दारुल इफ्ता फरंगी महल ने कहा, कोरोना का टीका लगवाने से नहीं टूटेगा रोजा

Last Updated: मंगलवार, 13 अप्रैल 2021 (17:40 IST)
लखनऊ। ने अपने एक फतवे में कहा है कि कोरोना का टीका लगवाने से रोजा नहीं टूटेगा लिहाजा रमजान के महीने में रोजे की हालत में वैक्सीन ली जा सकती है। दारुल इफ्ता द्वारा मंगलवार को दिए गए इस महत्वपूर्ण फतवे में कहा गया है कि कोरोना टीके की दवा इंसानी बदन की रगों में दाखिल होती है, पेट के अंदर नहीं इसलिए इसके लगवाने से रोजा नहीं टूटेगा। मुसलमानों को केवल रोजे की वजह से कोविड-19 का टीका लगवाने में देर नहीं करनी चाहिए।
ALSO READ:
जरूरत के हिसाब से हो टीकाकरण, गरीब को हर महीने मिले 6 हजार रुपए, सोनिया गांधी का PM मोदी को लेटर

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के नागरिक अब्दुर्रशीद किदवाई ने दारुल इफ्ता से यह सवाल किया था कि कोविड-19 जैसी भयानक बीमारी इस समय अपने चरम पर है। इससे बचाव के लिए वैक्सीन इंजेक्शन के माध्यम से दी जा रही है। इसकी 2 खुराकें दी जाएगी। हमने कई दिन पहले इसकी पहली खुराक ली है। दूसरी खुराक रमजान में दी जाएगी। आपसे मालूम यह करना है कि क्या रोजे की हालत में वैक्सीन ली जा सकती है?
इस सवाल के जवाब में दारुल इफ्ता फरंगी महल ने यह फतवा दिया। इस फतवे पर मौलाना मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली, मौलाना नसरुल्लाह, मौलाना नईमुर्रहमान सिद्दीकी और मौलाना मुहम्मद मुश्ताक के दस्तखत हैं। (भाषा)



और भी पढ़ें :