का स्कोर 150 के पार पहुंचाया था।

हुड्डा ने मौरिस पर छक्के और फिर एक रन के साथ सिर्फ 20 गेंद में अर्धशतक पूरा किया था।हुड्डा ने इसके बाद सकारिया पर भी लगातार तीन चौके मारे थे।
राहुल ने 18वें ओवर में मौरिस पर दो छक्कों के साथ टीम का स्कोर 200 रन के पार पहुंचाया था। मौरिस के इसी ओवर में हालांकि हुड्डा गेंद को हवा में लहराकर पराग को कैच दे बैठे थे जबकि सकारिया ने पहली ही गेंद पर निकोलस पूरण का शानदार कैच लपका था।

राहुल ने सकारिया के पारी के अंतिम ओवर की पहली गेंद पर चौका जड़ा था लेकिन अगली गेंद जब छक्के के लिए जा रही थी तो तेवतिया ने शानदार कैच लपककर उनकी पारी का अंत किया था।



और भी पढ़ें :