चटपटी कहानी : चम्पू पहलवान का देशप्रेम

WD|
FILE

एक गांव में चम्पू की दूध की एक बड़ी दुकान थी। वे सुबह जी भर के दूध बेचते। फिर दोपहर में खाट डालकर वहीं देर तक सोते। शाम को दंड लगाते और कुश्ती करते। इस पहलवान के मजबूत शरीर में देश के लिए बहुत प्रेम था। वह मन का कोमल था। उसे अपने देश से खूब प्यार था।
देश की बात आने पर वे भावुक हो उठते थे, कहें तो पक्के देशप्रेमी थे। कोई किसी और देश की बात करता तो पहलवान के पास अपने देश के बारे में कहने को खूब था। बिल क्लिंटन की कोई तारीफ करें तो पहलवान को कोई मतलब नहीं था, पर अगर अपने देश को किसी ने भला-बुरा कहा तो बस फिर पहलवान से बुरा कोई नहीं।


और भी पढ़ें :