कोरोना के डर को दूर भगाएं, इन रोमांटिक फिल्मों से मन बहलाएं

Last Updated: सोमवार, 16 मार्च 2020 (15:48 IST)

इस समय चारों ओर कोरोना का खौफ है। जितनी मुंह उतनी बातें। सभी अपने-अपने फंडे झाड़ रहे हैं। इन सब बातों को सुन-सुन कर लोग पक रहे हैं और मायूस भी हो रहे हैं। अहम बात है कि सावधानी बरतें और घर पर ही रहें। स्कूल-कॉलेज में छुट्टियां हो गई हैं। कई लोग घर से ही काम कर रहे हैं।

घर पर वक्त कैसे काटा जाए ये भी समस्या सामने आने लगी है। मन बहलाने के लिए फिल्में बहुत अच्छा माध्यम हैं। यहां पर हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसी रोमांटिक फिल्मों की जिन्हें देख आप कुछ देर के लिए कोरोना के डर को दिमाग से दूर कर सकते हैं।

ये वो फिल्में हैं जो सन् 2000 के बाद रिलीज हुई हैं। जिन्होंने बदल दी प्यार की परिभाषा और दर्शकों को चौंका दिया। ऐसी कहानियां और किरदार कि लोग इनके साथ खुद को जोड़ लें। इनकी दुनिया में खो जाएं। इन्हीं फिल्मों की बीच कुछ ऐसी फिल्में भी आईं जो लीक से हटकर थीं। इन फिल्मों ने प्यार की कनेवेंशनल डेफिनेशन को नकार दिया और दो लोगों के बीच ऐसे रिश्ते बने जो आमतौर पर कॉमन नहीं रहे।

सबसे अलग बात ये रही कि दर्शकों ने इन फिल्मों पर अपनी मुहर लगाकर साबित कर दिया वे नई बातों को स्वीकरने के लिए तैयार हैं। इन फिल्मों के लीड एक्टर लोगों को अपने आसपास जैसे लगे। लोग अपनी जिन्दगी में उन्हें तलाशने लगे। तो पेश है ऐसी फिल्में जो पिछले दो दशक में आईं और लोगों के दिलों में अपनी छाप छोडने में कामयाब रहीं। इन्हें आप विभिन्न प्लेटफॉर्म्स पर देख सकते हैं।

1) लव आज कल : 2009 में आई सैफ अली खान और दीपिका पादुकोण स्टारर फिल्म लव आज कल में दो अलग जनरेशन में प्यार को लेकर लवर्स की समझ पर रोशनी डाली है। जहां एक जनरेशन प्यार को जीवन में एक बार होने वाली चीज समझती है वहीं दूसरी जनरेशन के लिए ये बार बार होने वाला इवेंट है।

2) हम तुम : 2004 में आई सैफ अली खान और रानी मुखर्जी की इस फिल्म में एक यंग केयरफ्री अपनी मस्ती में मस्त लड़के और पति को खो चुकी एक लड़की की लव लाइफ दिखाई गई है। बढ़िया गाने और एक्टिंग से सजी यह फिल्म देखने लायक है। इसे दर्शकों का भरपूर प्यार मिला था।

3) लंच बॉक्स : इरफान खान की लंच बॉक्स 2013 में रिलीज हुई थी। ये एक ऐसी फिल्म थी जिसमें दो ऐसे लोगों की नजदीकियां दिखाई थी, जिनका आमतौर पर कोई मेल नहीं हो सकता था। लेकिन परिस्थितियां ऐसी बनती हैं कि एक बुजुर्ग आदमी और एक कम उम्र की शादीशुदा महिला बिना मुलाकात किए ही करीब आ जाते हैं।

4) चीनी कम : 2007 में अमिताभ बच्चन और तब्बू की चीनी कम में एक बार फिर से एक बेमेल जोड़ी को साथ दिखाया। जिनके बीच उम्र का लंबा फासला भी किसी तरह की परेशानी खड़ी नहीं कर सका।

5) तेरे नाम : 2003 में सलमान खान ने इस फिल्म में राधे बन लोगों के दिलों पर अपनी एक अलग ही छाप छोड़ी। असफल प्यार किसी को किस हालत में पहुंचा सकता है इस फिल्म की खासियत रही। सलमान का हेअर स्टाइल और गाने बहुत पसंद किए गए। सलमान खान के करियर की बेस्ट फिल्मों में से यह एक मानी जाती है।

6) क्या कहना : 2000 में रिलीज हुई प्रीटी जिंटा और सैफ अली खान की क्या कहना एक सामाजिक मुद्दे को उजागर करने में सफल साबित हुई। शादी से पहले प्रेग्नेंट होने और उस दौरान लड़की और उसके परिवार की परेशानियों के इर्दगिर्द यह फिल्म रही।

7) मैं मेरी पत्नी और वो : 2005 में आई इस फिल्म में हीरो के नाम पर राजपाल यादव थे जो अपनी कम हाईट के कारण हमेशा खुद को कमतर समझते रहे। एक लंबी हाईट की पत्नी के कारण उनको जो मुश्किलें आती हैं उसे फिल्म में बखूबी दिखाया गया।

8) कभी अलविदा ना कहना : 2006 में आई कभी अलविदा ना कहना में नामचीन सितारों की भरमार है। शाहरुख खान, अभिषेक बच्चन, रानी मुखर्जी और प्रीटी जिंटा की इस फिल्म में एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयर के मुद्दे को उभारा गया है।
9) तमाशा : 2015 में आई तमाशा में रणबीर कपूर और दीपिका पादुकोण लीड रोल में थे। ये कपल एक दूसरे से अपनी पहचान को छुपाकर साथ रहते है, करीब आते है और फिर अपनी राह पर चल देते हैं। फिर जब ये दोबारा मिलते हैं तो क्या होता है फिल्म की कहानी है। निर्देशक इम्तियाज़ अली ने बारीकी से अपनी बात इस फिल्म में रखी है।

10) गदर एक प्रेम कथा : 2001 में आई सनी देओल और अमीषा पटेल की फिल्म गदर को भले ही एक्शन फिल्म माना जाता हो, लेकिन इसकी सफलता इसकी लव स्टोरी में है। यह एक ऐसे पति की कहानी है जो अपनी पत्नी को वापस लाने के लिए सरहद पार करता है और अकेला ही पूरे देश से भिड़ जाता है।

11) जब वी मेट : 2007 में रिलीज हुई करीना कपूर खान और शाहिद कपूर की इस फिल्म में करीना के किरदार को लोगों का भरपूर प्यार मिला क्योंकि अपनी मस्ती में मगन एक अल्हड सी लडकी की जिंदगी में क्या क्या बदलाव होते हैं और उसका ये मस्तीभरा अंदाज उसे किस मुसीबत में डालता है इस फिल्म में बखूबी दर्शाया गया।

12) बाजीराव मस्तानी : बाजीराव और मस्तानी की प्रेम कहानी को संजय लीला भंसाली ने सूक्ष्मता के साथ दिखाया। रणवीर सिंह, दीपिका पादुकोण और प्रियंका चोपड़ा की अदाकारी फिल्म को अलग ही स्तर पर ले जाती है। बाजीराव-मस्तानी के प्रेम को दर्शक गहराई के साथ महसूस करते हैं।

13) कॉकटेल : 2012 में दीपिका पादुकोण और सैफ अली खान की इस फिल्म में अफेयर मटेरियल और मैरिज मटेरियल को लेकर लोगों के मन में अंतर पर जोर डाला गया। अफेयर किसी के भी साथ लेकिन शादी को लेकर अलग नियम आड़े आ जाते हैं।

14) गलियों की रासलीला रामलीला : दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह की केमेस्ट्री इसी फिल्म से नजर आने लगी थी। दो दुश्मनी वाले परिवारों के बाद इनकी मोहब्बत को मुकाम पर पहुंचाने की जिद कैसे इनके खत्म होने की इबारत लिखती है फिल्म में बखूबी दिखाया गया है।


- निवेदिता भारती और नेहा रेड्डी



और भी पढ़ें :