0

चित्रा मुद्गल और बीएल आच्‍छा को 2020 का समिति शताब्‍दी सम्‍मान

सोमवार,जनवरी 25, 2021
Hindi sahitya samiti samman
0
1
एक अनमोल विरासत मुंबई में है जिसे छत्रपति शिवाजी महाराज वास्तु संग्रहालय के नाम से आज जाना जाता है।इसका पूर्व नाम प्रिंस ऑफ़ वेल्स म्यूज़ियम था।
1
2
लेखक, चित्रकार इरा टाक की नई ऑडियो बुक 'रंगरेज़ पिया' पिछले दिनों स्वीडिश ऑडियो कंपनी स्टोरीटेल पर रिलीज़ हुई। इससे पहले उनका ऑडियो नॉवेल गुस्ताख इश्क बेस्ट सेलर में बना हुआ है।
2
3
फिल्मों के लिए गीत और स्क्रिप्ट लिखने से पहले जावेद अख्तर क्लैपर बॉय का काम किया करते थे। गीत और कविताएं लिखने के अलावा जावेद अख्तर ने 'शोले', 'जंजीर' और 'दीवार' जैसी फिल्मों के लिए जावेद-सलीम के साथ स्क्रीनप्ले भी लिखा है।
3
4
राजिता कुलकर्णी बग्गा, अपने पति अजय बग्गा, जो एक अनुभवी वित्तीय बाजार विशेषज्ञ और भारतीय व्यापार टेलीविजन पर एक जाना माना चेहरा हैं, के साथ, मुंबई में ताज होटल में थीं, 26/11 की शाम को वे अपने विवाह की सालगिरह पर रात्रिभोज के लिए बाहर निकले थे।
4
4
5
11 जनवरी 1966 को लाल बहादुर शास्त्री की तत्कालीन सोवियत संघ के ताशकंद में रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गई थी। वह पाकिस्तान के साथ संधि करने वहां गए थे। इस मामले में वहां उनकी सेवा में लगाए गए एक बावर्ची को हिरासत में लिया गया था, लेकिन बाद में ...
5
6
आशापूर्णा देवी ने बच्‍चों के लिए भी लिखा। उनकी पहली बालोपयोगी पुस्तक ‘छोटे ठाकुरदास की काशी यात्रा’ थी जो 1938 में प्रकाशित हुई। साल 1937 में पहली बार वयस्कों के लिए ‘पत्नी और प्रेयसी’ कहानी लिखी। उनका पहला उपन्यास ‘प्रेम और प्रयोजन’ था जो साल 1944 ...
6
7
शोभा डे खूबसूरत और आकर्षक शख्सियत हैं, इसके साथ ही वे बेहद ग्‍लेमरर्स तरीके से भी रहती हैं। वे न सिर्फ अपने लेखन के लिए बल्‍की विवादों के लिए भी जानी जाती हैं। आज 7 जनवरी को उनका जन्‍मदिन है, आइए जानते हैं साहित्‍य की इस फैशनेबल लेखक के बारे में।
7
8
इस उपन्यास की मुख्य विषय-वस्तु यह क़िस्सा है कि दिल्ली का एक सिपाही जिसका घर जयपुर के किसी गांव में था, अपनी लड़की की शादी के लिए रुपए-पैसे का बन्दोबस्त करके अपने घर को चला लेकिन रास्ते में उसे डाकुओं ने लूट लिया।
8
8
9
हरिशचंद्र किस वार पर कौन सा कागज व कौन सी काव्य प्रस्तुति दिया करते थे, आइए जानते हैं--
9
10
हर वर्ष जयपुर में एक भव्य समारोह में यह पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं। इस वर्ष भी यह कार्यक्रम 22 मार्च 2020 को जयपुर में आयोजित होना था, किंतु महामारी के कारण यह संभव नहीं हो सका। अंततः एक ऑनलाइन सम्मान समारोह में यह संपन्न हुआ। कार्यक्रम की मुख्य ...
10
11
वामा साहित्य मंच द्वारा बाल साहित्यकार व सृजनधर्मी इंदु पाराशर की दो पुस्तकों का लोकार्पण किया गया। मध्यप्रदेश हिंदी साहित्य अकादमी के निदेशक डॉ. विकास दवे की अध्यक्षता में आयोजित इस कार्यक्रम में आपके दो काव्य संग्रह भाव सरिता व पर्यावरण विज्ञान का ...
11
12
किसी भी साहित्य विधा को श्रेष्ठ कलाकृति के रूप में प्रस्तुत करने के लिए जिन कौशलों की जरूरत होती है उनमें कथानक, शिल्प, वैचारिक पक्ष, शैली, संवेदनीयता और उसका कला पक्ष प्रमुख हैं।
12
13
मंगलेश डबराल का बुधवार को कोरोनावायरस संक्रमण से निधन हो गया। वे 72 वर्ष के थे। करीब 12 दिन पहले कोरोनावायरस संक्रमण की चपेट में आए डबराल ने एम्स में आखिरी सांस ली।
13
14
अंग्रेजों द्वारा जातीय आधार पर किए गए बंटवारे के आधार पर बंगाल का एक बड़ा हिस्सा ईस्ट पाकिस्तान के नाम से पाकिस्तान के शोषण और अत्याचारों को सह रहा था।
14
15
संतों की संगत कभी निष्फल नहीं होती । मलयगिर की सुगंधी उड़कर लगने से नीम भी चन्दन हो जाता है, फिर उसे कभी कोई नीम नहीं कहता।
15
16
प्रगतिशील विचारक, लेखक, कवि, पत्रकार और संपादक ललित सुरजन का 2 दिसंबर को निधन हो गया। उनके निधन की खबर के बाद सोशल मीडि‍या पर कई लेखक, पत्रकार और कवियों ने उन्‍हें याद किया।
16
17
महाकवि कालिदास संस्कृत भाषा के कवि और नाटककार थे। वे महान राजा विक्रमादित्य के दरबार के नवरत्नों में एक थे। उनकी रचना अभिज्ञान शाकुन्तलम् सबसे प्रसिद्ध है। इसके अलावा उन्होंने विक्रमोर्वशीयम्, मालविकाग्निमित्रम्; महाकाव्य- रघुवंशम् और कुमारसंभवम्, ...
17
18
डॉक्‍टरों की इस टीम ने रिपोर्ट जारी की है कि हिंदी पढ़ना और बोलना अपने मस्‍त‍िष्‍क को चुस्‍त और स्‍वस्‍थ रखने का सबसे कारगर तरीका है। डॉक्‍टरों ने सलाह दी है कि मस्‍त‍िष्‍क को स्‍वस्‍थ रखना है तो हिंदी का ज्‍यादा से ज्‍यादा प्रयोग किया जाए। डॉक्‍टरों ...
18
19
दो चरणों में हुए मूल्यांकन के बाद इंदौर की कथाकार डॉ किसलय पंचोली की कहानी 'आलमारी का एक खाना' को प्रथम स्थान मिला है। देवारा की मीनाक्षी दूबे की कहानी 'गुम्मा' द्वितीय स्थान पर रहीं हैं। आशीष दलाल, बड़ोदरा गुजरात की कहानी 'टूटे दरख़्त पर उगीं कोपलें' ...
19