0

तो क्या जल्दी खत्म हो रहा है हरिद्वार महाकुंभ? उत्तराखंड में नई पाबंदियों का ऐलान

गुरुवार,अप्रैल 15, 2021
0
1
इन दिनों (नवरात्रि के दिनों में) गली मोहल्लों में पूरे नौ दिन लांगुरिया गाई जाती है। लांगुरिया और भेंटे रोज ही गाए जाते हैं, ये देवी की महिमा, शक्ति और चरित्र के गायन होते हैं। ढोलक की थाप, कर्रे गले से लांगुरिया का गायन, साथ में लय-ताल-गति से ...
1
2
कर्ज लेना पड़ सकता है। किसी व्यक्ति से कहासुनी हो सकती है। स्वाभिमान को ठेस लग सकती है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय सोच-समझकर करें। व्यवसाय ठीक चलेगा।
2
3

16 अप्रैल 2021 : आपका जन्मदिन

गुरुवार,अप्रैल 15, 2021
दिनांक 16 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 7 होगा। इस अंक से प्रभावित व्यक्ति अपने आप में कई विशेषता लिए होते हैं। यह अंक वरूण ग्रह से संचालित होता है।
3
4
शुभ विक्रम संवत्-2078, शक संवत्-1943, हिजरी सन्-1442, ईस्वी सन्-2021 अयन- उत्तरायण मास-चैत्र पक्ष-शुक्ल संवत्सर नाम-आनन्द ऋतु-वसंत वार-शुक्रवार तिथि (सूर्योदयकालीन)-चतुर्थी नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)-रोहिणी योग (सूर्योदयकालीन)-सौभाग्य करण ...
4
4
5
देहरादून/ऋषिकेश। हरिद्वार में महाकुंभ का आयोजन हो रहा है। कोरोना महामारी के बीच चल रहे इस बड़े धार्मिक आयोजन को लेकर सरकार लाख दावे कर रही हो कि सोशल डिस्टेंसिंग और नियमों का पालन हो रहा है, लेकिन स्नान की आती तस्वीरें कुछ और ही कहानी बयां करती हैं। ...
5
6
इस वर्ष माता हिंगलाज की जयंती 9 अप्रैल 2021 को मनाई जाएगी। हिन्दू कैलेंडर अनुसार चैत्र माह की कृष्ण पक्ष की द्वादशी को यह जयंती मनाई जाएगी। पाकिस्तान द्वारा जबरन कब्जाए गए बलूचिस्तान में हिंगोल नदी के समीप हिंगलाज क्षेत्र में सुरम्य पहाड़ियों की ...
6
7
भारतीय लोग ऋषि, मुनियों, राजर्षियों की संताने हैं। वैदिक ऋषियों में कौशिव ऋषि और उनके वंशज की बातें भी कही जाती है। आओ जानते हैं कि कौशिक ऋषि कौन थे और कौन है उनके वंशज।
7
8
नवरात्रि में चौथे दिन देवी को कूष्मांडा के रूप में पूजा जाता है। इस देवी की आठ भुजाएं हैं, इसलिए अष्टभुजा कहलाईं। इनके सात हाथों में क्रमशः कमण्डल,
8
8
9
माता पार्वती बहुत दयालु हैं, उनकी सच्चे मन से आराधना करने से वे हमारी गलतियों को तुरंत माफ कर देती हैं। उनकी प्रिय चालीसा हमें जीवन में नित नई ऊंचाइयों पर ले जाती है।
9
10
नवरात्रि के चौथे दिन मां कूष्मांडा की पूजा-आराधना की जाती है। नवरात्रि में इस दिन भी रोज की भांति सबसे पहले कलश की पूजा कर माता कूष्मांडा को नमन करें।
10
11
अधिकतर सपने हमें हमारी दिनचर्या में किए गए कार्य से प्राप्त होते हैं। कार्य का अर्थ हमने जो देखा, सुनना, समझा, इच्छा किया और भोगा वह हमारे चित्त में विराजित होकर रात में स्वप्नों के रूप में दिखाई देता है। यह सब बदले स्वरूप में इसलिए भी होते हैं ...
11
12
अगर आप भी आर्थिक तंगी का सामना कर रहे हैं तो यह राम नवमी आपके लिए खुशियों का संदेश लाई है। इस राम नवमी को अगर सामान्य विधि-विधान से लेकिन संपूर्ण मन और चित्त से पूजन और उपाय किए जाए तो निश्चित रूप से अपार धन संपदा की प्राप्ति होती है।
12
13
सृष्टि की आदिस्वरूपा या आदिशक्ति मानी जाने वाली मां कूष्मांडा की आराधना नवरात्रि में चौथे दिन की जाती है। यहां पढ़ें उनकी आरती-
13
14
पवित्र क़ुरान के पहले पारे (प्रथम अध्याय) 'अलिफ़ लाम मीम' की सूरत 'अलबक़रह' की आयत नंबर 213 में ज़िक्र है 'वल्लाहु य़हदी मय्यंशाउ इला सिरातिम मुस्तक़ीम।' इस आयत का तर्जुमा इस तरह है-' और अल्लाह जिसे चाहे सीधी राह दिखाएं।'
14
15
'रां रामाय नम:' सकाम जपा जाने वाला यह मं‍त्र राज्य, लक्ष्मी पुत्र, आरोग्य व वि‍पत्ति नाश के लिए प्रसिद्ध है।
15
16
रामनवमी के दिन 12 बजे भगवान श्रीरामजी की इस विशेष मंत्र से आराधना करना चाहिए।
16
17
जय पार्वती माता जय पार्वती माता, ब्रह्म सनातन देवी शुभ फल कदा दाता। जय पार्वती माता जय पार्वती माता।
17
18
नवरात्रि पर माता दुर्गा की उपासना की जाती है। पुराणों में नवरात्रि की माता नौ दुर्गा के अलग अलग वाहनों का वर्णन मिलता है। जैसे शैलपुत्री माता वृषभ पर सवार है तो कालरात्रि माता गधे पर। इसी तरह प्रत्येक देवी का वाहन अलग अलग है, परंतु माता का मुख्‍य ...
18
19
घर से नकारात्मक ऊर्जा निकालकर सकारात्मक उर्जा बढ़ाने से घर के सभी सदस्य निरोगी, सुखी और शांतचित्त रहने हैं। किस तरह घर में बढ़ेगी सकारात्मक ऊर्जा आओ इस संबंध में जानते हैं वास्तु के 5 टिप्स।
19