DRDO की कोरोना दवा, 2DG कैसे करती है Coronavirus पर वार? क्या रहेगी कीमत...

Last Updated: शुक्रवार, 28 मई 2021 (16:02 IST)
नई दिल्ली। कोरोनावायरस से जंग में भारत एक नई दवा आज लांच करने जा रहा है। 2-deoxy-D-glucose यानी 2डीजी नाम के इस को (DRDO) के वैज्ञानिकों ने बनाया है। ने डीआरडीओ की एंटी कोविड दवा की पहली खेप लॉन्च की। इस कार्यक्रम में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और एम्स के निदेशक डॉ.रणदीप गुलेरिया भी मौजूद रहे। जानिए इस दवा के बारे में सबकुछ-

किसने तैयार किया : 2DG वह पहली दवा है जिसे एंटी-कोविड ड्रग कहा जा रहा है। 2डीजी असल में 2डीजी अणु का एक परिवर्तित रूप है जिससे ट्यूमर, कैंसर कोशिकाओं का इलाज होता है। DRDO के इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड अलाइड साइंसेस (INMAS) ने डॉ. रेड्डीज लैबोरेट्रीज के साथ मिलकर तैयार किया है।
कैसे ली जाएगी दवा : क्लीनिकल रिसर्च के दौरान 2-डीजी दवा के 5.85 ग्राम के पाउच तैयार किए गए। इसके एक-एक पाउच सुबह-शाम पानी में घोलकर मरीजों को दिए गए। इसके नतीजे अच्छे आए हैं। जिन मरीजों को दवा दी गई थी, उनमें तेजी से रिकवरी देखी गई। इसी आधार पर ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने इस दवा के इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी दी है।

कैसे करेगी काम : यह दवा काफी हद तक ग्‍लूकोज जैसी है, लेकिन ग्‍लूकोज नहीं है। वायरस शरीर में पहुंचते ही अपनी कॉपीज बनाना शुरू कर देता है, इसके लिए उसे ताकत चाहिए होती है जो ग्‍लूकोज से मिलती है। जब यह दवा दी जाएगी तो वायरस इस ग्‍लूकोज एनालॉग को लेगा और उसी में फंस जाएगा। नतीजा यह होगा कि वायरस अपनी कॉपीज नहीं बना पाएगा यानी उसकी ग्रोथ रुक जाएगी।
तीन फेज के ट्रायल : लैबोरेटरी एक्सपेरिमेंट में ही डीआरडीओ और हैदराबाद के सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मोलेक्युलर बायोलॉजी के वैज्ञानिकों ने पाया कि इसके अणु कोरोनावायरस के खिलाफ प्रभावी तौर पर असर करता है और उनका विकास रोक देता है। पहले हिस्से का प्रयोग 6 अस्पतालों में और दूसरे हिस्से का प्रयोग 11 अस्पतालों में किया गया।
2020 के मई से अक्टूबर के बीच फेज 2 का ट्रायल दो हिस्सों 110 में मरीजों पर किया गया। तीसरे चरण का क्लिनिकल ट्रायल पिछले साल दिसंबर से लेकर इस साल मार्च तक देश के 27 कोविड अस्पतालों में 220 मरीजों पर किया गया। दिल्ली, उत्तरप्रदेश, पश्चिम बंगाल, गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक और तमिलनाडु के अस्पतालों में ये ट्रायल किए गए।
क्या बाजार में आएगी दवा? : ये दवा फिलहाल अस्पतालों में डॉक्टर की सलाह पर ही दी जाएगी। अभी इसकी सिर्फ इमरजेंसी यूज की मंजूरी दी गई है। जब तक इस दवा को सामान्य इस्तेमाल की मंजूरी नहीं मिलती है, तब तक इसका बाजार में आना संभव नहीं है। DRDO की एंटी कोरोना ड्रग 2DG के 10,000 पैकेट सोमवार को इमरजेंसी यूज के लिए रिलीज किए जाएंगे। इन्हें मरीजों को दिया जाएगा। इस दवा को सबसे पहले दिल्ली के DRDO कोविड अस्पताल में भर्ती मरीजों को दिया जाएगा।
कीतनी होगी कीमत? : कीमत को लेकर किसी प्रकार का खुलासा नहीं किया गया है। इस बारे में कोई फैसला डॉ. रेड्डीज लैबोरेटरी ही करेगी। हालांकि उन्‍होंने यह जरूरी कहा कि दवा किफायती हो, इसका ध्‍यान रखा जाएगा। चिकित्सा विशेषज्ञों के मुताबिक एक सैशे की कीमत 500 से 600 रुपए के बीच हो सकती है।



और भी पढ़ें :