बिजली क्षेत्र को चाहिए डेढ़ लाख लोग

नई दिल्ली (वार्ता)| वार्ता| पुनः संशोधित सोमवार, 2 नवंबर 2009 (09:39 IST)
देश में की व्यापक संभावनाओं को देखते हुए वर्ष 2018 तक 250 अरब डॉलर के की जरूरत होगी। इससे डेढ़ लाख से ज्यादा कुशल और अकुशल कामगारों को मिल सकेगा।

उद्योग संगठन (भारतीय उद्योग परिसंघ) सीआईआई के एक अध्ययन 'सतत विकास भारतीय बिजली बाजार का भविष्य' के अनुसार देश में वर्ष 2017 तक बिजली की माँग की वृद्धि दर साढ़े सात से आठ प्रतिशत के बीच रहेगी।

अध्ययन के अनुसार देश के बिजली क्षेत्र में अगले पाँच से नौ वर्ष तक 250 अरब डॉलर के निवेश की आवश्यकता होगी। इस क्षेत्र में डेढ़ लाख लोगों को रोजगार मिलेगा।
देश में बिजली की माँग और आपूर्ति में भारी अंतर है। देश में बिजली की प्रति व्यक्ति खपत को ब्राजील और चीन के स्तर तक लाने के लिए बिजली उत्पादन की उच्च वृद्धि दर को बनाए रखना होगा।

सीआईआई का मानना है कि बिजली क्षेत्र के विकास को सतत बनाए रखने के लिए नए संयंत्र लगाने और पुराने संयंत्रों को पूरी क्षमता से काम करना होगा।



और भी पढ़ें :