0

मंजुल का प्रतिलिपि के साथ नया उपक्रम 'एकत्र'

गुरुवार,अप्रैल 8, 2021
Ekatra, manjul prtilipi
0
1
मीना कुमारी हिन्दी सिनेमा की बेहतरीन एक्ट्रैस में शुमार थीं। आज भी उनका नाम बड़ी अदब से लिया जाता है। छोटी उम्र से ही उन्होंने परेशानियों को झेलना सीख
1
2
साहित्य के क्षेत्र में एक चमचमाता सितारा बड़ी तेजी से लोकप्रियता के बुलंदी की ओर अग्रसर था। उस का नाम था 'विलियम शेक्सपीयर'। सन् 1599 में विलियम शेक्सपीयर
2
3
महादेवी वर्मा की महज नौ साल की उम्र में शादी हो गई थी, लेकिन वे अपने माता-पिता के साथ ही रहीं। इलाहाबाद विश्वविद्यालय से संस्कृत में मास्टर्स डिग्री हासिल करने के दौरान महादेवी वर्मा की कविताएं लोगों के बीच आने लगीं। पहले वे अपने लेखन को छुपाकर ही ...
3
4
होली के दिन 26 मार्च 1907 को उत्तर प्रदेश क्र फर्रूखाबाद में जन्मी महादेवी वर्मा को आधुनिक काल की मीराबाई कहा जाता है।
4
4
5
बेगम समरू का सच’ के लेखक राजगोपाल सिंह वर्मा ने अपनी इस किताब के बारे में बताया कि फरजाना ऊर्फ बेगम समरू मुगल और ईस्‍ट इंडि‍या काल में मेरठ के पास सरधना की जागीरदारी रही हैं, जिन्‍होंने 58 साल तक एक बड़े भू-भाग पर शासन किया।
5
6
महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय (वर्धा, महाराष्ट्र) के कुलपति प्रो. रजनीश कुमार शुक्ल ने कहा कि युवा इतिहासकार भारत का इतिहास लिख सकते हैं। भारत का इतिहास उत्तान पाद, राम कृष्ण, समुद्र गुप्त, चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, राम- कृष्ण ...
6
7
17 मार्च 2021 को हिंदी भवन (भोपाल) में हिंदी लेखिका संघ म.प्र. (भोपाल) राष्ट्रभाषा प्रचार समिति के सौजन्य से संस्था का वार्षिक महोत्सव सम्पन्न हुआ इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पद्मश्री डॉक्टर कपिल तिवारी, सारस्वत अतिथि कैलाशचंद्र पंत थे।
7
8
संतों की संगत कभी निष्फल नहीं होती । मलयगिर की सुगंधी उड़कर लगने से नीम भी चन्दन हो जाता है, फिर उसे कभी कोई नीम नहीं कहता।
8
8
9
उन्होंने इसके एनएसडी में हुए सफल मंचनों को निर्देशक हफ़ीज़ खान के साथ याद किया। साथ ही बच्चों के लिये निरन्तर रचनात्मक लेखन की प्रशंसा की।
9
10
किसी भी साहित्य विधा को श्रेष्ठ कलाकृति के रूप में प्रस्तुत करने के लिए जिन कौशलों की जरूरत होती है उनमें कथानक, शिल्प, वैचारिक पक्ष, शैली, संवेदनीयता और उसका कला पक्ष प्रमुख हैं।
10
11
साहित्यिक सांस्कृतिक संस्था 'शाम ए यादगार' द्वारा सुदीर्घ साहित्य सेवा के लिए डॉ. कृष्णगोपाल मिश्र को श्री कृष्ण सरल सम्मान प्रदान किया गया।
11
12
मैं जानता हूं कि तुम मेरे साथ रहने की इच्छुक हो। मुझे लगता है कि हम दोनों को अपने-अपने कार्य में लगे रहना चाहिए। फिलहाल यह उचित होगा कि तुम जहां हो वहीं ठहरो।
12
13
सिर्फ मातृ शब्द की वजह से मातृभाषा का सही अर्थ और भाव समझने में हमेशा से दिक्कत हुई है। मातृभाषा बहुत पुराना शब्द नहीं है, मगर इसकी व्याख्या करते हुए लोग अक्सर इसे बहुत प्राचीन मान लेते हैं। हिन्दी का मातृभाषा शब्द दरअसल अंग्रेजी के मदरटंग मुहावरे ...
13
14
संस्था सचिव संदीप राशिनकर ने बताया कि देशभर से आई काव्य संग्रहों की प्रविष्टियों में से निर्णायक मंडल ने लोणार के प्रतिभाशाली कवि विशाल इंगोले की कृति माझ्या हयातीचा दाखला का चयन कविवर्य वसंत राशिनकर स्मृति अ.भा. सम्मान '2020 के लिए किया है।
14
15
गत छः दशकों से सतत साधनारत वरिष्ठ गीतकार डॉ. विनोद निगम के गीतों पर आधारित समीक्षा कृति ‘गीत यात्रा में निरंतर: डॉ. विनोद निगम‘ का लोकार्पण एन.ई.एस कॉलेज के सभागार में पूर्व विधायक
15
16
उनकी कविता कवि से ज्यादा एक सतत चिन्तित व्यक्ति की कविता है। इसीलिए हमें भी वह वहां जाकर छूती है जहां काव्य के शिल्पकारों की सुमुख रचनाएं नहीं पहुंच पातीं।
16
17
समिति के प्रचारमंत्री अरविन्द ओझा ने जानकारी देते हुए बताया कि दोनों साहित्यकारों को माह फरवरी 2021 आयोजित सम्मान समारोह में अलंकृत किया जायेगा, जिसमें सम्मान-पत्र के अलावा एक-एक लाख रुपये की सम्मान निधि प्रदान की जाएगी।
17
18
एक अनमोल विरासत मुंबई में है जिसे छत्रपति शिवाजी महाराज वास्तु संग्रहालय के नाम से आज जाना जाता है।इसका पूर्व नाम प्रिंस ऑफ़ वेल्स म्यूज़ियम था।
18
19
लेखक, चित्रकार इरा टाक की नई ऑडियो बुक 'रंगरेज़ पिया' पिछले दिनों स्वीडिश ऑडियो कंपनी स्टोरीटेल पर रिलीज़ हुई। इससे पहले उनका ऑडियो नॉवेल गुस्ताख इश्क बेस्ट सेलर में बना हुआ है।
19