अमेरिका में ‘ग्रीन कार्ड’ की तैयारी, कानून बना तो ‘भारतीयों’ को होगा फायदा

Last Updated: मंगलवार, 14 सितम्बर 2021 (12:10 IST)
अमेरिका में नागरिकता की इच्‍छा रखने वाले लोगों के लिए अच्‍छी खबर है। दरअसल, अमेरिकी संसद एक ऐसे बिल पर विचार कर रही है जिसमें ग्रीन कार्ड का इंतजार कर रहे लोगों को तय फीस और कुछ शर्तें पूरी करने के बाद नागरिकता मिल सकती है।

अमेरिका में इस बिल पर शुरुआती विचार चल रहा है, हालांकि इसकी प्रक्रिया में अभी वक्त लग सकता है। अभी लोगों को बार-बार अपना वर्क वीजा रिन्यू कराना होता है।

यह बिल उस रीकन्सीलिएशन पैकेज का हिस्सा है जो हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स में पेश किया गया है। ग्रीन कार्ड को परमानेंट रेसीडेंट कार्ड भी कहा जाता है। यह इमीग्रेंट्स यानी अप्रवासियों के लिए जारी किया जाता है।

इस बिल पर हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स की ज्यूडिशियरी कमेटी मंथन कर रही है। कहा जा रहा है कि इसके बाद इसे लागु किया जा सकता है। कमेटी द्वारा जारी लिखित बयान के मुताबिक ग्रीन कार्ड के लिए आवेदनकर्ता को 5 हजार डॉलर की फीस देनी होगी। अगर कोई अमेरिकी नागरिक किसी इमीग्रेंट को स्पॉन्सर करता है तो इन हालात में फीस आधी यानी ढाई हजार डॉलर हो जाएगी। अगर आवेदनकर्ता की प्राथमिकता की तारीख दो साल से ज्यादा है तो यह फीस 1500 डॉलर होगी।

अभी क्‍या है बि‍ल की स्‍थि‍ति?
वर्तमान में ज्यूडिशियरी कमेटी इस बि‍ल पर विचार कर रही है। इसके बाद दोनों सदनों में लंबी बहस चलेगी। प्रस्ताव आ सकते हैं, जिसके बाद फिर से इस पर बहस होगी। आखिरी फैसला राष्ट्रपति करेंगे। अगर राष्‍ट्रपति बिल पर अपने हस्‍ताक्षर कर देते हैं तो बिल कानून बन जाएगा।



और भी पढ़ें :