Heart attack : इन 5 अजीब कारणों से भी बढ़ता है दिल का खतरा

heart attack
Last Updated: सोमवार, 4 अक्टूबर 2021 (15:54 IST)

हार्ट अटैक की बीमारी 30 साल की उम्र में तेजी से बढ़ने लगी है। इस बीमारी से बचाव के लिए खानपान का ख्‍याल रखा जाता है। लाइफस्‍टाइल बेहतर हो, नियमित व्यायाम,योग करना जरूरी है। तब इस बीमारी से बच सकते हैं। हालांकि शरीर में कभी-कभी ऐसी प्रतिक्रिया भी होती है जो हार्ट के लक्षण होते हैं लेकिन हम जागरूक नहीं होते हैं तो कई बार हमे
अंदाजा भी नहीं होता है कि यह हार्ट की बीमारी के लक्षण है। आइए जानते 5 हो सकते हैं -


1. तेज गुस्सा - गुस्सा करने से अध्ययन के मुताबिक 5 गुना अधिक बढ़ जाता है हार्ट अटैक का खतरा। रिसर्च के मुताबिक 2 घंटे तक हार्ट स्ट्रोक, हार्ट अटैक का खतरा बना रहता है। ऐसा 40 से अधिक उम्र वाले व्यक्ति में अधिक होता है।

2.दांतों से हार्ट को खतरा - सुनकर अजीब लग सकता है लेकिन आपको बता दें कि दांत और हार्ट का संबंध होता है। जी हां, मसूड़ों के बैक्टीरिया खून में पहुंचकर दिल के रोगों का
कारण बन सकते हैं। बैक्टीरिया के कारण रक्त प्रवाह प्रभावित होती है। इसलिए 6 महीने में दांतों का टेस्ट करा लेना चाहिए।

3. अकेलापन - जो लोग बहुत अधिक अकेलापन महसूस करते हैं उनमें हार्ट अटैक का खतरा अधिक होता है। 2018 साइंस डेली में छपे एक शोध के मुताबिक अकेलापन से हार्ट की
बीमारी का खतरा अधिक बढ़ता है।

4.लंबे वक्‍त तक काम करना - अधिक पैसा कमाने के लिए लोग 10 से 12 घंटे काम कर रहे हैं। लेकिन अब सावधान हो जाएं। जी हां, 'द लैंसेट' में एक शोध में सामने आया है
कि सप्ताह में 55 घंटे से अधिक काम करने से हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। जिसका प्रमुख कारण है लंबे वक्‍त तक बैठे रहना, अधिक तनाव, अल्कोहल का सेवन करना। सप्ताह में 45 घंटे या इससे कम काम करना दिल की सेहत के लिए अच्‍छा माना जाता है।


5.मोटापा - मोटापा तेजी से लोगों में बढ़ रहा है। वक्‍त रहते हैं वजन कम करना हार्ट अटैक से बचाना है। जी हां, मोटापा बढ़ने से हार्ट का क्‍या संबंध है यह आश्चर्य की बात है लेकिन बता दें कि हार्ट अटैक के लक्षण दिखने पर डॉक्टर मोटापा कम करने के लिए कहते हैं।




और भी पढ़ें :