2079 संवत्सर का नाम क्या है?

Gudi padwa 2022
Last Updated: शुक्रवार, 1 अप्रैल 2022 (14:44 IST)
हमें फॉलो करें
gudi padwa 2022
What is the name of 2079 Nav Samvatsar: 2 अप्रैल से नया हिन्दू नववर्ष 2079 प्रारंभ हो रहा है। प्रतिवर्ष चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से इस नववर्ष का प्रारंभ होता है। भारत के प्रत्येक राज्य में इसे अलग अलग नाम से जाना जाता है। इसी दिन से नव संवत्सर भी प्रारंभ होता है। इसीलिए हिन्दू नव वर्ष को नव संवत्सर भी कहते हैं।


क्या होता है संवत्सर : इस दिन से 60 संवत्सरों में से एक नया संवत्सर प्रारंभ होता है। जैसे धरती के 12 मास होते हैं उसी तरह के 60 संवत्सर होते हैं। इसीलिए इसे नव संवत्सर भी कहते हैं। संवत्सर अर्थात बारह महीने की कालविशेष अवधि। बृहस्पति के राशि बदलने से इसका आरंभ माना जाता है।

का नाम : वैदिक की गणना के अनुसार इस नव संवत्सर 2079 का नाम नल होगा जिसके स्वामी शुक्रदेव होते हैं। इस नवसंवत्सर के राजा शनि और मंत्री गुरु होंगे।

60 संवत्सरों के नाम : संवत्सर को वर्ष कहते हैं: प्रत्येक वर्ष का अलग नाम होता है। कुल 60 वर्ष होते हैं तो एक चक्र पूरा हो जाता है। इनके नाम इस प्रकार हैं:- प्रभव, विभव, शुक्ल, प्रमोद, प्रजापति, अंगिरा, श्रीमुख, भाव, युवा, धाता, ईश्वर, बहुधान्य, प्रमाथी, विक्रम, वृषप्रजा, चित्रभानु, सुभानु, तारण, पार्थिव, अव्यय, सर्वजीत, सर्वधारी, विरोधी, विकृति, खर, नंदन, विजय, जय, मन्मथ, दुर्मुख, हेमलम्बी, विलम्बी, विकारी, शार्वरी, प्लव, शुभकृत, शोभकृत, क्रोधी, विश्वावसु, पराभव, प्ल्वंग, कीलक, सौम्य, साधारण, विरोधकृत, परिधावी, प्रमादी, आनंद, राक्षस, नल, पिंगल, काल, सिद्धार्थ, रौद्रि, दुर्मति, दुन्दुभी, रूधिरोद्गारी, रक्ताक्षी, क्रोधन और अक्षय।



और भी पढ़ें :