ये बनावटी मानहानियां, ये बनावटी माफीनामे

तू दे मुझको गालियां,
में तुझ पर मानहानि का केस करूं।
(तू बन रामलीला का रावण,
मैं मंच पर राम का भेस धरूं।।)
टीवी/ अखबार भरे होंगे
हमारी सनसनियों से, चर्चों से।
न्यायालयों के समय ज़ाया होंगे,
तो हों, जन-धन के खर्चों से।।

जब सनसनियां खतम हो जायेंगी,
जनता का ध्यान बंट जायेगा।
आपस में सुलह कर लेंगे हम
तो अपना क्या घट जायेगा।।

पर अब समझ लिया है जनता ने-

ये मानहानि के प्रकरण सब
राजनीतिक धींगा-मस्ती हैं।
जनता को मूर्ख बनाने की
आपस की नूरा-कुश्ती हैं।।

मान-अभिमान, मान-मनौवल, मान हानि
मानद-पद, मान-देय ये सब
अब शब्द हैं राजनीतिक गलियारों के।
हो गए बिदा ये शब्द सभी
सामान्य-जन की जीवन-धारों से।।

राजनीति वाले इन्हें गले लगाए हुए
अपनी गफलत में जी रहे हैं।
आम-जन तो अपनी धुन में खोए
जीवन का चाक गरेबां सी रहे हैं।।



और भी पढ़ें :