शुक्रवार, 1 मार्च 2024
  • Webdunia Deals
  1. लाइफ स्‍टाइल
  2. सेहत
  3. हेल्थ टिप्स
  4. gud ki chai ke fayde in hindi
Written By WD Feature Desk

अगर सर्दियों में बचना है इन तकलीफों से तो पिएं हेल्थी गुड़ वाली चाय

एनीमिया से लेकर वेट लॉस में फ़ायदेमंद है जेगरी टी

jaggery benefits for periods
Jaggery Tea Benefits: सर्दियों में चाय पीने का अपना ही मजा है। सर्दियों में चाय बहुत भली लगती है और हम दिन में कई बार चाय पीने लगते हैं। ऐसे में चाय के साथ चीनी के प्रयोग से शरीर में शक्कर की मात्रा भी बढ़ने लगती है। इस बार सर्दियों में अपनी चाय को एक हेल्थी ड्रिंक बनाने के लिए उसमें शक्कर की जगह गुड़ का इस्तेमाल करें। इस तरह गुड़ की चाय पीने से आपकी सेहत को कई लाभ मिलते हैं। चलिए आज जानते हैं गुड़ की चाय पीने के फायदे।

वजन कंट्रोल होता है: सर्दियों के दौरान वजन कम करना बहुत मुश्किल होता है। इसके लिए आपको अपनी डाइट में कम कैलोरी युक्त फूड्स शामिल करना चाहिए। गुड़ की चाय पीने से आपका metabolism दुरुस्त रहता है, जिससे वजन को कम करने में मदद मिलती है।

इम्युनिटी बढ़ती है: गुड़ में जिंक और सेलेनियम जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो कि इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करते हैं । गुड़ में  कैल्शियम, पोटैशियम, विटामिन-बी, आयरन और कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। इस प्रकार यदि आप यदि गुड़ की चाय का नियमित सेवन करते हैं तो कई तरह की बीमारियों से बच सकते हैं।

पाचन में सुधार होता है: गुड़ की चाय पीने से डाइजेस्टिव सिस्टम अच्छा रहता है।

एनीमिया को ख़त्म करता है: गुड़ में पर्याप्त मात्रा में आयरन होता है जिससे शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी को खत्म करने में मदद मिलती है।

शरीर में गर्माहट बढ़ती है: गुड़ की तासीर गर्म होती है इसलिए सर्दियों में गुड़ की चाय पीने से शरीर में गर्मी बनी रहती है।

गुड़ की चाय की रेसिपी
  • गुड़ की चाय बनाने के लिए तपेली में पानी डालकर अच्छी तरह उबालें।
  • उबाल आने के बाद पानी में अदरक, हरी इलायची और गुड़ डालें।
  • अब इस मिश्रण को धीमी आंच पर पकाएं।
  • जब यह अच्छी तरह उबल जाए, तो गैस बंद कर दें।
  • तैयार है गुड़ वाली चाय।
  • वैसे तो इस चाय को बिना दूध के पीना चाहिए पर आप चाहें तो आंच से उतरने के बाद इसमें दो चम्मच गर्म दूध मिला सकते हैं।
Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।