दिल्ली में संक्रमण के मामलों में वृद्धि का कारण वायरस का ब्रिटिश स्वरूप हो सकता है : एनसीडीसी

पुनः संशोधित शुक्रवार, 23 अप्रैल 2021 (21:59 IST)
नई दिल्ली। दिल्ली में कोरोनावायरस (Coronavirus) की वर्तमान लहर का कारण में सामने आया वायरस का स्वरूप हो सकता है, क्योंकि मार्च के दूसरे से अंतिम सप्ताह में जीनोम श्रृंखला में इसकी उपस्थिति करीब दोगुनी पाई गई है। राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) के निदेशक सुजीत सिंह ने शुक्रवार को यह बात कही।
जीनोम सीक्वेंसिंग ऑफ सार्स-सीओवी-19 वेबिनार को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि ब्रिटेन में सामने आया वायरस का नया स्वरूप पंजाब में भी हावी है। एनसीडीसी के निदेशक ने कहा कि वर्तमान में दिल्ली के नमूनों में दो तरह के स्वरूप हैं, जिनमें बी.1.617 और ब्रिटिश स्वरूप शामिल हैं। कोरोनावायरस के बी.1.617 स्वरूप को ही दोहरा स्वरूप कहा जाता है।

सिंह ने कहा कि मार्च के दूसरे सप्ताह में 28 फीसदी नमूनों में ब्रिटेन में सामने आया वायरस का स्वरूप पाया गया, जबकि मार्च के अंतिम सप्ताह में 50 फीसदी नमूनों में इस स्वरूप की पहचान की गई। उन्होंने कहा, अगर हम इसे मिलाकर देखने का प्रयास करें तो दिल्ली में जो वर्तमान में संक्रमण के मामलों में उछाल है, उससे इसका सीधा जुड़ाव नजर आता है।(भाषा)



और भी पढ़ें :