0

सास हो या बॉस, मालिक नहीं केयर टेकर की भूमिका निभाएं, तभी करेंगे सबके दिलों पर राज

गुरुवार,फ़रवरी 13, 2020
0
1
सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के अध्येता डॉ. सौरभ मालवीय एवं लोकेंद्र सिंह की पुस्तक ‘राष्ट्रवाद और मीडिया’ का विमोचन मीडिया विमर्श की ओर से आयोजित पं. बृजलाल द्विवेदी अखिल भारतीय साहित्यिक सम्मान समारोह में हुआ।
1
2
केबी की मृत्‍यु के बाद मैं बेशर्म दिलचस्‍पी दिखाता हूं। हाय-हाय करता हुआ- इसी दुनिया की तरह। ‘आमतौर पर होता यही है- एक मामूली से मामूली आदमी की मौत के बाद लोग उसके कागजात में बेशर्म दिलचस्‍पी दिखाने लगते हैं’
2
3
वह हिंदी के प्रसिद्ध उपन्यासकार होने के साथ एक कथाकार, नाटककार और आलोचक भी थे।
3
4
प्रतिष्ठित लता मंगेशकर पुरस्कार प्राप्त करने मुंबई से इन्दौर आए मशहूर संगीतकार और मुंबई इप्टा के संरक्षक कुलदीप सिंह उनके बेटे और ख्यात ग़ज़ल गायक जसविंदर और इप्टा इंदौर के अनेक कलाकारों ने ख्याति प्राप्त शायरों की नज़्मों, गजलों से श्रोताओं को ...
4
4
5
हिन्‍दी साहित्‍य में वैद साब ने अपनी एक अलग राह चुनी और उसी को पुख्ता किया था। वे पुरस्‍कारों की प्रतियोगिता और साहित्‍य समारोह से भी दूर रहे।
5
6
कला समीक्षक राजेश्वर त्रिवेदी की किताब ‘उत्सुक’ का विमोचन प्रसिद्ध चित्रकार विद्यासागर उपाध्याय, अखिलेश व कहानीकार लक्ष्मी शर्मा ने किया।
6
7
अजमल सुलतानपुरी की रचना ‘कहां है मेरा प्यारा हिंदुस्तान, उसे मैं ढूंढ रहा हूं’ काफी चर्चित रही और उनकी गजलों ने जिले को एक अलग पहचान दिलाई है।
7
8
हिंदू धर्म और संस्‍कृति में पानी एक आस्‍था भी है। अगर वो नदी का हो तो पवित्रतम। और नर्मदा हो तो मुक्‍ति और मोक्ष का मार्ग।
8
8
9
मंगलवार को 'लाभ मंडपम' में आयोजित संगीत सभा Indore Music Festival में ज्यादातर युवा श्रोता उस्ताद राशिद खान को उनके लाइट मूड को सुनने के लिए आए होंगे, लेकिन उन्हें क्या पता था उस्ताद गला साफ़ करने में भी मज़ा दे जाते हैं।
9
10
राशिद खान क्रिकेट के दीवाने थे, अगर संगीत की तरफ उनका रुझान नहीं होता तो बहुत हद तक संभव है कि हम उनकी ठुमरी और ख्‍याल सुनने के बाजाए आज उन्‍हें क्रिकेट के मैदान में पसीना बहाते देख रहे होते।
10
11
चयन प्रक्रिया में स्‍वतंत्र है या वो किसी तरह के दबाव में काम करती है? या क्‍या ऐसे सम्‍मानजनक पुरस्‍कारों का अब राजनीतिकरण होने लगा है?
11
12
जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 23 से 27 जनवरी तक जयपुर के डिग्गी पैलेस होटल में आयोजित हो रहा है।
12
13
कहानी में इस कदर की सिरहन सिर्फ सआदत हसन मंटो ही पैदा कर सकते थे। दरअसल, अपने आसपास की स्‍थितियों की वजह से मंटो लेखक बने थे।
13
14
5 जनवरी 2020 को वामा साहित्य मंच ने अपने स्थापना के 3 वर्ष पूर्ण किए और चौथा स्थापना दिवस मनाया। इस अवसर पर दिनांक 11 जनवरी 2020 को आयोजित समारोह में नवीन अध्यक्ष, सचिव और कार्यकारिणी का शपथ ग्रहण कार्यक्रम संपन्न हुआ।
14
15
एक तरफ जहां नागरिकता संसोधन कानून को लेकर कुछ लोग इसके खिलाफ हैं तो वहीं कई लोग इसका खुलकर समर्थन भी कर रहे हैं। साहित्‍य जगत से कई लेखक और कवियों ने कानून और मोदी सरकार का समर्थन किया है।
15
16
बुधवार 8 जनवरी 2020 को दोपहर 3.30 मिनट से विश्व पुस्तक मेला, प्रगति मैदान के हॉल नंबर 8 में प्रथम तल पर स्थित सेमिनार हॉल में कवि सम्मेलन व सम्मान समारोह का आयोजन किया जा रहा है,
16
17
भारतीय आधुनिक चित्रकला में ख्‍यात नाम कलाकार अकबर पदमसी का सोमवार को निधन हो गया। वे 91 वर्ष के थे। फ्रांसिसी कलाकार सूजा, एमएफ हुसैन, सैयद हैदर रज़ा के साथ ही आधुनिक कला में पदमसी का बड़ा नाम था। वे प्रोग्रेसिव आर्ट ग्रुप से भी जुड़े रहे।
17
18
हर साल की तरह इस साल भी दिल्‍ली में इंटरनेशनल बुक फेयर की शुरुआत हुई है। रविवार को बुक फेयर में करीब 50 हजार पुस्‍तक प्रेमियों के पहुंचने की उम्‍मीद है। राजधानी के प्रगती मैदान पर 4 जनवरी से शुरू होने वाला यह फेयर 12 जनवरी तक चलेगा।
18
19
धूप निकल आई है। उतनी ही जितनी कि कोई स्‍त्री बाहर देखने के लिए अपने कमरे की खिड़की खोलती है, हल्‍की-सी। एक महीन-सी लकीर की तरह खिंच आई है फर्श पर। धुएं में गुंथी हुई। जैसे कोई रॉकेट आसमान में लकीर खींचकर गुजर जाता है, ठीक वैसे ही। प्रकृति क्रूर है ...
19