रेस्त्रां में भूल कर भी ऑर्डर नहीं करें तंदूरी रोटी, सच्चाई जानकर उड़ जाएंगे होश

सप्‍ताह में एक से दो बार बाहर के खाने की याद आ ही जाती है। साथ ही डाइटिंग कर रहे लोग भी सप्‍ताह में एक बार बाहर खाना जरूर पसंद करते हैं। रेस्त्रां में जाकर अगर कोई तवा रोटी ऑर्डर करना चाहे तो वह हंसी का पात्र बन जाता है। अधिकतर लोग तंदूरी रोटी ही खाना पसंद करते हैं। बड़े चाव से खाने वाले इस बात से अंजान है कि तंदूरी रोटी सेहत के लिए कितनी खतरनाक है। अगर आप भी तंदूरी रोटी खाते हैं तो आज जान लीजिए उसके खतरनाक परिणाम -

1. शुगर - तंदूरी रोटी को बनाने में मैदे का इस्‍तेमाल किया जाता है। जिससे 110 से 150 तक कैलोरी होती है। वहीं इसका सेवन करने से शरीर में ग्‍लाइसेमिक इंडेक्‍स बढ़ जाता है। जिससे डायबिटीज की संभावना अधिक हो जाती है। दरअसल, मैदे का लगातार सेवन से इंसुलिन बनने की मात्रा कम हो जाती है और वह डायबिटीज के शिकार हो जाते हैं। अगर डायबिटीज के मरीज है तो भूलकर भी तंदूरी रोटी का सेवन नहीं करना चाहिए। इसकी जगह आप तवा रोटी या आटे की मोटी रोटी खा सकते हैं।


2. दिल की बीमारी का जोखिम - तंदूरी रोटी का सेवन करने से दिल का खतरा बढ़ जाता है। तंदूरी रोटी की जगह आप गेंहू की मोटी रोटी खा सकते हैं। ऑक्‍सफोर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर झेंगमिंग चेन के मुताबिक 'लंबे वक्‍त तक ठोस ईधन का इस्‍तेमाल करने से दिल की बीमारी का खतरा अधिक बढ़ सकता है।'

3. हड्डियां होती है कमजोर - मैदा आटे से ही बनाया जाता है लेकिन इसको बनाने के तरीके से आटे के सभी गुण नष्‍ट हो जाते हैं। और अंत में यह एसिडिक बन जाता है। मैदा का सेवन करने से हड्डियां तेजी से कमजोर होती है। क्‍योंकि मैदा आपकी हड्डियों से कैल्शियम को कम करता है।





और भी पढ़ें :