ब्रिटेन में बच्चों और किशोरों में AstraZeneca के कोविड टीके के परीक्षण पर रोक, जानिए क्यों

Last Updated: बुधवार, 7 अप्रैल 2021 (09:07 IST)
लंदन। ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय ने कहा कि उसने एस्ट्राजेनेका की कोरोनावायरस बीमारी (कोविड-19) महामारी की 6 से 17 आयु वर्ग के बच्चों और किशोरों के लिए विकसित वैक्सीन का दिया है। 'द वॉल स्ट्रीट जर्नल' (डब्ल्यूएसजे) ने यह रिपोर्ट दी है।
ALSO READ:
‘एस्ट्राजेनेका’ की वैक्सीन लेने के बाद जमे खून के थक्के, 7 की मौत, आखि‍र क्‍या है माजरा?

ऑक्सफोर्ड के प्रवक्ता ने मंगलवार को कहा कि परीक्षण में सुरक्षा मुद्दों पर कोई ध्यान नहीं दिया गया है, लेकिन कोरोनावायरस वैक्सीन के संभावित लिंक की जांच करने के लिए और यूरोप में वयस्कों में थक्के जमने की परेशानियों को लेकर व्यापक चिंताएं हैं। इससे पहले यूरोपीय मेडिसिंस एजेंसी (ईएमए) ने कहा कि वह यूरोपीय देशों में एस्ट्राजेनेका टीके की पहली खुराक लेने वाले मरीजों के सामने आई दिक्कतों की जांच कर रहा है।


ऑस्ट्रिया, एस्टोनिया, लिथुआनिया, लातविया, लक्समबर्ग, डेनमार्क, बुल्गारिया, नॉर्वे, आइसलैंड, स्लोवेनिया, साइप्रस, इटली, फ्रांस, जर्मनी और स्पेन सहित कई यूरोपीय देशों ने के उपयोग को निलंबित कर दिया। ईएमए ने बाद में दवा का उपयोग जारी रखने की सिफारिश की जिसके बाद कई देशों ने इस वैक्सीन को लेकर फिर से टीकाकरण शुरू कर दिया है। (भाषा)



और भी पढ़ें :