'तांडव' से हटाए जाएंगे विवादित सीन, विरोध के बाद निर्माताओं ने किया फैसला

Last Updated: मंगलवार, 19 जनवरी 2021 (23:35 IST)
मुंबई/भोपाल। अमेजन प्राइम वीडियो पर प्रसारित वेब सीरीज 'तांडव' के निर्माताओं ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने इस पर उठे विवाद के बाद लोगों की चिंताओं को दूर करने के लिए बदलाव करने का फैसला किया है। शो के निर्माताओं ने इसके बहिष्कार की बढ़ती मांग, देश के अनेक हिस्सों में इसके खिलाफ दर्ज प्राथमिकियों तथा पुतले जलाए जाने की घटनाओं के बीच यह फैसला किया। इस बीच कई नेताओं ने ओटीटी प्लेटफॉर्म पर करीब से निगरानी की जरूरत बताई है।
'तांडव' के खिलाफ आज मंगलवार को देशभर में कई जगहों पर प्रदर्शन हुए और शो के निर्देशक अली अब्बास जफर समेत अन्य के पुतले जलाए गए। 2 दिन के भीतर दूसरी बार अपने माफीनामे में शो की टीम ने इस विषय पर मार्गदर्शन तथा समर्थन के लिए सूचना और प्रसारण मंत्रालय का आभार भी जताया। निर्माताओं ने एक बयान में कहा कि 'तांडव' की कास्ट और क्रू ने वेब सीरीज को लेकर जताई गई चिंताओं पर ध्यान देने के लिए इसमें बदलाव करने का फैसला किया है।
ALSO READ:कंगना रनौट ने के डायरेक्टर अली अब्बास ज़फर से पूछा तीखा सवाल
अली अब्बास जफर द्वारा निर्देशित और सैफ अली खान, डिम्पल कपाड़िया और मोहम्मद जीशान अय्यूब अभिनीत 'तांडव' का प्रसारण पिछले सप्ताह शुरू हुआ लेकिन इसमें हिन्दू देवी-देवताओं के चित्रण को लेकर विवाद शुरू हो गया। इसमें विवाद के केंद्र में एक दृश्य है जिसमें कॉलेज छात्र शिवा का किरदार अदा कर रहे अय्यूब को एक मंच पर भगवान महादेव का अभिनय करते हुए दिखाया गया है। इस शो की टीम ने एक आधिकारिक वक्तव्य में दोहराया कि उनका किसी की भावनाओं को आहत करने का कोई इरादा नहीं था।
बयान में कहा गया कि हम देशवासियों की भावनाओं का बहुत सम्मान करते हैं। हमारा किसी व्यक्ति, जाति, समुदाय की धार्मिक भावनाओं या धार्मिक आस्थाओं को आहत करने या किसी संस्था, राजनीतिक दल या व्यक्ति (जीवित अथवा मृत) को अपमानित करने का कोई इरादा नहीं था। बयान में कहा गया कि अगर सीरीज से किसी व्यक्ति की भावनाएं गैर-इरादतन आहत हुई हैं तो हम एक बार फिर माफी मांगते हैं। शो निर्माताओं ने सोमवार को भी इस संबंध में खेद जताया था।
उधर मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को कहा कि 'अमेजन प्राइम वीडियो' पर दिखाई जा रही वेब सीरीज 'तांडव' के निर्माताओं के खिलाफ प्रदेश सरकार कथित तौर पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का मामला दर्ज करवाएगी। पत्रकारों द्वारा अमेजन प्राइम की वेब सीरीज 'तांडव' के बारे में पूछे जाने पर मिश्रा ने कहा कि जीशान अय्यूब, और अब्बास जफर ने जिस तरह से हमारे धर्म पर प्रतिक्रिया दी और हमारी भावनाओं को आहत किया, उसकी मैं निंदा करता हूं। मध्यप्रदेश सरकार इस संबंध में एक मामला दर्ज करेगी।
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इस वेब सीरीज की विषयवस्तु पर प्रतिक्रिया दी। उन्होंने ट्वीट किया कि हमारी आस्था पर चोट और हमारे देवी-देवताओं का अपमान करने का अधिकार किसी को नहीं है। ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर परोसी जा रही अश्लीलता हमारे किशोरों के लिए ठीक नहीं है इसलिए इन मंचों पर कड़ी निगरानी रखने की आवश्यकता है। केंद्र सरकार इस पर स्वत: संज्ञान ले रही है।
इससे पहले सोमवार को मध्यप्रदेश के मंत्री विश्वास सारंग और राज्य विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से अपील की थी कि वे हिन्दू देवी-देवताओं का कथित तौर पर उपहास उड़ाने के आरोप में अमेजन प्राइम वीडियो की सीरीज 'तांडव' पर प्रतिबंध लगाया जाए।
हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने मांग की कि 'तांडव' को अमेजन के प्लेटफॉर्म से हटाया जाए। इस शो ने हिन्दू समुदाय की भावनाओं को आहत किया है और केंद्र सरकार को ऐसा प्रावधान बनाना चाहिए कि कोई वेब सीरीज सेंसर बोर्ड की मंजूरी के बिना दर्शकों तक नहीं पहुंचे। उत्तराखंड भाजपा के उपाध्यक्ष देवेंद्र भसीन ने भी कहा कि ओटीटी प्लेटफॉर्म पर स्ट्रीमिंग से पहले सभी वेब सीरीज की स्क्रीनिंग होनी चाहिए।

ओटीटी की सामग्री केंद्रीय फिल्म प्रमाण बोर्ड (सीबीएफसी) के दायरे में नहीं आती। हालांकि सरकार ने हाल ही में नेटफ्लिक्स, अमेजन प्राइम वीडियो, डिज्नी हॉटस्टार जैसे ओटीटी प्लेटफॉर्म और अन्य ऑनलाइन समाचार सामग्री को सूचना और प्रसारण मंत्रालय के दायरे में लाने का फैसला किया था और उसे डिजिटल सामग्री के लिए नियम तथा नीतियां बनाने का अधिकार दिया था। इससे पहले मुंबई से भाजपा सांसद मनोज कोटक और मुंबई में पार्टी के विधायक राम कदम भी इस वेब सीरीज को लेकर आपत्ति जता चुके हैं।
फिल्मकार अली अब्बास जफर ने हिमांशु किशन मेहरा के साथ इस राजनीतिक पृष्ठभूमि पर आधारित थ्रिलर का निर्माण व निर्देशन किया है। इसे गौरव सोलंकी ने लिखा है जिन्होंने फिल्म 'आर्टिकल 15' की पटकथा भी लिखी थी। इस बीच हरियाणा में कुछ स्थानों पर बजरंग दल और विहिप कार्यकर्ताओं ने तथा उत्तरप्रदेश में हिन्दू जागरण मंच के सदस्यों ने सीरीज के निर्माताओं और अदाकारों के पुतले जलाए। विहिप ने जफर के खिलाफ रासुका लगाए जाने की मांग की। उत्तरप्रदेश में 'तांडव' के निर्माताओं और कलाकारों के खिलाफ लखनऊ, ग्रेटर नोएडा और शाहजहांपुर में 3 प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं। (भाषा)



और भी पढ़ें :