डिजिटल होता भाषाई मीडिया

हिन्दी दिवस विशेष

ND
बेहतर होते संचार साधनों ने परंपरागत भाषाई मीडिया को भी अपनी पहुँच बढ़ाने में मदद की है। पाठक तक अखबार का पहुँचना अब छपी हुई प्रति के पहुँचने जैसा नहीं रहा है। आप अपना मनपसंद अखबार दुनिया के किसी भी कोने से पढ़ सकते हैं, बिना इस बात की चिंता किए कि आपके हॉकर के पास वह उपलब्ध होगा या नहीं।

सूचना प्रौद्योगिकी के बदलते स्वरूप से अब आप लगभग हर हिंदी समाचार पत्र का ई-संस्करण इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं। कंप्यूटर पर भी ये समाचारपत्र ठीक वैसे ही दिखाई देते हैं जैसे आपको वे परंपरागत छपे हुए स्वरूप में दिखाई देते हैं। आप वैसे ही पृष्ठ पलट सकते हैं, फोटो देख सकते हैं, और मनपसंद खबरें और पढ़ सकते हैं।

अखबारों के ये डिजिटल संस्करण पाठकों के लिए उनके मुद्रित रूप से कई मायनों में बेहतर हैं। न तो उन्हें अखबार खरीदना होता है और न ही इस बात की चिंता करनी होती है कि हॉकर अखबार डालकर गया है या नहीं। इंटरनेट के माध्यम से यह बिना किसी झंझट के पाठकों तक समय पर पहुँच जाता है। किसी मुद्दे पर टिप्पणी देना भी केवल एक क्लिक भर का काम है और कुछ ही पल में अखबार के दफ्तर में आपकी बात पहुँच जाती है।

अखबारों को परंपरागत रूप में पसंद न करने वाले युवा और इंटरनेट सेवी पाठकों के लिए लगभग सभी हिन्दी अखबारों ने अपने पोर्टल भी पेश किए हैं। इन पोर्टलों पर न सिर्फ समाचार, बल्कि हर पसंदीदा विषय पर सामग्री पा सकते हैं। संचार का त्वरित माध्यम होने के कारण अपने पोर्टलों के माध्यम से अखबार अपने पाठकों तक हर पल ताजा समाचार पहुँचाते हैं। आप इनकी आरएसएस सदस्यता लेकर अपने मेलबॉक्स या मोबाइल पर भी हिन्दी समाचार प्राप्त कर सकते हैं।

WD|
जितेन्द्र जायसवाल
इनकी ही तरह सभी प्रमुख हिन्दी पत्रिकाओं के भी पोर्टल मौजूद हैं। यहाँ आप उनके मुद्रित संस्करणों में छपे हर आलेख पढ़ सकते हैं। डिजिटलीकरण होने से अखबारों और पत्रिकाओं के संस्करणों को ढूँढना भी बहुत आसान हो गया है। जहाँ आप अखबारों के आर्काइव पर जाकर उनके पुराने संस्करण देख सकते हैं वहीं खोज इंजिन में आप केवल कुछ संबंधित शब्द डालकर सीधे इच्छित समाचार पर पहुँच सकते हैं।



और भी पढ़ें :