रविवार, 2 अप्रैल 2023
  1. मनोरंजन
  2. बॉलीवुड
  3. बॉलीवुड न्यूज़
  4. happy birthday america ohio state celebrates shreya ghoshal day every year
Written By WD Entertainment Desk
Last Updated: रविवार, 12 मार्च 2023 (10:19 IST)

4 साल की उम्र में श्रेया घोषाल ने ली संगीत की शिक्षा, अमेरिका में मनाया जाता है 'श्रेया घोषाल दिवस'

बॉलीवुड की फेमस सिंगर श्रेया घोषाल 12 मार्च को अपना बर्थडे सेलिब्रेट कर रही हैं। अपनी सुरीली आवाज से लाखों लोगों को दिवाना बनाने वाली श्रेया का जन्म 1984 में पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में हुआ था। उन्होंने बेहद कम समय में अपनी सुरीली आवाज से बड़ी सक्सेस हासिल की है। श्रेया घोषाल ने कई अलग-अलग भाषाओं में फिल्मों और एल्बमों के लिए गाने रिकॉर्ड किए हैं। 

 
श्रेया घोषाल ने महज चार साल की उम्र में ही गायकी की शिक्षा लेना शुरू कर दिया था। श्रेया की पहली गुरू उनकी मां ही थीं। श्रेया ने छह साल की उम्र में शास्त्रीय संगीत में अपना औपचारिक प्रशिक्षण शुरू किया। श्रेया सोलह साल की उम्र में टीवी सिंगिंग रियलिटी शो 'सारेगामापा चाइल्ड स्पेशल' की विनर बनीं। इसके बाद संजय लीला भंसाली ने उन्हें 2002 में रिलीज हुई फिल्म 'देवदास' के गाने 'बैरी पिया' गाना गाने का मौका दिया। 
 
फिल्म देवदास में 'पारो' की आवाजके सभी गाने श्रेया ने गाए थे। इसमें 'सिलसिला ये चाहत का', 'डोला रे डोला', भी शामिल है। एक इंटरव्यू के दौरान श्रेया घोषाल ने बताया था कि वह रिहर्सल के लिए 'बैरी पिया' गाना गा रही थीं। जब गाना खत्म हुआ, तो संजय लीला भंसाली ने उन्हें बताया कि उन्होंने इतना अच्छा गाया कि इसे ही रिकॉर्ड कर लिया गया है।
 
श्रेया घोषाल प्लेबैक सिंगर के अलावा कई टेलीविजन रियलिटी शो बतौर जज के रूप में दिखाई देती हैं। अपनी सिंगिंग के लिए श्रेया ने अपने नाम कुल 6 फिल्म फेयर अवॉर्ड और चार नेशनल अवॉर्ड कर चुकी हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि अमेरिका के एक राज्य में हर साल 26 जून को ‘श्रेया घोषाल दिवस’ मनाया जाता है।
 
श्रेया घोषाल को संयुक्त राज्य अमेरिका में ओहियो राज्य द्वारा सम्मानित ‍किया गया है, जहें के गर्वनर ने 26 जून को 'श्रेया घोषाल दिवस' के रूप में घोषित किया है। इतना ही नहीं श्रेया घोषाल पहली भारतीय सिंगर है जिनका मोम का पुतला दिल्ली के मैडम तुसाद म्यूजियम में लगा है। 
Edited By : Ankit Piplodiya
ये भी पढ़ें
'टॉम बॉय' लुक में क्यों रहती हैं गरबा क्वीन फाल्गुनी पाठक?