MP: CM शिवराज का ऐलान, कंट्रोल में कोरोना, 17 मई के बाद इन जिलों से हटाया जा सकता है कोरोना कर्फ्यू

Last Updated: बुधवार, 12 मई 2021 (21:40 IST)
भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा है कि कोरोना कर्फ्यू का कड़ाई से पालन होने से कोरोना महामारी धीरे-धीरे नियंत्रण में आ रही है। कोरोना के नए संक्रमित प्रकरणों की संख्या प्रदेश में अब 4अंकों में आ गई है।
ALSO READ:
मध्यप्रदेश में 15 मई तक रहेगा 'कोरोना कर्फ्यू', 10वीं और 12वीं की प्रायोगिक परीक्षाएं स्थगित

चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण के मामले में देश के बड़े राज्यों में मध्यप्रदेश 15वें स्थान पर आ गया है। 25 प्रतिशत से लगातार घटकर 14 प्रतिशत से नीचे आ गई है, लेकिन हमें निश्चिंत नहीं होना है। अभी अधिक सावधानी की जरूरत है। कोरोना संक्रमण को पूरी तरह से समाप्त करने के लिए लंबा सफर तय करना है।
चौहान ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय मापदंडों के अनुसार यदि पॉजिटिविटी दर 5 प्रतिशत से नीचे आती है तो यह कोरोना संक्रमण के नियंत्रित होने का है। ऐसे जिले जहां कोरोना संक्रमण की पॉजिटिविटी दर 5 प्रतिशत से नीचे आ गई है, वहां 17 मई के बाद धीरे-धीरे वैज्ञानिक ढंग से कोरोना कर्फ्यू को हटाया जा सकेगा। जिन जिलों में पॉजिटिविटी रेट बढ़ा रहेगा, वहां कोरोना कर्फ्यू नहीं खुलेगा। मुख्यमंत्री ने प्रदेश की जनता से अपील की है कि वे कोरोना कर्फ्यू का कड़ाई से पालन करें।

ब्लैक फंगस का होगा फ्री इलाज : चौहान ने कहा कि ब्लैक फंगस बीमारी होने के समाचार मिल रहे हैं, लेकिन चिंता नहीं करें। इस बीमारी का भी नि:शुल्क इलाज कराएंगे। बीमारी होने की स्थिति में देर नहीं करें। शीघ्र बताएं। इस बीमारी का भी इलाज संभव है। पूरा मध्यप्रदेश एक परिवार है। सबको मिलकर कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ना है। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के उपायों का कड़ाई से पालन करना है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि 'किल कोरोना' (Kill Corona) अभियान को सफल बनाएं। अस्पतालों में बिस्तर, ऑक्सीजन, दवाइयों की कोई कमी नहीं है। जनसहयोग से किसी भी आपदा का सामना किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस अपने आप कम फैलता है। यह वायरस हमारे व्यवहार से ज्यादा फैलता है। यदि हम शादी-ब्याह, भीड़ और बड़े समारोह में गए तो कोरोना संक्रमण तेज गति से फैलता है। जनसहयोग से लागू कोरोना कर्फ्यू जब तक है, तब तक कोई भी घरों से बाहर नहीं निकलें। मई माह में शादी-ब्याह नहीं करें। जून माह में कोरोना संक्रमण नियंत्रित होने पर शादी-ब्याह आदि आयोजन छोटे स्तर पर किए जा सकते हैं।

चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण कुछ गांवों में भी फैला है। इसे नियंत्रित करने के लिए 'किल कोरोना' (Kill Corona) अभियान चल रहा है। सरकारी अमला मेहनत के साथ घर-घर दस्तक दे रहा है। सरकारी अमले के साथ राजनीतिक, सामाजिक कार्यकर्ता, गांव के वरिष्ठजन शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि यदि सर्दी-जुकाम, बुखार आदि कोरोना के लक्षण हैं तो छुपाए नहीं, बताएं। उपचार संभव है। सरकार ने नि:शुल्क उपचार की व्यवस्था की है। सरकारी अस्पतालों के साथ अनुबंधित निजी अस्पतालों में भी नि:शुल्क उपचार होगा। मरीज चाहे तो कोविड केयर सेंटर में जाकर भी अपना उपचार करवा सकते हैं। इस समय प्रदेश में 2 करोड़ 40 लाख आयुष्मान कार्डधारी हैं। गरीब, निम्न मध्यमवर्गीय आयुष्मान कार्डधारी कोरोना पीड़ितों का प्राइवेट अस्पताल में भी नि:शुल्क इलाज होगा। परिवार के पास एक आयुष्मान कार्ड है तो परिवार के बाकी सदस्यों का भी आयुष्मान कार्ड बनाया जाएगा।




उन्होंने कहा कि जिला, ब्लॉक, ग्राम और शहर के वार्ड स्तर पर क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों का गठन किया गया है। इन समितियों के सदस्य जनसहयोग से कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए युद्धस्तर पर कार्य कर रहे हैं। कोविड केयर सेंटर में इलाज की व्यवस्था है। कोरोना की जड़ों पर अंतिम प्रहार की जरूरत है। गांव और घर से बाहर नहीं निकले। कोरोना से पीड़ित होने पर आइसोलेशन में रहें। अपने गांव, ब्लॉक, शहर और जिले को कोरोनामुक्त बनाएं। सभी जन इस महाअभियान में जुटें। हमें अपने प्रदेश को कोरोना से बचाना है। शीघ्र ही सामान्य स्थिति प्राप्त करना है। (वार्ता)



और भी पढ़ें :