मंगलवार, 23 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. अंतरराष्ट्रीय
  4. Dangerous epidemic spread in China after Corona
Written By
Last Updated : गुरुवार, 23 नवंबर 2023 (17:43 IST)

कोरोना के बाद चीन में पसरी खतरनाक महामारी? बच्‍चों को ले रही चपेट में, स्कूल हुए शटडाउन

कोरोना के बाद चीन में पसरी खतरनाक महामारी? बच्‍चों को ले रही चपेट में, स्कूल हुए शटडाउन - Dangerous epidemic spread in China after Corona
China Pneumonia Update: कोरोना जैसी भयावह वायरस के बाद अब चीन में ही एक और रहस्यमयी बीमारी पसरने लगी है। ये बीमारी बच्चों को चपेट में ले रही है। कहा जा रहा है कि बीमारी की वजह से वहां अस्पताल मरीजों से भरे हैं। दरअसल, इसे रहस्यमयी निमोनिया बताया जा रहा है। चीन ने बच्चों में इन्फ्लूएंजा जैसी बीमारी फैलने की बात कही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस बीमारी से बच्चों को सांस से संबंधित दिक्कतें हो रही हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने चीन से इस बारे में जानकारी देने को कहा है। कोरोना के बाद आई इस रहहस्यमयी बीमारी ने स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ा दी है। इसके मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। हालांकि अभी तक इस बीमारी की पहचान नहीं हो पाई है।

दहशत में हैं लोग : दुनियाभर में कोरोना महामारी का खतरनाक तांडव देखने के बाद आम लोगों अब इस नई बीमारी को लेकर दहशत में हैं। चीनी समाचार चैनल के मुताबिक इस बीमारी का कोई नया लक्षण नहीं है। इसके लक्षण कोविड से मिलते जुलते हैं। अस्पतालों में मरीजों की इतनी लंबी लाइन लग गई है कि खड़े होकर देर तक इंतजार करना पड़ रहा है। सामने आए वीडियो में अस्पतालों में भीड़ देखी जा रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन इसके बारे में पूरी जानकारी चाहता है। WHO ने इसके लिए एडवाइजरी भी जारी की है।

कई जगह स्‍कूल बंद : बता दें कि रहस्यमयी निमोनिया बच्चों को तेजी से अपनी चपेट में ले रहा है। निमोनिया फेफड़ों को प्रभावित करता है। अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि यह कौन सा निमोनिया है। इसका पहला केस उत्तरी हिस्से में पाया गया है। दुनिया के स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने इसे लेकर चिंता जताई है। कई जगह स्कूलों को भी बंद कर दिया गया है। चीन के अधिकारियों का कहना है कि कोरोना के प्रतिबंध हटाए जाने की वजह से कई बीमारियां फैल रही हैं। यह भी कहा जा रहा है कि यह बीमारी एक महामारी में बदल सकती है।
Edited By : Navin Rangiyal
ये भी पढ़ें
ब्रिटेन में कुशल कामगार, चिकित्सा और छात्र वीजा सूची में भारतीयों का दबदबा