जयपुर लिट्रेचर फेस्टिवल 2015 : 21 जनवरी से साहित्य महाकुंभ


 
पाल थरु और नायपॉल होंगे जयपुर साहित्य महोत्सव के आकर्षण 
 
राजस्थान के जयपुर में 21 जनवरी से आयोजित में साहित्य प्रेमी एलिजाबेथ गिलबर्ट के साथ 'सेल्फी, द आर्ट ऑफ द मेमोयर' अमीश त्रिपाठी व विवेक ओबरॉय के साथ 'द कनफ्लिक्‍ट ऑफ धर्मा इन द महाभारत' जैसे सत्रों का आनंद ले सकेगें। इसके साथ ही एक ऐतिहासिक सत्र का भी आयोजन किया जा रहा है जिसमें साहित्य की दुनिया के दिग्गज पॉल थरू और वी एस नायपॉल एक ही मंच पर साथ नजर आएंगे।
 
दुनिया के सबसे लोकप्रिय साहित्य मेलों में से एक का बहुप्रतीक्षित कार्यक्रम वेबसाइट पर जारी कर दिया गया है।
 
काव्यरस के शौकीनों के लिए एक शानदार मंच बनने की प्रतिबद्धता पर खरा उतरते हुए मेले का उद्घाटन पुलित्जर पुरस्कार विजेता कवि विजय शेषाद्रि प्रतिष्ठित हिन्दी कवि और ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता केदारनाथ सिंह के भाषण के साथ होगा। 
 
अरविन्द कृष्ण मेहरोत्रा का सत्र पोयटिक इमेजिनेशन दर्शकों को काव्यात्मक यात्रा पर ले जाएगा। जहां काव्य के विभिन्न प्रकारों और भाषाओं पर चर्चा की जाएगी।
 
वैश्विक चिंतकों और लेखकों से भारतीय दर्शकों को रूबरू कराने की परंपरा को जारी रखते हुए जयपुर साहित्य मेला 2015 में इस बार भी कला, साहित्य और काव्य के क्षेत्र की दिग्गज हस्तियों के साथ दिलचस्प सत्रों का आयोजन होगा। हिस्सा लेने वाले प्रतिष्ठित प्रतिभागियों की सूची में इस साल 2013 का बुकर पुरस्कार जीतने वाली इलेनॉरकैटन का नाम भी शामिल हो गया है। इलेनॉर अपने सत्र फर्स्ट ट्रायफंस में दर्शकों को संबोधित करेंगी और उनके साथ मंच पर बेली पुरस्कार विजेता इमियर मैकब्राइड भी मौजूद होंगी। 
 
मेले के इस संस्करण का सबसे बडा आकर्षण नोबेल पुरस्कार विजेता सर वीएस नायपॉल और अमेरिका के मशहूर यात्रा वृतांत लेखक पॉल थरू का साथ आना है। नायपॉल, द राइटर एड द वर्ल्ड सत्र में फारूख ढोंढी के साथ हिस्सा लेंगे जबकि पॉल थरू 'ए हाउस फॉर मिस्टर बिस्वास' सत्र में हनीफ कुरैशी और अमित चौधरी के साथ हिस्सा लेंगे। 'माई अदर लाइफ, ए नॉवलिस्ट अफेयर विद नॉन फिक्शन' शीर्षक के एकल सत्र में पॉल थरू लेखन शैली बदलने के बारे में बात करेंगे।



और भी पढ़ें :